मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> वतन पर मर मिटने वाले अश्विनी के परिवार को दिए 1 करोड़

वतन पर मर मिटने वाले अश्विनी के परिवार को दिए 1 करोड़

भोपाल। मध्य प्रदेश की सियासी जंग फतह करने के बाद सत्ता की कमान कमलनाथ को सौंपी गई है। कांग्रेस ने चुनाव के दौरान वचन पत्र में किए गए कर्ज माफी, सामाजिक सुरक्षा पेंशन में वृद्धि, कन्या विवाह में 51 हजार रुपए देने जैसे वादे पूरे कर यह साबित कर दिया प्रदेश के मुखिया कमलनाथ वचन के पक्के हैं। 14 फरवरी को आतंकी हमले में शहीद हुए मप्र के जबलपुर के जवान अश्विनी कुमार के परिवार को कमलनाथ सरकार ने एक करोड़ की सहायता राशि देने का ऐलान किया था। अपनी घोषणा पूरी करते हुए प्रदेश सरकार ने शहीद के परिजनों को यह सहायता राशि प्रदान कर दी है। मंगलवार को जिला कलेक्टर छवि भारद्वाज ने ईं बैंकिंग के माध्यम से राशि परिजनों के खाते में ट्रांसफर की।

देश के लिए मर मिटा जबलपुर का लाल
आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के 42 जवानों में मध्यप्रदेश के जबलपुर का लाल अश्वनी कुमार काछी भी शामिल था। शहीद अश्वनी जिला मुख्‍यालय से 44 किमी दूर सिहोरा स्थित खुड़ावल गांव के रहने वाले थे। 2017 में उनकी पहली पोस्टिंग श्रीनगर में हुई थी। अश्वनी कुमार सीआरपीएफ की 35वीं बटालियन में तैनात थे।

डोनाल्ड ट्रंप ने पुलवामा हमले को बताया भयावह, अमेरिका बोला- दोषियों पर एक्शन ले पाकिस्तान

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले को लेकर पाकिस्तान दुनियाभर में आलोचना का सामना कर रहा है. हमले के 5 दिन बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी इस मामले में पाकिस्तान को लताड़ा है और भारत का साथ दिया है. डोनाल्ड ट्रंप ने पुलवामा हमले को ‘भयावह’ बताया है. उनके अलावा अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि पाकिस्तान को आतंकियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए.

मंगलवार को अपने ओवल ऑफिस में मीडिया से बात करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि मुझे उसपर (पुलवामा हमले) पर रिपोर्ट्स मिल रही हैं, हम इस पर सही समय पर कमेंट करेंगे. अच्छा होगा, अगर दोनों देश साथ आते हैं. पुलवामा में जो भी हुआ वह भीषण था, हमें लगातार रिपोर्ट्स मिल रही हैं.

विदेश मंत्रालय ने भी लताड़ा

वहीं, अमेरिकी विदेशी विभाग ने कहा है कि पुलवामा हमले के बाद वह भारत के साथ खड़ा है, पाकिस्तान को इसके जिम्मेदार लोगों पर सख्त कार्रवाई करनी चाहिए. विदेश विभाग के डिप्टी प्रवक्ता रॉबर्ट पॉलडिनो ने कहा कि पुलवामा हमले के साथ ही अमेरिका भारत के संपर्क में है, हम ना सिर्फ इस हमले की भर्तस्ना करते हैं बल्कि हम भारत के साथ भी खड़े हैं.

उन्होंने कहा कि हम अपील करते हैं कि पाकिस्तान को इस हमले की जांच करने में मदद करनी चाहिए और अगर कोई दोषी निकलता है तो उसे सजा देनी चाहिए. उन्होंने ये भी बताया कि हम लगातार पाकिस्तान के संपर्क में भी हैं.

‘भारत को कार्रवाई का हक’

इससे पहले भी अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) जॉन बॉल्टन ने भी भारत के NSA अजित डोभाल से इस मुद्दे पर बात की थी और कहा था कि भारत को एक्शन लेने का पूरा अधिकार है. इसके अलावा अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने भी पुलवामा हमले की भर्तस्ना की थी.

शहीद हुए थे हमारे 40 जवान

आपको बता दें कि 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में भारत के 40 जवान शहीद हुए थे. इस हमले को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी आदिल अहमद डार ने अंजाम दिया था. जैश-ए-मोहम्मद पाकिस्तान की जमीन से बैठकर भारत में आतंक फैलाता है.

भारत की मांग है कि पाकिस्तान जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर कार्रवाई करे अन्यथा भारत को सौंप दे. भारतीय सुरक्षाबलों ने पुलवामा हमले के 100 घंटे के अंदर ही इसके मास्टरमाइंड रहे गाज़ी उर्फ राशिद, कामरान और हिलाल को मार गिराया था.

गौरतलब है कि मंगलवार को ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पुलवामा हमले को लेकर बयान जारी किया, उन्होंने कहा कि पाकिस्तान का इससे कोई लेना-देना नहीं है. अगर भारत कोई सबूत देता है तो हम उसपर कार्रवाई करेंगे. हालांकि, इसी बयान में इमरान भारत को युद्ध के लिए धमकाते हुए दिखे.

