मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> 600 बीघा जमीन, 12 करोड़ और सेवादारों में छुपा है सबसे बड़ा राज

600 बीघा जमीन, 12 करोड़ और सेवादारों में छुपा है सबसे बड़ा राज

इंदौर 16 दिसंबर 2018 । भय्यू महाराज आत्महत्या केस में एक नया पेंच 600 बीघा जमीन, 12 करोड़ नकद और 200 करोड़ का बेनामी निवेश भी है। जानकारी के अनुसार बता दें कि महाराज की मौत के बाद करोड़ों रुपए सेवादार आदि ने मिलकर बांट लिए। इसके साथ ही इस मामले में पुलिस ने नए सिरे से जांच शुरू कर दी है और सभी संदेहियों की तलाश की जा रही है। घोटाले की प्रमुख राजदार महिला श्रीलंका की जेल में बंद है।

वहीं बता दें कि भय्यू महाराज की आत्महत्या के बाद उनके करीबी विनायक दुधाले, मनमीत अरोरा, शेखर और अन्य सेवादारों ने महाराज की पत्नी डॉ. आयुषी और मां कुमोदनी देवी को बदनामी का डर बताकर मुंह बंद कर दिया और उनके करोड़ों रुपए नकद, बेनामी संपत्ति में किया निवेश लेकर गायब हो गए। वहीं बता दें कि हिस्से के दो करोड़ रुपए नहीं मिलने पर ड्राइवर कैलाश पाटिल ने वकील राजा बड़जात्या को पांच करोड़ के लिए धमकाया और गिरोह का भंडा फूट गया। इसके साथ ही कैलाश का दावा है कि विनायक से पास 12 करोड़ रुपए थे। महाराज की आत्महत्या के कुछ दिनों बाद वे महाराष्ट्र भिजवा दिए। उसने मुंह बंद रखने के लिए दो करोड़ देने का वादा किया था।

इसके अलावा बताया जा रहा है कि महाराज ने भी करोड़ों रुपए निवेश करवाए हैं और सेवादार विवादित जमीनों के सौदे करवाते थे। राजनेताओं के जरिए मसले सुलझा देते थे। बता दें कि मुंबई की चिटफंड कारोबारी वर्षा सतपालकर उर्फ ताई से बैतूल-छिंदवाड़ा की 600 बीघा विवादित जमीन में करीब 200 करोड़ रुपए निवेश करवाए थे। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख की मदद से विवाद सुलझाने का झांसा देकर करोड़ों रुपए कमीशन लिया था। वहीं बता दें कि जांच में शामिल एक अधिकारी के अनुसार वर्षा से पूछताछ की तैयारी की गई थी लेकिन वह श्रीलंका की जेल में बंद है। कुछ अन्य राजदारों को तलब किया जा रहा है।

कई महिलाओं से थे भय्यूजी महाराज के संबंध, अश्लील वीडियो बनाकर युवती मांग रही थी करोड़ों रूपए और फ्लेट
मध्य प्रदेश के चर्चित आध्यात्मिक गुरु और सामाजिक कार्यकर्ता भय्यूजी महाराज सुसाइड केस में जहां अब तक उनकी बेटी पीहू और पत्नी आयुषी के बीच विवाद को वजह बताया जा रहा था, वहीं पुलिस जांच में कुछ और ही निकलकर आ रहा है। भय्यूजी के ड्राइवर ने पुलिस को बताया है कि एक युवती उनको ब्लैकमेल कर रही थी और 40 करोड़ रुपए, मुंबई में फ्लैट व जॉब मांग रही थी। वो युवती अपने पास भय्यूजी के साथ संबंध के आापत्तिजनक वीडियो-फोटो होने का दावा करती थी और उनको धमकाती रहती थी। 12 जून 2018 को भय्यूजी ने खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली थी।

साजिश में भय्यूजी के दो सेवादार शामिल
भय्यूजी का ड्राइवर कैलाश पाटिल पुलिस की गिरफ्त में जब आया तो पुलिस की जांच की दिशा ही बदल गई। इस ड्राइवर पर भय्यूजी से पांच करोड़ रुपए मांगने के आरोप हैं। अब तक पुलिस इसे सुसाइड केस मान रही थी लेकिन ड्राइवर से पूछताछ में एक युवती का नाम सामने आया है। ड्राइवर के मुताबिक, इस युवती के जाल में भय्यूजी फंस गए थे और उनके दो करीबी सेवादार भी ब्लैकमेलिंग की इस साजिश में भागीदार थे।

ड्राइवर ने पुलिस को बताया कि युवती ने भय्यूजी के साथ संबंध का आपत्तिजनक वीडियो बना लिया था और उसके बाद ब्लैकमेलिंग कर महाराज से लाखों रुपए ऐंठ रही थी। सुसाइड से पहले भी महाराज की उस युवती से बात हुई थी। इस साजिश में सर्वोदय आश्रम के दो सेवादार विनायक और शेखर भी शामिल थे। युवती भय्यूजी को रेप केस में फंसाने और अंडरगार्मेंट्स पुलिस को सबूत के तौर पर देने की बात कहती थी। इस वजह से भय्यूजी काफी तनावग्रस्त रहते थे।

ड्राइवर ने पुलिस को बताया कि भय्यूजी महाराज के लगभग 12 महिलाओं के साथ संबंध थे। ड्राइवर ने बताया कि युवती के साथ मिलकर सेवादार विनायक और शेखर ने ब्लैकमेलिंग का प्लान बनाया। पुलिस ड्राइवर, उसके साथी अनुराग और सुमित को तीन दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है। पुलिस उस युवती और सेवादारों की भूमिका के बारे में ड्राइवर के दावों की जांच में लगी है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

भारत में कोरोना का सबसे बड़ा अटैक, एक दिन में पहली बार 2 लाख 34 हजार नए केस

नई दिल्ली 17 अप्रैल 2021 । कोरोना की दूसरी लहर हर दिन नए रिकॉर्ड बना …