मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> 48 हजार करोड़ का कर्ज़, 5000 करोड़ का प्रावधान और 1300 करोड़ रुपए खर्च

48 हजार करोड़ का कर्ज़, 5000 करोड़ का प्रावधान और 1300 करोड़ रुपए खर्च

नई दिल्ली 8 मई 2019 । दो दिन पहले भाजपा मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ आरोप-पत्र लाई थी। जिसमें किसानों की कर्जमाफी के मुद्दे पर कमलनाथ सरकार पर सवाल खड़े किए गए थे। आज कांग्रेस ने उस पर पलटवार करते पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के घर पहुंचकर किसानों की कर्जमाफी से जुड़े तमाम सबूत उन्हें सौंपे। लेकिन इस पर शिवराज सिंह ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके दोबारा प्रदेश की कांग्रेस सरकार, राहुल गांधी और सीएम कमलनाथ पर निशाना साधा है।

उन्होंने कहा कि,” कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सत्ता में आने के दस दिन के भीतर ही किसानों का कर्जा माफ करने का वादा किया था, लेकिन अब कहते फिर रहे हैं कि ये कर्जा माफ करेंगे, वो कर्जा माफ करेंगे। जबकि वादा, सबका कर्ज़ा माफ करने का था। प्रदेश में अब तक किसानों का कर्जा माफ नहीं हुआ है। किसानों के साथ प्रदेश सरकार ने धोखा किा है। जब तक बैंकों को सरकार पैसा नहीं देंगी, कर्जा माफ नहीं होगा।”शिवराज सिंह यहीं नहीं रुके उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ पर भी निशाना साधते हुए कहा कि, “केवल सूची बढ़ा देने से कर्जा माफ नहीं हो सकता है।

प्रदेश के किसानों पर कुल 48 हजार करोड़ का कर्जा था। उसके एवज में प्रदेश सरकार ने बजट में केवल पांच हजार करोड़ का प्रावधान रखा और उसमें से भी सिर्फ 1300 करोड़ रुपए इसके लिए दिए हैं, तो कैसे सारे किसानों का कर्जा माफ हो गया ? उन्होंने कहा कि,” मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुझे केवल कृषि विभाग की किसानों की लिस्ट भिजवाई है। आप बैंकों की सूची दीजिए, कर्ज माफ तो बैंक करेंगे। केवल माहौल बिगाड़ने और किसानों को भ्रमित करने से कुछ नहीं होगा।”पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सरकार पर किसानों से वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि, आज किसानों को अपना कर्जा चुकाने के नोटिस मिल रहे हैं। आचार संहिता लागू होते ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किसानों को मोबाइल पर मैसेज किए कि आचार संहिता के कारण आपकी ऋण माफी मंजूर नहीं हो पाई है। जैसे ही आचार संहिता हटेगी तो आपका कर्जा माफ हो जाएगा। इस मामले पर उन्होंने सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा कि, “ऐसी ऑनगोइंग स्कीम जिसमें लाभार्थी की पहले ही पहचान हो चुकी हो तो उसमें उसे लाभ दिया जा सकता है।इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का हवाला दिया कि कैसे आचार संहिता लगने के बाद भी किसानों को इस योजना का फायदा मिला।

जबकि मध्य प्रदेश सरकार आचार संहिता का हवाला देकर बहाना बना रही है।”शिवराज सिंह ने राहुल गांधी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि, कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रदेश के किसानों के साथ बड़ा धोखा दिया है। उन्होंने दस दिन में कर्जा माफ करने का वादा किया था, लेकिन अब बहाने बना रहे हैं। राहुल गांधी ने सीधा-सीधा कहा था कि किसानों का कर्जा माफ करेंगे। अब क्या हुआ तेरा वादा, क्या इरादा….।शिवराज सिंह ने प्रदेश सरकार के सबूत पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि, मेरा सरकार से आग्रह है कि मुझे संतुष्ट करने के बजाए किसानों का कर्जमाफ करें। 23 मई को रिजल्ट आएंगे तो पता चलेगा कि कैसे पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई।

5 महीने पहले मामा को और अब चौकीदार को करेंगे रवाना, महिदपुर-बड़नगर में और क्या बोले- मुख्यमंत्री कमलनाथ

सुन ली जिए मोदी जी। हमारे उज्जैन जिले की जनता बहुत भोली-भाली है। आप सोच ले कि ठग लेंगे तो ठग नहीं सकेंगे। पांच महीने पहले हमने मामा को रवाना किया था और अब हम चौकीदार को रवाना करेंगे। ये बात मंगलवार दोपहर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने महिदपुर में आमसभा को संबोधित करते हुए कही।

