मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> प्रदर्शनकारी नेता का दावा- फिरोजपुर एसएसपी ने दी थी PM मोदी के काफिले के गुजरने की जानकारी

प्रदर्शनकारी नेता का दावा- फिरोजपुर एसएसपी ने दी थी PM मोदी के काफिले के गुजरने की जानकारी

नयी दिल्ली 6 जनवरी 2022 । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफिले को कल पंजाब के फिरोजपुर में प्रदर्शनकारियों की वजह से एक फ्लाईओवर पर करीब 20 मिनट तक रुकना पड़ गया। यह उनकी सुरक्षा में एक बड़ी चूक थी। इसके बाद से यह सवाल लगातार उठ रहा है कि आखिर प्रदर्शनकारियों तक प्रधानमंत्री की अचानक बदली सड़क मार्ग की यात्रा की जानकारी किसने दी थी। किसान संघ के एक नेता ने कहा है कि फिरोजपुर के एसएसपी ने खुद इसकी जानकारी उन्हें दी थी। इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें यह लगा कि एसएसपी हमें तीतर-बितर करने के लिए ऐसा बोल रहे हैं। अगर हमें पता होता कि पीएम वास्तव में उन मार्गों पर जा रहे हैं, तो वे अलग तरह से प्रतिक्रिया देते। भारतीय किसान यूनियन क्रांतिकारी (फूल) के राज्य महासचिव बलदेव सिंह जीरा ने कहा, “आखिरकार, वह हमारे पीएम हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “फिरोजपुर एसएसपी हमें सूचित करने आए थे कि पीएम इस सड़क पर जा रहे हैं, लेकिन हमें लगा कि वह हमें तितर-बितर करने के लिए वह ऐसा कह रहे हैं। हम वहां भाजपा के वाहनों को रोकने के लिए थे। अगर हमें पता होता कि पीएम वास्तव में इस रूट पर यात्रा कर रहे हैं तो हमारी प्रतिक्रिया कुछ और होती।” जीरा ने कहा कि वे लुधियाना-फिरोजपुर राजमार्ग पर पियारेना गांव के पास नाले पर बने पुल पर धरना दे रहे थे। हमने अपने धरने से बचने के लिए भाजपा के वाहनों को रैली के लिए वैकल्पिक मार्ग लेने के लिए कहा था। हमें लगा कि पीएम हेलिकॉप्टर से पहुंचेंगे। बाद में हमें टेलीविजन समाचारों से पता चला कि पीएम ट्रैफिक जाम में फंस गए और हमारे धरने के कारण वापस लौट गए।

किसान संघ के नेता ने कहा कि प्रशासन के प्रति उनकी प्रतिक्रिया अलग हो सकती है अगर उन्हें पता होता कि पीएम वास्तव में यह रास्ता अपना रहे हैं। आखिर वे हमारे प्रधान मंत्री हैं।

जीरा ने आरोप लगाया कि धरना स्थल पर भाजपा कार्यकर्ताओं और प्रदर्शन कर रहे किसानों के बीच झड़प हुई। उन्होंने कहा, “हमने बीजेपी कार्यकर्ताओं को ले जाने वाली बसों और वाहनों के ड्राइवरों से एक वैकल्पिक मार्ग लेने का अनुरोध किया था, लेकिन उनके एक समूह ने ऐसा नहीं किया। हमारे कुछ लोग झड़प में घायल हो गए।”
इससे पहले जब पीएम फिरोजपुर जा रहे थे तो पुलिसकर्मियों की एक टुकड़ी प्रदर्शनकारियों के पास पहुंची और कुछ अधिकारियों ने जीरा के साथ बातचीत की। कुछ मिनटों के बाद ज़ीरा ने हाथ में एक माइक लेकर घोषणा की, “पुलिस प्रशासन हमारे पास आया है। वे कह रहे हैं कि उनकी नौकरी खतरे में है और मोदी को यहां से जाना है। मुझे लगा कि वे (पुलिस) हमारे भाई हैं… हमें सहयोग करना चाहिए। लेकिन, अब मुझे पता चला है कि मोदी को यहां से गुजरने की जरूरत नहीं है। वह पहले से ही हुसैनीवाला में है। पत्रकारों ने हमें बताया है।”

इस बीच एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि पीएम तलवंडी भाई पहुंच गए हैं और रास्ते में हैं। हालांकि, प्रदर्शनकारियों ने उन पर विश्वास करने से इनकार कर दिया। तलवंडी भाई धरना स्थल से 20 किमी दूर है। कुछ मिनटों के बाद पुलिस ने ज़ीरा को फिर से समझाने की कोशिश की।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘राजपूत नहीं, गुर्जर शासक थे पृथ्वीराज चौहान’, गुर्जर महासभा की मांग- फिल्म में दिखाया जाए ‘सच’

नयी दिल्ली 21 मई 2022 । राजस्थान के एक गुर्जर संगठन ने दावा किया कि …