मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> कश्‍मीर में घुसपैठ की फिराक में 200 पाकिस्‍तानी आतंकी

कश्‍मीर में घुसपैठ की फिराक में 200 पाकिस्‍तानी आतंकी

नई दिल्ली 3 मार्च 2021 । पाकिस्‍तान की ओर से भारत के खिलाफ समय-समय पर साजिश का पर्दाफाश होता रहता है. पाकिस्‍तानी सेना नियंत्रण रेखा को पार कराकर आतंकियों को भारत में घुसपैठ करने में मदद करती है.

अब सामने आए ताजा इनपुट के अनुसार पाकिस्‍तान से करीब 200 आतंकी भारत में घुसपैठ करने की तैयारी में हैं. कहा जा रहा है कि ये आतंकी पुंछ और राजौरी सेक्‍टर से भारत के जम्‍मू-कश्‍मीर में घुसपैठ कर सकते हैं.

जानकारी के अनुसार आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा, जैश ए मोहम्‍मद और हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी कमांडरों ने पाक अधिकृत कश्‍मीर के फोर्ट घोटा में भारत के खिलाफ साजिश रचने के लिए एक मीटिंग भी की है.

इस मीटिंग में आतंकी संगठन हिजुबुल मुजाहिदीन का प्रमुख आतंकी तारिक शाह और लश्‍कर का प्रमुख आतंकी ताला मेहताब भी शामिल था. साथ ही जैश ए मोहम्‍मद का कमांडर नजीम उर रहमान भी इसमें शामिल था.

सामने आई जानकारी से पता चला है कि इस मीटिंग में आतंकियों के लांच और सब लांच पैड पर आतंकवादियों की संख्या को बढ़ाने की बात तय की गई है.

इसके साथ ही मीटिंग के बाद 5-6 लश्कर आतंकी एक गाइड के साथ रजौरी के पुखेरी और लेहरान के सामने के पाकिस्तानी इलाकों में रेकी करते नजर आए. फिलहाल आतंकियों से निपटने और एलओसी पर घुसपैठ रोकने के लिए भारतीय सेना के जवान पूरी मुस्‍तैदी से डटे हुए हैं.

ISI ने कश्मीर में आतंकवाद फैलाने के लिए जारी किया गाइडलाइन्स

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने ट्रेनिंग के बाद कश्मीर जाकर आतंक फैलाने वाले आतंकियों के लिए नई गाइडलाइंस जारी की है. इस गाइडलाइंस का मकसद सारे आतंकी संगठनों की हर हरकत पर नज़र और उनको कंट्रोल में रखना है.

इसमें सख्त हिदायत दी गई है कि पाकिस्तान से ट्रेनिंग लेकर कश्मीर जाने वाला कोई भी आतंकी पाकिस्तान मार्क के साजो सामान के साथ नही जाएगा, बल्कि ISI उसको अलग से सामान मुहैया करवाएगा.

इसके साथ ही कश्मीर जाने वाले हरेक आतंकी को अपना पासपोर्ट 15 दिनों के अंदर जमा करने को भी कहा गया है. इस गाइडलाइंस के मुताबिक, कश्मीर से पाकिस्तान आने वाले आतंकियों के रिश्तेदारों को ISI के नजदीकी आफिस में अपनी जानकारी और फोटोग्राफ्स जमा करने होंगे.

इसके अतिरिक्त आतंकी संगठनों के दफ्तरों में सीसीटीवी लगाया जाएगा और उसका सर्वर कंट्रोल ISI के पास होगा. वहीं, आतंकी तंजीमों को नई भर्ती की पूरी जानकारी ISI को देने को कहा गया और ISI की मंजूरी के बाद ही किसी तंज़ीम में वो शामिल हो सकेंगे.

इसके अलावा ISI ने मुज़्ज़फ्फरबाद के शमशुल हक़ आतंकी ट्रेनिंग कैम्प मुज़्ज़फ्फरबाद की बाहरी दीवार की मरम्मत के लिए 20 लाख हिजबुल के मुमताज़ अहमद को सौंपा. कश्मीर घाटी में दंगे, रैली और प्रदर्शन करवाने के लिए हिजबुल के सेकंड इन कमांड आमिर खान को 20 लाख रुपये दिए. मारे गए आतंकियों के परिवार वालों के लिए भी ISI ने 45 लाख दिए हैं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

भारत में कोरोना का सबसे बड़ा अटैक, एक दिन में पहली बार 2 लाख 34 हजार नए केस

नई दिल्ली 17 अप्रैल 2021 । कोरोना की दूसरी लहर हर दिन नए रिकॉर्ड बना …