मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> लॉकडाउन के बाद रीढ़ से संबंधित समस्याओं के मामलों में 15-20% वृद्धि : डॉ पुरोहित

लॉकडाउन के बाद रीढ़ से संबंधित समस्याओं के मामलों में 15-20% वृद्धि : डॉ पुरोहित

भोपाल नई दिल्ली 18 अक्टूबर 2021 । लॉकडाउन के नियमों की वजह से लोगों ने काफी समय से आउटडोर एक्टिविटी और एक्सरसाइज नहीं की है। इसके कारण भी रीढ़ की हड्डी पर इसका असर पड़ा है। वर्क फ्रॉम होम, स्कूल के काम और इनएक्टिव लाइफस्टाइल ने इस समस्या को और बढ़ा दिया है। लॉकडाउन के बाद रीढ़ से संबंधित समस्याओं के मामलों में 15-20% वृद्धि देखी है, खासकर सर्वाइकल एरिया में। इसकी मुख्य वजह है लोगों का देर तक लैपटॉप और अन्य गैजेट्स के साथ समय अधिक बिताना। इन गैजेट्स को यूज करने के लिए गर्दन को झुकाना पड़ता है। इसके अलावा लोग खराब पोश्चर में भी बैठ रहे हैं, जिसकी वजह से लोअर बैक एरिया में दर्द की शिकायत हो रही है।
यह खुलासा एसोसिएशन ऑफ स्टडीज फोर स्पाइन केयर के कार्यकारी सदस्य डॉ नरेश पुरोहित ने विश्व स्पाइन दिवस के अवसर पर भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद द्वारा प्रकाशित अपनी एक रिपोर्ट में किया।

एकेडेमी ऑाफ न्यूरोसाइंस के सलाहाकार डॉ पुरोहित ने बताया कि रीढ़ से संबंधित मामलों की बढ़ती संख्या को देखते हुए, यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि जिस तेजी से स्पाइन संबंधित मामले बढ़ रहे हैं यह एक साइलेंट महामारी का रूप ले सकती है। पुरुषों की तुलना में महिलाएं इसलिए भी अधिक रीढ़ संबंधी समस्याओं का शिकार हो रही हैं क्योंकि वह अपनी सेहत पर जरा भी ध्यान नहीं दे पाती हैं। ऑफिस और फिर घर के काम की उठापटक में महिलाएं न ही कोई फिलिकल एक्टिविटी कर पाती हैं और न ही अपनी डाइट पर ध्यान दे पाती हैं।
उन्होने बताया कि स्पाइन संबंधी समस्याओं में जो लोगों को सबसे ज्यादा प्रभावित कर रही हैं वह है पीठ दर्द, गर्दन दर्द और कंधों का दर्द। वर्क फ्रॉम होम के दौरान लोग 10 से 12 घंटे की शिफ्ट करने को मजबूर हो गए हैं। ऐसे में गलत पॉजीशन में बैठने और किसी भी तरह की फिजिकल गतिविधि न होने के कारण लोगों में रीढ़ संबंधी मामले बढ़ रहे हैं।
इस तरह रखें रीढ़ की हड्डी को दुरुस्त
1. नियमित रूप से एक्सरसाइज करें। यदि आप एक्सरसाइज नहीं कर पाते हैं तो योगा करें।

2. अपने खानपान का खास ख्याल रखें। फास्ट फूड को अवॉइड करें और घर के खाने का सेवन करें। अपने आहार में ज्यादा से ज्यादा सब्जियों और फलों को शामिल करें।
3. रोज कम से कम 8 से 10 ग्लास पानी पीएं।
4. जब आप ​आप काम करने बैठे तो हर 1 घंटे के बाद करीब 10 मिनट का ब्रेक लेकर वॉक करें।
5. स्ट्रेस और मानसिक तनाव से दूर रहें। क्वॉलिटी नींद लें।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘राजपूत नहीं, गुर्जर शासक थे पृथ्वीराज चौहान’, गुर्जर महासभा की मांग- फिल्म में दिखाया जाए ‘सच’

नयी दिल्ली 21 मई 2022 । राजस्थान के एक गुर्जर संगठन ने दावा किया कि …