भारत की बड़ी कूटनीतिक कामयाबी, मसूद अजहर के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र में प्रस्ताव लाएगा फ्रांस

पुलवामा हमले के बाद भारत को बड़ी कूटनीतिक कामयाबी मिली है। फ्रांस संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना और भारत में कई हमलों के जिम्मेदार मसूद अजहर को पूर्ण प्रतिबंधित करने का प्रस्ताव देगा। पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले की जिम्मेदारी भी जैश-ए-मोहम्मद ने ही ली है। यह जानकारी फ्रांस सरकार के सूत्रों ने दी है।
यह दूसरा मौका होगा, जब ऐसे किसी प्रपोजल को फ्रांस यूएन के सामने पेश करेगा। इससे पहले 2017 में अमेरिका ने यूके के समर्थन से यूएन के सेक्शन कमिटी 1267 के तहत पाकिस्तानी आतंकी संगठन को प्रतिबंधित करने की मांग की थी। हालांकि उस प्रस्ताव को चीन ने रोक दिया था।
फ्रांस सरकार के अहम सूत्र ने पीटीआई को बताया, ‘अगले एक-दो दिन में ही फ्रांस संयुक्त राष्ट्र में प्रस्ताव देगा, जिसमें मसूद अजहर को आतंकी लिस्ट में शामिल करने की मांग की जाएगी।’ सूत्रों ने बताया कि फ्रांस के इस प्रस्ताव पर फ्रांस के राष्ट्रपति के कूटनीतिक सलाहकार और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के बीच आज सुबह ही चर्चा हुई। फ्रांस ने इस बात पर भी जोर दिया कि दोनों देशों को अपने राजनयिक प्रयासों का समन्वय करना चाहिए।
बता दें कि पुलवामा हमले के एक दिन बाद भारत ने शुक्रवार को अंतरराष्ट्रीय पटल पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने की मुहिम शुरू कर दी थी। विदेश सचिव विजय गोखले ने दिल्ली में करीब दो दर्जन राजदूतों से मुलाकात की। भारत ने पाकिस्तान से सबसे तरजीही राष्ट्र (एमएफएन) का दर्जा भी वापस ले लिया। नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा है कि एमएफएन का दर्जा वापस लेने से पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल असर होगा।
पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद द्वारा की गई हरकत पर सरकार पूरी तरह से बदले के मूड में है और आतंकी गतिविधियों में पाकिस्तान की मिलीभगत की पोल खोलकर उसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उजागर किया जा रहा है। सरकार अपनी रणनीति के तहत देश के साथ-साथ वैश्विक स्तर पर सबको अपने विश्वास में लेना चाहती है ताकि इस घटना का सैन्य स्तर पर मुंहतोड़ जवाब दिया जा सके।

Bihar IAS officer offers to adopt daughters of soldiers killed in Pulwama

An IAS officer in Bihar has volunteered to help the families of two soldiers of the Central Reserve Police Force (CRPF) who laid down their lives in the Pulwama terror attack last week. Inayat Khan, the District Magistrate of
Sheikhpura, 117 km from Patna, has also offered to “adopt” a girl child from each of the families. While one of the soldiers has two daughters, the other soldier has only a son. His wife is pregnant with their second child.
Khan, a Bihar cadre IAS officer, announced that she will fund the education of two girls, one daughter each of CRPF soldiers Ratan Kumar Thakur and Sanjay Kunar Sinha.
The Agra-born 2012 batch officer also asked officials to open an account in Sheikhpura to raise funds for their families. “Whatever amount will be collected by March 10, we will divide and give it to their families. I want to
appeal to the people to contribute as much as you can so that we can stand by their families at a time when they need our support,” she said.
Khan said she is donating two days’ salary to the families of the two soldiers. “I have requested all government staff of my district to donate their one day’s salary to the families of the two martyrs,” she said.
The Bihar government had also announced that besides the financial compensation, additional help will be given to the families of the soldiers.
Solider Sanjay Kumar Sinha’s family said he had left home for Kashmir only last week after a month-long vacation. The grieving family of Ratan Kumar Thakur said he had said he had promised to give them a call on that fateful
day. “Ratan had told us that he would call by evening, soon after joining work in Srinagar. But we received a call from his superior instead, and it was to inform us about this terrible news,” said Niranjan Thakur, the CRPF
constable’s father.
“Ratan had told us that he would call by evening, soon after joining work in Srinagar. But we received a call from his superior instead, and it was to inform us about this terrible news,” said Niranjan Thakur, the CRPF constable’s
father.
Over 40 CRPF troopers laid down their lives last week in a suicide attack by the Pakistan-based terrorist group Jaish-e-Mohammed.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

अमित शाह के बयान पर नीतीश कुमार का तंज, बोले- इतिहास कोई कैसे बदल सकता है

नयी दिल्ली 14 जून 2022 । बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी सहयोगी पार्टी बीजेपी …