वे कांग्रेस प्रत्याशी बाबूलाल मालवीय के समर्थन में उज्जैन-आलोट लोकसभा क्षेत्र की महिदपुर व बड़नगर तहसील में आए थे। दोनों ही तहसीलों में उन्होंने आमसभा को संबोधित किया। जिस पर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान पर जमकर निशाना साधा। गौरतलब है कि उज्जैन-आलोट लोकसभा सीट पर अंतिम चरण में 19 मई को मतदान होना है। इस दौरान मंच पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष कमल पटेल, जिला पंचायत अध्यक्ष करण कुमारिया, विधायक रामलाल मालवीय, महेश परमार, आलोट विधायक मनोज चावला, महिदपुर विधानसभा प्रत्याशी रहे सरदारसिंह चौहान सहित अन्य कांग्रेसी नेता व कार्यकर्ता मौजूद थे।

पूर्व मुख्यमंत्री चौहान के लिए कहा, 15 दिन और झूठ बोल ले

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि उनकी सरकार अब तक 21 लाख से अधिक किसानों का कर्जा माफ कर चुकी हैं। फिर भी प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान झूठ बोल रहे है कि किसी भी किसान का कर्जा माफ नहीं किया गया। नाथ ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री चौहान 15 साल से झूठ बोल रहे हैं अब 15 दिन और झूठ बोल ले। नाथ ने कहा कि शिवराजसिंह चौहान खुद को किसान का बेटा बताते थे लेकिन वे ऐसे बेटे थे, जिन्होंने किसान के पेट पर लात मारी और छाती पर गोलियां दागी। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने हमें प्रदेश सौंपा तब भ्रष्टाचार, बलात्कार व किसानों की आत्महत्या में नंबर 1 था।

लोगों से पूछा कि हमने वचन निभाए, सबमें जवाब मिला हां

मुख्यमंत्री नाथ ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए मौजूद लोगों से पूछा कि हमने महज 75 दिनों में अपने वचन निभाए की नहीं। जिस पर सभी प्रश्नों पर लोगों ने हां में जवाब दिए। कमलनाथ ने कहा कि हमने कन्यादान योजना की राशि 21 हजार से बढ़ाकर 51 हजार कर दी। ओबीसी वर्ग में आरक्षण बढ़ाकर 27 प्रतिशत किया। पेंशन की राशि 300 से बढ़ाकर 600 रुपए कर दी और जल्द ही हम इसे एक हजार रुपए करने वाले है। नाथ ने कहा कि महज 75 दिनों में हमने अपनी नीति व नियत का परिचय दिया हैं। प्रदेश में 15 साल बदहाली और 75 दिनों में खुशहाली की तस्वीर आपके सामने हैं क्योंकि प्रश्न एमपी के भविष्य और हमारे भविष्य का है। आपका वोट ही ये भविष्य तय करेगा इसलिए कांग्रेस प्रत्याशी बाबूलाल मालवीय को जिताएं। मैं वादा करता हूं कि भोपाल से उज्जैन-महिदपुर नहीं बल्कि उज्जैन-महिदपुर से भोपाल को चलाएंगे।

कट्‌टर कांग्रेसी वही जो बागी लड़े, बोस को देखकर निकली प्रतिक्रिया

महिदपुर में मुख्यमंत्री नाथ के मंच पर कांग्रेस के बागी नेता दिनेश जैन बोस की मौजूदगी खासी चर्चा में रही। कांग्रेस प्रत्याशी बाबूलाल मालवीय के समर्थन में जब बोस संबोधन के लिए मंच पर आए तो मौजूद कार्यकर्ताओं के बीच आपस में प्रतिक्रिया हुई कि कट्‌टर कांग्रेसी वही कहला सकता है, जो कांग्रेस से बागी होकर निर्दलीय चुनाव लड़े। इस दौरान एक कार्यकर्ता ने कहा कि ईमानदारी की कोई कीमत नहीं इसलिए बागी बनकर निर्दलीय चुनाव लड़ो और बाद में कट्‌टर कांग्रेसी कहलाओ। गौरतलब है कि दिनेश जैन बोस महिदपुर विधानसभा से दो मर्तबा बागी होकर निर्दलीय चुनाव लड़ चुके हैं। 2013 में टिकट नहीं मिलने पर उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़कर कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. कल्पना परुलेकर की जमानत जब्त करवाई थी। इसीप्रकार 2018 में भी टिकट नहीं मिलने पर उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़कर कांग्रेस प्रत्याशी सरदारसिंह चौहान की जमानत जब्त करवाई थी। अधिकृत तौर पर बोस की अभी कांग्रेस में वापसी नहीं हुई है लेकिन लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में प्रचार-प्रसार करने के लिए प्रदेश अध्यक्ष नाथ की ओर से एक अनुमति पत्र जरूर जारी हुआ हैं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

बिना लगेज सफर करने वाले एयर पैसेंजर्स को किराए में छूट मिलेगी

नई दिल्ली 27 फरवरी 2021 ।  डोमेस्टिक एयर पैसेंजर्स को अब बैगेज नहीं ले जाने …