मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> 50 रुपये में 100 किलो प्याज… वायरल वीडियो पर पीड़ित किसान ने बताई पूरी कहानी

50 रुपये में 100 किलो प्याज… वायरल वीडियो पर पीड़ित किसान ने बताई पूरी कहानी

 मंदसौर 4 जनवरी 2022 । मध्य प्रदेश के मंदसौर से किसान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें किसान अपनी उपज की नीलामी कीमत से नाखुश नज़र आ रहा है। वायरल वीडियो से ये भी साफ हो रहा है कि किसान की हालत किस हद तक खराब है। सरकारों के लाख दावों के बाद भी किसानों कि स्थिति नहीं सुधर रही है। आलम यह है कि प्याज उगाने वाले किसान को उसकी लागत भी नहीं मिल पा रही है। वीडियो में बताया जा रहा है कि किसान अपनी फसल बेचने मंदसौर कृषि उपज मंडी में गया था लेकिन यहां व्यापारी ने जब उसकी प्याज की कीमत 50 रूपय क्विंटल लगाई तो किसान के पैरों तले जमीन खिसक गई और उसने प्याज़ ना बेचने का निर्णय लिया क्योंकि उसको प्याज का लागत मूल्य भी नहीं मिल पा रहा था। प्याज बेचने मंदसौर आये हुए किसान का वीडियो हो रहा वायरल
मंदसौर की कृषि उपज मंडी में प्याज बेचने आये हुए किसान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। 31 सेकंड के वीडियो में बताया जा रहा है कि गांव जोधा पिपलिया का रहने वाला पूनमचंद पाटीदार नामक किसान अपने खेतों में उगी प्याज बेचने मंदसौर आया हुआ था। जहां व्यापारी ने उसकी प्याज की कीमत मात्र 50 पैसे प्रति किलो लगाई। यानी कि 50 रुपये प्रति 100 किलो। यह देख किसान सकते में आ गया। उसने अपनी प्याज न बेचने का फैसला किया। किसान पूनमचंद ने बताई हक़ीक़त
लाइव हिंदुस्तान ने मामले में पड़ताल शुरू की तो वह मंदसौर के जोधा पिपलिया मे रहने वाले किसान पूनमचंद तक पहुंचा। किसान पूनमचंद से फ़ोन पर हुई बातचीत में उन्होंने बताया कि उनके पास 25 बीघा जमीन है। जिसमें से एक बीघा में वे प्याज की खेती करते हैं। जिसकी लागत लगभग 25 हजार रुपये बैठती है। उन्होंने बताया कि वह 31 दिसम्बर को प्याज लेकर मंदसौर कृषि उपज मंडी में बेचने आये हुए थे। जहां 1 जनवरी 2022 को उनकी प्याज़ की फसल की नीलामी शुरू हुई। लेकिन जब उन्होंने प्याज की कीमत सुनी तो वह आश्चर्यचकित रह गए। उन्होंने बताया कि प्याज की बोली 10 रुपये प्रति 100 किलो से शुरू हुई थी। जो बढ़ते- बढ़ते 50 रुपये प्रति 100 किलो तक पहुंची। और अंत में उन्होंने प्याज़ न बेचने का फैसला किया। वर्तमान में यह चल रही प्याज की कीमत
मंदसौर में बीते दिनों हुई बारिश के कारण कृषि उपज मंडी में रखा प्याज़ भीग गया था। जिसके कारण नीलामी प्रक्रिया में देरी हुई। 1 जनवरी को जब व्यापारी प्याज़ की नीलामी के लिए पहुंचे तो उन्होंने भीगे हुए प्याज को देखकर उसकी खरीद का भाव तय किया। लेकिन आमतौर पर मंदसौर मंडी में प्याज का भाव 1400 से 2000 रुपये प्रति क्विंटल चल रहा है।

कम भाव के चलते किसान ने लहसुन की फसल में लगाई थी आग
कुछ दिन पहले ही मंदसौर मंडी में लहसुन बेचने आए उज्जैन जिले के महिदपुर निवासी किसान शंकर ने अपनी लहसुन की फसल में कम भाव मिलने के कारण आग लगा दी थी। किसान का कहना था कि मंडी में लहसुन की फसल के उचित भाव नहीं मिल रहे। उस वक्त भी किसान ने लागत मूल्य भी ना निकलने की बात कही थी। हालांकि बाद में आगे लगाने वाले किसान को नजदीकी थाने ले जाकर मंडी प्रशासन ने समझाइश दी थी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा, हिंदू पक्ष ने किया दावा-‘बाबा मिल गए’; कल कोर्ट में पेश होगी रिपोर्ट

नयी दिल्ली 16 मई 2022 । ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा हो गया है। तीसरे …