मुख्य पृष्ठ >> अपराध >> देश के सबसे बड़े अस्पताल AIIMS के बैंक खातों से 12 करोड़ चोरी

देश के सबसे बड़े अस्पताल AIIMS के बैंक खातों से 12 करोड़ चोरी

नई दिल्ली 1 दिसंबर 2019 । देश का सबसे बड़ा अस्पताल अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) भी बैंकिंग धोखाधड़ी का शिकार बन गया है. जालसाजों ने ‘क्लोन किये गये चेक’ का कथित तौर पर इस्तेमाल करते हुए एसबीआई में मौजूद इसके दो बैंक खातों से पिछले एक महीने में 12 करोड़ रुपये से ज्यादा पैसे उड़ा लिए. ये पैसे एम्स के एसबीआई में मौजूद खातों से अन्य शहरों में स्थित बैंक की शाखाओं से निकाले गए हैं.

मुंबई में हुई 29 करोड़ रुपए उड़ाने की नाकाम कोशिश

इस धोखाधड़ी के सामने में आने बाद भी दोषियों ने पिछले एक हफ्ते में एसबीआई के देहरादून और मुंबई स्थित अन्य शाखाओं से 29 करोड़ रुपये से अधिक राशित उड़ाने की कोशिशें की. इसके लिये उन्होंने कथित तौर पर ‘क्लोन किये हुए चेक’ का इस्तेमाल किया. सूत्रों ने बताया कि जालसाजों ने देहरादून में एसबीआई की एक शाखा से 20 करोड़ रुपये जबकि मुंबई स्थित बैंक की शाखा से नौ करोड़ रुपये उड़ाने की कोशिश की. हालांकि, ये कोशिशें नाकाम कर दी गईं. अस्पताल प्रशासन ने दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा से संपर्क कर घोटाले की जांच की मांग की है. एक अधिकारी के मुताबिक एम्स ने स्वास्थ्य मंत्रालय को सौंपी गई एक रिपोर्ट में कहा है कि एसबीआई की शाखाओं में जालसाजों द्वारा पेश किये गये जाली चेक ‘अल्ट्रा वॉयलेट रे’ (पराबैंगनी किरण) जांच को पार कर गये और उसी क्रम संख्या के मूल चेक अब भी एम्स के पास पड़े हुए हैं.

एम्स अधिकारियों की प्रत्यक्ष भूमिका या मिलीभगत का सबूत नहीं

एक बैंक अधिकारी ने बताया कि 25,000 रुपये या इससे अधिक रकम के चेक की अल्ट्रा वॉयलेट किरणों से जांच की जाती है. एम्स ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा है, ‘‘प्रथम दृष्टया ऐसा कोई साक्ष्य नहीं है जो यह बताता हो कि एम्स अधिकारियों की प्रत्यक्ष भूमिका या मिलीभगत है क्योंकि हस्ताक्षर करने वाले अधिकृत लोगों के दस्तखत भी फर्जी नजर आते हैं.’’ रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘भुगतान करने या रोकने को सीधे तौर पर एसबीआई बैंक और इसकी शाखाओं में नियंत्रण तंत्र की नाकामी बताई जा सकती है. इसलिये यह नुकसान एम्स से जुड़ा नहीं है.’’ यह भी बताया गया है कि एसबीआई अन्य शाखाओं में सत्यापन प्रोटोकॉल पालन करने में नाकाम रही. साथ ही, बैंक से चोरी हुई यह राशि जमा करने को कहा गया है.

सूत्रों ने बताया कि एसबीआई में एम्स के मुख्य खाते से फर्जी तरीके से सात करोड़ रुपये उड़ा लिये गये. यह खाता एम्स के निदेशक द्वारा संचालित किया जाता है. वहीं पांच करोड़ रुपये डीन, रिसर्च ऑफ एम्स के पास मौजूद खाते से उड़ाये गये. इस मामले के सामने आने के बाद एसीबीआई ने अपनी सभी शाखाओं को सतर्क कर दिया है और अपने कर्मचारियों को एम्स, नई दिल्ली द्वारा जारी मोटी राशि के चेक का भुगतान नहीं करने की सलाह दी है.

खाता धारक के मोबाइल पर संदेश भी भेजता है बैंक

वहीं, एसबीआई के एक अधिकारी ने बताया कि बैंक के निर्देशों के मुताबिक, अगर दो लाख रुपये से अधिक का चेक बैंक की किसी अन्य शाखा में भुनाने की कोशिश की जाती है तो उसे ‘क्लियर’ करने या यहां तक कि रुपये हस्तांतरित करने से पहले पुष्टि पाने के लिये ग्राहक से संपर्क करना होता है. साथ ही, अन्य शाखाओं को मोटी रकम के चेक के मामले में खाता धारक का ब्यौरे की पुष्टि के लिये मूल शाखा (जिसमें ग्राहक का खाता है) से संपर्क करने की जरूरत होती है. जब चेक क्लियरिंग के लिये प्राप्त होते हैं तो बैंक खाता धारक के मोबाइल पर संदेश भी भेजता है. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के निर्देशों के मुताबिक यदि तीन करोड़ रुपये से अधिक की बैंक धोखाधड़ी होती है तो बैंक सीबीआई के पास शिकायत दर्ज कराते हैं. फिलहाल यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि एसबीआई ने मौजूदा मामले में सीबीआई से संपर्क किया है नहीं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

प्रियंका गांधी का 50 नेताओं को फोन-‘चुनाव की तैयारी करें, आपका टिकट कन्फर्म है’!

नई दिल्ली 21 जून 2021 । उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव …