मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> 73 दिनों में 332 हत्याएं, 6310 महिलाओं पर हुआ अत्याचार

73 दिनों में 332 हत्याएं, 6310 महिलाओं पर हुआ अत्याचार

भोपाल 19 फरवरी 2019 । मध्य प्रदेश में बीते 73 दिनों में 332 हत्याएं हुईं, वहीं इसी अवधि में 6310 महिलाएं अत्याचार का शिकार बनी हैं. ये हैरान करने वाले आपराधिक आंकड़े राज्य के गृहमंत्री बाला बच्चन ने नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव द्वारा सदन में पूछे गए सवाल के जवाब में लिखित तौर पर पेश किए हैं.

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भार्गव ने विधानसभा सत्र के पहले दिन गृहमंत्री बाला बच्चन से पूछा था कि राज्य में 11 नवंबर से 22 जनवरी की अवधि में अर्थात 73 दिनों में राज्य में कितनी हत्याएं, चोरी, डकैती और महिला अत्याचार की घटनाएं हुई और मामले दर्ज हुए हैं.

राज्य के गृहमंत्री बाला बच्चन ने भार्गव के सवाल में लिखित तौर पर बताया है कि राज्य में 11 नवंबर से 22 जनवरी के बीच हत्या की 332, महिला अत्याचार के 6310 मामले दर्ज किए गए हैं.

राज्य में 11 नवंबर से 11 दिसंबर अर्थात 31 दिन (कार्यकारी शिवराज सरकार) तक चुनाव अवधि रही, वहीं 12 दिसंबर से 22 जनवरी तक का काल अर्थात 42 दिन राज्य में कमलनाथ सरकार का है. अगर इसे देखा जाए तो प्रतिदिन चार से ज्यादा हत्याएं और 86 महिलाओं पर अत्याचार के औसत आंकडे सामने आए हैं.

राज्य में 11 नवंबर से 22 जनवरी तक हुए अपराधों को जोड़ा जाए तो एक बात साफ हो जाती है कि इस अवधि में 12325 मामले दर्ज किए गए हैं.

बी जे पी के 100 से अधिक कार्यकर्ताओं सहित रिटायर्ड आई पी एस आर एन प्रजापि‍त कांग्रेस में शामिल

प्रदेश कांगे्रस कार्यालय में आज सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी आर.एन. प्रजापति, पंडित मोहनलाल तिवारी, अरूण दीक्षित, गोपाल शर्मा के अलावा भाजपा के लगभग सौ सक्रिय कार्यकर्ता और पदाधिकारी कांग्रेस में शामिल हुए। ये सभी कांगे्रस के महामंत्री महेन्द्र सिंह चौहान के नेतृत्व में पहुंचे थे। इस अवसर पर महासचिव और प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह राहुल, प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह, मंत्री हुकुम सिंह कराड़ा, कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत और सुरेन्द्र चैधरी प्रमुख रूप से उपस्थित थे।
रामनगर सतना निवासी आईपीएस अधिकारी आरएन प्रजापति राष्ट्रपति पुरस्कार और विशिष्ट सेवा मेडल प्राप्त हैं। वे उमरिया, बैतूल और विदिशा के पुलिस अधीक्षक और भोपाल ग्रामीण के डीआईजी रह चुके हैं।
मूलतः रीवा के पंडित मोहनलाल तिवारी अखिल भारतीय ब्राम्हण महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। इसी तरह अरूण दीक्षित भाजपा खेल प्रकोष्ठ के अध्यक्ष थे। गोपाल शर्मा सपाक्स से विधानसभा प्रत्याशी थे।
कांगे्रस में शामिल होने वाले भाजपा के कार्यकर्ताओं में संजय दुबे, नारायण सिंह, दीपक श्रीवास्तव, हरिशंकर दुबे, मुकेश आदित्य, सुश्री अर्चना पाण्डेय, सुश्री अभिलाषा चंद्रवंशी, संजय शाक्या, उर्मिला रघुवंशी, निलय सोनी सहित लगभग सौ कार्यकर्ता शामिल थे।

पुलवामा शहीदों को श्रृद्धांजलि देने के बाद विस स्थगित, बुधवार को होगा बजट पेश
मप्र विधानसभा बजट सत्र के पहले दिन सोमवार को सदन में पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों और दिवंगत नेताओं को श्रृद्धांजलि देने के बाद सदन की कार्रवाई 20 फरवरी तक स्थगित कर दी गयी। अब विधानसभा में पेश होने वाला बजट 20 फरवरी को पेश किया जाएगा। मध्यप्रदेश विधानसभा के बजट सत्र की शुरुआत सोमवार को राष्ट्रगीत वंदे मातरम् गायन के साथ हुई। इसके बाद सदन के सदस्यों ने दिवंगत नेताओं और पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों को श्रृद्धांजलि दी।

विधानसभा अध्यक्ष एन पी प्रजापति ने सदन की तरफ से, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सरकार की तरफ से और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने विपक्ष की तरफ से श्रृद्धांजलि दी। श्रृद्धांजलि देने के उपरांत नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने पुलवामा हमले के विरोध में आतंकवादियों के खिलाफ सदन में निंदा प्रस्ताव रखा, जिसका मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अनुमोदन किया। आतंकवाद और पाकिस्तान के खिलाफ सदन में सर्वसम्मति से निंदा प्रस्ताव पारित हुआ। इसके बाद दो मिनट का मौन रखने के उपरांत सदन की कार्रवाई 20 फरवरी तक स्थगित कर दी गयी। सदन स्थगित होने के कारण आज पेश होने वाला बजट अब 20 फरवरी को पेश होगा। कार्यमंत्रणा समिति की बैठक में यह फैसला लिया गया।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

मोदी सरकार के आर्थिक सुधार कार्यक्रमों के सुखद परिणाम अब नजर आने लगे हैं

नई दिल्ली 20 सितम्बर 2021 । वर्ष 2014 में केंद्र में मोदी सरकार के स्थापित …