मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> MP में कट सकते हैं 40 विधायकों के टिकट

MP में कट सकते हैं 40 विधायकों के टिकट

नई दिल्ली 2 नवम्बर 2018 । राजस्थान, मध्य प्रदेश और तेलंगाना में होने वाले विधानसभा चुनावों पर चर्चा के लिए दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति (सीईसी) की बैठक हुई. इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह समेत बीजेपी के कई वरिष्ठ नेता शामिल हुए.

दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय में हुई इस बैठक में बीजेपी ने आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राज्यों में सीटों के बंटवारे के फार्मूले पर चर्चा की. बैठक में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में होने वाले विधानसभा चुनावों के उम्मीदवारों के नामों को लेकर चर्चा हुईं. सूत्रों की मानें तो बीजेपी आज छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, तेलंगाना के विधानसभा चुनावों के लिए उम्मीदवारों के नाम की सूची जारी करेगी.

सूत्रों के हवाले से खबर है कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल के कई मंत्रियों और विधायकों से नाराजगी पर चुनाव समिति में चर्चा हुईं. खबर ये भी है कि कैलाश विजयवर्गीय विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे. वह अपने बेटे के लिए टिकट की मांग कर रहे हैं.

सूत्रों के मुताबिक बीजेपी चुनाव समिति में करीब 40 मौजूदा विधायकों के टिकट काटे जाएंगे, जिनमें कुछ मंत्रियों के टिकट भी कट सकते हैं. साथ ही बीजेपी करीब आधा दर्जन सांसदों को विधानसभा चुनाव के मैदान में उतार सकती है.

इधर, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए अपनी तरफ से करीब 80 उम्मीदवारों की लिस्ट केंद्रीय नेतृत्व को सौंपा है. हालांकि राज्य और केंद्र के बीच उम्मीदवारों की सूची को लेकर सहमति नहीं बन पाई है.

भाजपा प्रदेश कार्यालय में भारी पुलिस बल तैनात
विधानसभा चुनाव के लिए टिकट फायनल करने के लिए दिल्ली में भाजपा कार्यालय में केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक शुरू हो गई है। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, नरेंद्र सिंह तोमर, विनय सहस्त्रबुद्धे, सुहास भगत आदि नेता मौजूद है। उम्मीद की जा रही है कि आज रात तक भाजपा करीब 100 नामों की घोषणा कर सकती है। टिकट वितरण के बाद किसी भी अप्रिय स्थिति को रोकने के लिए भोपाल में भाजपा प्रदेश कार्यालय में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

भाजपा में बड़े शहरों पर फैसला नहीं : स्क्रीनिंग कमेटी अभी भोपाल, इंदौर, उज्जैन और जबलपुर की ज्यादातर सीटों पर दावेदारों के चयन पर फैसला नहीं ले पाई है। इसके अलावा सागर जिले में बीना सीट पर तीन प्रत्याशी हैं। इसी तरह विदिशा जिले की सिरोंज सीट पर भी फैसला नहीं हुआ है। यहां से वर्तमान विधायक स्वास्थ्य कारणों से चुनाव लड़ने से मना कर चुके हैं।

BJP के प्रदेश सचिव की गोली मारकर हत्या, भाई की भी मौत

जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश सचिव अनिल परिहार और उनके भाई अजीत परिहार की गोली मारकर हत्या कर दी गई है.

जानकारी के मुताबिक एक अज्ञात हमलावर ने अनिल परिहार पर गोलियों की बैछार कर दी जिसके बाद उनकी मौत हो गई.

वहीं, मौके पर मौजूद अनिल परिहार के भाई अजीत परिहार को भी गोली लगी. गोली लगने के बाद वो गंभीर रूप से घायल गए. हालांकि, कुछ देर में उनकी भी मौत हो गई.

हमले की सूचना पाकर मौके पहुंची पुलिस ने हत्या मामले में जांच शुरू कर दी है. हालांकि, अभी तक हमलावर की पहचान नहीं की जा सकी है.

प्रदेश भाजपा महासचिव अशोक कौल ने बताया कि जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ जिले में आतंकवादियों ने गोली मारकर 2 भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी.

