मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> इन IPS के ऑपरेशन धरपकड़ में 24 घंटे में उलझे नए-पुराने 209 गुंडे

इन IPS के ऑपरेशन धरपकड़ में 24 घंटे में उलझे नए-पुराने 209 गुंडे

नई दिल्ली 17 सितम्बर 2019 । भारत में जिस तरह शेरों की संख्या गिनी जा सकती है, उसी प्रकार आईपीएस की संख्या भी गिनी जा सकती है। किंतु इनमें से भी कुछ आईपीएस ऐसे होते हैं, जो अपनी कार्यशैली, लुकिंग, देशप्रेम का जज्बा व जनता के बीच पहुंच बनाई छवि से पूरे देश के टॉप पुलिस अधिकारियों की सूची में शामिल रहते हैं।

ऐसे ही देश के सबसे उभरते आईपीएस संतोष कुमार मिश्रा हैं, जो वर्तमान में उत्तरप्रदेश के इटावा जिले के एसएसपी (वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक) हैं। इस बार ये अपने महज 72 घंटे के अभियान ‘ऑपरेशन धरपकड़’ के लिए चर्चाओं में हैं। अब तक के अभियान में इन्होंने नए व पुराने कुल 448 गुंडों को दबोचने में सफलता पाई हैं। वहीं 24 घंटे के भीतर 209 गुंडे-बदमाश इन्होंने दबोचे हैं। गुंडे-बदमाशों में तन से लेकर उनके मन तक पुलिसिया ख़ौफ़ कूट-कूट कर भरने पर अब आमजनता ‘चंबल के टाइगर’ के तौर पर उनकी शोहरत देश में फैला रही हैं।
आईपीएस मिश्रा की कुछ तस्वीरें, जो उनकी छवि को प्रदर्शित करती हैं

आईपीएस मिश्रा की शायद इसलिए “चंबल का टाइगर” के नाम से फेल रही है शोहरत

संतोष कुमार मिश्रा देश के ऐसे पहले आईपीएस भी हैं, जिन्होंने सालाना 50 लाख रुपए पैकेज का आराम दायक जॉब छोड़कर पुलिस सेवा जैसे कठिन जॉब को चुना। इटावा बीहड़ों से घिरा हुआ जिला है। जिस पर आज भी इन बीहड़ों पर राज करने वाले खूंखार डाकू और डकैतों की खतरनाक कहानियां देश में सुनाई देती है। लेकिन इन बीहड़ों में शेर-टाइगर ही ऐसे होते हैं, जिनसे खूंखार डाकू या डकैत भी ख़ौफ़ खाते हैं। आईपीएस मिश्रा ने इन बीहड़ों में घुसकर कई अंतरराज्यीय गुंडे-बदमाश व डकैतों को भी दबोचा है। हाल ही में उन्होंने एनकाउंटर के जरिए इन बीहड़ों से खदेड़कर 25-25 हजार के इनामी अंतरराज्यीय लुटेरे गौरव यादव व अमन शर्मा को दबोचा था। जबकि इनके पहले इनके 25 हजार रुपए इनामी लीडर मोनू यादव को हरियाणा पुलिस के साथ संयुक्त अभियान में दबोचा था। शायद यही वजहें है कि आमजनता आईपीएस संतोषकुमार मिश्रा की शोहरत “चंबल का टाइगर” नाम से फैला रही है।
तब पूरे देश ने देखा इटावा पुलिस का मानवीय चेहरा

आईपीएस मिश्रा के बारे में बताया जाता है कि वे गुंडे-बदमाशों के लिए बहुत ही सख्त अधिकारी है लेकिन आमजनता के लिए वे बहुत ही रहम दिल इंसान हैं। इटावा एसएसपी पदस्थी के बाद से ही वे अपने मातहत अधिकारी व कर्मचारियों को आमजनता के प्रति नम्र रवैया व मानवता अपनाने की सीख दे रहे हैं। शायद यही वजह है कि उनकी इस सीख की बदौलत देश ने इटावा पुलिस का मानवता से भरा मददगार चेहरा देखा। इस मानवता से लबरेज इटावा पुलिस के चेहरे व मददगार हांथों ने 75 वर्षीय बीमार वृद्ध महिला को ना सिर्फ 3 किमी तक कंधा देकर उपचार के लिए एंबुलेंस तक पहुंचाया बल्कि अस्पताल जाकर कुशल क्षेम भी जानी। तब इटावा पुलिस का ये मानवता भरा चेहरा पूरे देश में छाया रहा था।
इनका कहना
72 घंटे के ऑपरेशन धरपकड़ अभियान में अब तक कुल 448 गुंडे-बदमाश व संदिग्ध अपराधी दबोचे गए हैं। महज 24 घंटे में कुल 209 वांछित, वारंटी, जिलाबदर व अन्य बदमाश दबोचे गए हैं। देशभक्ति-जनसेवा को ध्यान में रखकर ही मैं 50 लाख के पैकेज जॉब को छोड़कर पुलिस सेवा में शामिल हुआ हूं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

किश्तवाड़ में बादल फटने से पांच की मौत, 40 से ज्यादा लोग लापता

नई दिल्ली 28 जुलाई 2021 ।  जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश का कहर देखने को मिला …