मुख्य पृष्ठ >> Uncategorized >> 24 घंटे में 32 मौत और 693 नए मामले, मरीजों की संख्या हुई 4000 पार

24 घंटे में 32 मौत और 693 नए मामले, मरीजों की संख्या हुई 4000 पार

नई दिल्ली 6 अप्रैल 2020 । भारत में कोरोनावायरस का कहर रुक नहीं रहा है. मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार सुबह जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक मरीजों की संख्या ने चार हजार का आंकड़ा पार कर लिया है. भारत में कोरोनावायरस से अबतक 109 लोगों की मौत हो चुकी है और 4067 इसके संक्रमण के शिकार हुए हैं. वहीं ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 232 है. पिछले 24 घंटे की बात करें तो इस दौरान 32 लोगों की मौत हुई है और 693 नए मामले सामने आए हैं. कोरोनावायरस के बढ़ते मामले को देखते हुए देश में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन जारी है जो 14 अप्रैल तक चलेगा. बता दें कि देश में कोरोना फैलने से रोकने के लिए तमाम तरह के प्रयास किए जा रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस के संक्रमण के मामलों में 505 और मरने वालों की संख्या में 11 का इजाफा हुआ था. इसके साथ ही रविवार को मरीजों की संख्या बढ़कर 3,577 और मृतकों की संख्या 83 पर पहुंच गयी थी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक देश में कोविड-19 से संक्रमित 3666 लोगों का उपचार चल रहा है, जबकि 292 लोग स्वस्थ हो गए हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. कोरोना के सबसे ज्यादा मरीजों की संख्या महाराष्ट्र में देखने को मिली है. महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या 690 हो गई है, वहीं 45 लोगों की यहां मौत हो चुकी है. इसके अलावा 42 लोगों का उपचार हो चुका है.जरूरतमंदों की सहायता करें: प्रधानमंत्री ने भाजपा कार्यकर्ताओं से कहा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय जानता पार्टी (भाजपा) के 40वें स्थापना दिवस के अवसर पर पार्टी कार्यकर्ताओं को सोमवार को शुभकामनाएं दीं और उनसे कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने की कोशिशों के दौरान जरूरतमंदों की सहायता करने को कहा. पार्टी के लिए दशकों तक कड़ी मेहनत करने वालों के योगदान को याद करते हुए मोदी ने कहा कि उन्हीं लोगों के कारण भाजपा को करोड़ों भारतीयों की सेवा का अवसर मिला. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘भाजपा के स्थापना दिवस पर पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं को बहुत-बहुत शुभकामनाएं. इस अवसर पर उन सभी को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि, जिन्होंने अपने खून-पसीने से पार्टी को सींचा. उनकी वजह से ही भाजपा को आज देशभर में करोड़ों भारतीयों की सेवा करने का अवसर मिला है.”

राजस्थान में संक्रमित एक और व्यक्ति की मौत
राजस्थान के कोटा शहर में कोरोना वायरस से संक्रमित एक व्यक्ति की रविवार देर रात मौत हो गयी. इस व्यक्ति ने हाल में कोई यात्रा नहीं की थी. इस बीच, राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के आठ नये मामले सामने आने के साथ ही राज्य में संक्रमित लोगों की कुल संख्या बढ़कर 274 हो गयी है. अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) रोहित कुमार सिंह ने बताया कि कोटा के एमबीएस अस्पताल में 60 वर्षीय एक व्यक्ति को निमोनिया, बुखार एवं खांसी की शिकायत के साथ भर्ती करवाया गया था. वह व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया और रात 11 बजे उसकी मौत हो गयी. सिंह ने बताया कि इस व्यक्ति ने हाल में कोई यात्रा नहीं की थी. हालांकि मरीज के इलाके से ही तबलीगी जमात कार्यक्रम में शिरकत करने वाले कुछ लोग मिले हैं जो संक्रमित नहीं पाए गए हैं. अधिकारी पड़ताल कर रहे हैं. इस बीच राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के आठ नये मामले सामने आए हैं. इनमें से पांच लोगों ने तबलीगी जमात के कार्यक्रम में भाग लिया था.

कोरोना वायरस की चुनौती के बीच लोगों को एक और राहत पैकेज देने की तैयारी में सरकार: रिपोर्ट

Coronavirus Outbreak: कोरोना वायरस (Coronavirus) की भीषण चुनौती के बीच केंद्र सरकार (Central Government) ने लॉकडाउन समाप्त होने के बाद की संभावित स्थिति पर विचार करना शुरू कर दिया है. इसके अंतर्गत कोरोना वायरस के असर को कम करने के लिये सरकार एक और राहत पैकेज पर विचार कर रही है ताकि अर्थव्यवस्था (Economy) की स्थिति में सुधार दिशा में आगे बढ़ा जा सके. हालांकि इस दिशा में अभी कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी.एक अधिकारी के अनुसार, फिलहाल उन मुद्दों पर ध्यान दिया जा रहा है जो 15 अप्रैल को लॉकडाउन का समाप्‍त किए जाने के बाद सामने आ सकते हैं. एक पैकेज पर विचार किया गया है लेकिन इस बारे में अभी कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है. इस योजना के पीछे विचार यह है कि खपत को फिर से तेज किया जाए इसलिये इस दिशा में कुछ उपाय करने की जरूरत होगी. गौरतलब है कि भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus)के संक्रमण के शिकार लोगों की संख्‍या अब तक 3500 के पार पहुंच चुकी है और इस खतरनाक वायरसस की चपेट में आकर अब तक 80 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.यदि सरकार की तरफ से किसी पैकेज की घोषणा होती है तो कोरोना वायरस को असर को रोकने की दिशा में यह उसकी तीसरी अहम पहल होगी. पीएम नरेन्द्र मोदी के 24 मार्च को देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा करने से कुछ घंटे पहले ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने करदाताओं और व्यावसायियों के लिये कुछ राहत उपायों की घोषणा की थी. इसके दो दिन बाद ही गरीबों और वंचितों को सहारा देने के लिये वित्त मंत्री ने 1.7 लाख करोड़ रुपये के प्रधानमंत्री गरीब कल्याण राहत पैकेज की घोषणा की.

अधिकारियों ने रविवार को कहा कि वह कुछ कल्याणकारी और अन्य सरकारी योजनाओं को लॉकडाउन बाद की स्थिति के मुताबिक बेहतर बनाने की संभावनाओं पर गौर कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कई तरह के विकल्प सामने हैं. विभिन्न मंत्रालयों द्वारा दी जाने वाली छात्रवृति और अधिछात्रवृति, रबी मौसम की फसलों की कटाई जैसे कई मुद्दे उसके समक्ष हैं और सरकार उन्हें एक-एक कर देख रही है. प्रधानमंत्री ने विभिन्न पहलों पर विचार के लिये 10 उच्चाधिकार अधिकारप्राप्त समूहों का गठन किया था. इनमें से एक समूह को आर्थिक उपायों के बारे में सुझाव देने का काम दिया गया था. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में गठित एक अनौपचारिक मंत्री समूह भी लॉकडाउन के विभिन्न पहलुओं पर विचार कर रहा है.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

कोरोना के प्रकरणों में कमी नहीं आई तो भोपाल-इंदौर में 8 मार्च से रात्रि कर्फ्यू – मुख्यमंत्री श्री चौहान

 भोपाल 6 मार्च 2021 । मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भोपाल …