कार से बरामद हुए 1 करोड़ 12 लाख, नहीं मिले दस्तावेज
सरायछोला पुलिस ने गुरुवार को हाइवे स्थित अल्लाबेली चौकी के पास चेकिंग में एक इनोवा कार से 1 करोड़ 12 लाख रुपए जब्त किए। कार मालिक झांसी निवासी है और वह खुद को बैंकर बता रहा है, लेकिन वह बैंक से संबंधित दस्तावेज पेश नहीं कर सका। पुलिस ने तुरंत एसएसटी टीम को बुलाया और रकम को सौंप दिया। टीम ने पंचनामा तैयार कर रकम को ट्रेजरी में जमा कराया है।

जानकारी के मुताबिक सरायछोला थाने में पदस्थ एसआई राजेश गौर मय बल के चंबल पुल के पास हाइवे स्थित अल्लाबेली चौकी पर चेकिंग कर रहे थे। तभी आगरा की तरफ से इनोवा कार क्रमांक यूपी 93 एजे 0291 आई। राजेश गौर ने कार को रोक लिया।

कार की तलाशी ली तो एक बॉक्स में नोटों के बंडल रखे हुए थे। नोटों में दो हजार व पांच सौ की गडि्डयां थीं। जब रुपयों से संबंधित दस्तावेज वाहन में बैठे झांसी निवासी श्यामसुंदर अग्रवाल से मांगी गई तो उन्होंने खुद को इलाहाबाद बैंक का मैनेजर बताया, लेकिन न तो वे नोटों से संबंधित दस्तावेज दिखा सके और न ही अपनी बैंक संबंधी कोई आईडी ही दे सके।

एसआई ने तुरंत प्रशासन की टीम को सूचना दी। टीम ने मौके पर जाकर रकम को अपने कब्जे में ले ली। ट्रेजरी लाकर जब रकम को गिना गया तो वह एक करोड़ 12 लाख निकली। टीम ने पंचनामा बनाकर रकम को ट्रेजरी में जमा करा दिया है। खासबात यह है कि चेकिंग में अभी तक जिले में इतनी बड़ी राशि नहीं पकड़ी गई है।

संकट में छोड़ा साथ या फोर्स लीव ?
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के दो खास अफसरों के छुट्टी पर जाने की चर्चा से प्रशासनिक हलकों में घबराहट छा गई है। गौरतलब है कि इनमें से एक शिवराज के रिश्तेदार हैं और दूसरे मुख्यमंत्री पद पर शिवराज के पहले कार्यकाल से ही खासुलखास हैं। बाजार में चर्चा सरगर्म है कि दोनों अफसरों को चुनाव आयोग के कार्रवाई के कारण चुनाव तक के लिए फोर्स लीव पर जाने पर मजबूर होना पड़ा है ।
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री सचिवालय में पदस्थ प्रमुख सचिव एस के मिश्रा (श्री मिश्रा के पास जनसंपर्क विभाग की भी जबाबदारी है ) और जनसंपर्क संचालनालय में संचालक आषुतोष प्रताप सिंह ( आषुतोष प्रताप सिंह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के रिश्तेदार हैं , श्री सिंह भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी हैं ) इन दिनों अवकाश पर हैं । श्री मिश्रा के विरुद्ध मध्यप्रदेश चुनाव आयोग में शिकायत की गई थी। श्री मिश्रा की राजनैतिक स्वार्थो की पूर्ति किए जाने हेतु संविदा नियुक्ति दिए जाने का आरोप लगाते हुए हटाने की मांग की गई है। यह शिकायत 05/06/2018 को की गई थी । चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा भी एक शिकायत की गई, जिसमें मीडिया को प्रभावित करने का आरोप लगाया गया । इस शिकायत में मुख्यमंत्री शिवराज के रिश्तेदार आषुतोष प्रताप सिंह पर भी इसी तरह के आरोप लगाए गए । कांग्रेस ने भी इन अधिकारियों को हटाने की मांग की है ।
जब इन शिकायतों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो प्रथम शिकायतकर्ता
गुरुशरण सिंह ने भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओ पी रावत से शिकायत की तो उन्होंने तत्काल इस शिकायत पर कार्रवाई करने को लेकर मध्यप्रदेश निर्वाचन आयोग को कड़ी फटकार लगाते हुए कार्रवाई के निर्देश दिए ।
मध्यप्रदेश निर्वाचन आयोग ने इस निर्देश पर तत्काल संज्ञान लेते हुए सरकार से चर्चा की तो सरकार ने रास्ता निकालते हुए दोनों अफसरों को अवकाश पर जाने के मौखिक निर्देश दे दिए ।
जब इस मामले में मध्यप्रदेश के निर्वाचन आयुक्त वी.एल. कांताराव से चर्चा की तो उन्होंने कहा कि उक्त शिकायत पर मध्यप्रदेश सरकार से जानकारी चाही है । जानकारी आने के बाद कार्रवाई की जाएगी ।
जनसंपर्क संचालक आषुतोष प्रताप सिंह का कहना है कि उन्हें वायरल फीवर हो गया है । इसलिए वे छुट्टी पर हैं ।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

बिना लगेज सफर करने वाले एयर पैसेंजर्स को किराए में छूट मिलेगी

नई दिल्ली 27 फरवरी 2021 ।  डोमेस्टिक एयर पैसेंजर्स को अब बैगेज नहीं ले जाने …