मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> 74 हजार 519 केस: कम्युनिटी ट्रांसमिशन का पता लगाने के लिए 69 जिले चुने

74 हजार 519 केस: कम्युनिटी ट्रांसमिशन का पता लगाने के लिए 69 जिले चुने

नई दिल्ली 13 मई 2020 । देश में कोरोना के कम्युनिटी ट्रांसमिशन पता लगाने के लिए 21 राज्यों के 69 जिलों को चुना गया है। यहां आबादी आधारित सर्वे किया जाएगा। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार इन जिलों में कोरोना वायरस के कम्युनिटी ट्रांसमिशन का पता लगाने के लिए एंटीबॉडीज की जांच की जाएगी। एक जिले के 10 क्लस्टर क्षेत्र के हर घर से एक-एक व्यक्ति का सैंपल लिया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि इस सर्वे में महाराष्ट्र के छह जिले- बीड, जलगांव, अहमदनगर और सांगली को शामिल किया गया है। वहीं, राजस्थान से दौसा, जालोर और मध्यप्रदेश से उज्जैन, इंदौर और ग्वालियर हैं। वहीं, यूपी से बरेली, उन्नाव, सहारनपुर और मऊ जैसे जिले शामिल हैं।

देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 74 हजार 519 हो गई है। मंगलवार को महाराष्ट्र में 1026, तमिलनाडु में 716, दिल्ली में 406, गुजरात में 362, मध्यप्रदेश में 201, राजस्थान में 138, प. बंगाल में 110 और बिहार में 81 समेत 3474 से ज्यादा रिपोर्ट पॉजिटिव आईं। बीते 24 घंटे में 1871 मरीज ठीक भी हुए। ये आंकड़े covid19india.org और राज्य सरकारों से मिली जानकारी के आधार पर हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में 74 हजार 281 संक्रमित हैं। 47 हजार 480 का इलाज चल रहा है। 24 हजार 386 ठीक हो चुके हैं, जबकि 2415 मरीजों की मौत हुई है।

कोरोना अपडेट्स

झारखंड के स्वास्थ्य सचिव नितिन मदान कुलकर्णी ने बुधवार को बताया कि एक व्यक्ति जो श्रमिक स्पेशल ट्रेन से सोमवार रात रांची पहुंचा था। उसका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है। इसके साथ राज्य में संक्रमितों की संख्या 173 हो गई है।
शंघाई सहयोग संगठन की बुधवार को बैठक है। इसमें विदेश मंत्री एस. जयशंकर शामिल होंगे। इसमें मुख्य तौर पर कोरोना वायरस से निपटने पर बातचीत की जाएगी। ये आपस में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़ेंगे।
एयर इंडिया की 1377 फ्लाइट बुधवार तड़के कुआलालम्पुर, मलेशिया से मुंबई के छत्रपति शिवाजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंची। इसमें 225 यात्री सवार थे। मध्यप्रदेश, संक्रमित- 3986: यहां मंगलवार को 201 नए मामले सामने आए। देश में कोरोना संक्रमण जून-जुलाई के बीच पीक पर होने का अनुमान है। माना जा रहा है तब मध्यप्रदेश में 80 हजार से ज्यादा मरीज हो सकते हैं। इंदौर में संक्रमितों की संख्या 13 हजार 400 के करीब होगी। इस स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार ने जिले के आला अफसरों को अस्पतालों में बिस्तर, वेंटिलेटर और आईसीयू की व्यवस्था करने का आदेश दिया है।

यहां से कई प्रवासी मजदूर अपने गृह राज्य राज्य जाने के लिए पैदल और अन्य वाहन से गुजरे। ऐसे ही कुछ लोग महाराष्ट्र से वाराणसी की यात्रा साइकिल पर कर रहे थे।
महाराष्ट्र, संक्रमित- 24427: यहां मंगलवार को 1026 मामले सामने आए। ऑर्थर रोड जेल में 100 कैदियों के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद महाराष्ट्र सरकार की कमेटी ने फैसला किया है कि राज्य में 50% कैदियों को टेम्परेरी बेल या पैरोल पर रिहा किया जाएगा। कमेटी ने अभी यह साफ नहीं किया है कि कितने समय के लिए इन कैदियों को रिहा किया जाएगा। राज्य की जेलों में 35 हजार 239 कैदी हैं।
उत्तरप्रदेश, संक्रमित- 3664: यहां मंगलवार को कोरोना के 91 मामले सामने आए। संक्रमण असर 74 जिलों में फैल चुका है। सिर्फ चंदौली ही इससे बचा हुआ है। कुल मरीजों में 1184 जमाती हैं। 1873 लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं। 82 लोगों की मौत हो चुकी है।

यहां एक महिला मरीज की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई और वह अस्पताल से घर पहुंची तो लोगों ने फूल बरसाकर स्वागत किया।
राजस्थान, संक्रमित- 4213:राज्य में बुधवार को 87 नए मामले सामने आए। यहां मंगलवार को संक्रमण के 138 नए केस आए। इनमें उदयपुर में 32, जयपुर में 22, कोटा में 5, झुंझुनूं में 2, पाली, चूरू, सीकर, अजमेर, चित्तौड़गढ़, हनुमानगढ़ और सीकर में 1-1 संक्रमित मिला। राज्य में कोरोना से अब तक 117 की मौत हो चुकी है।

दिल्ली, संक्रमित- 7639: यहां मंगलवार को 406 मरीजों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इस बीच यहां स्थिति एयर इंडिया के हेडक्वार्टर को 2 दिन के लिए बंद कर दिया गया है। यहां एक चपरासी संक्रमित पाया गया। कंपनी ने कहा कि चेयरमैन और एमडी प्रदीप सिंह खारोला समेत सभी कर्मचारी घर से काम करेंगे। यह भी पता चला है कि एरलाइंस के 5 पायलट की पहले आई पॉजिटिव रिपोर्ट गलत थी। दोबारा की गई जांच में उनमें कोरोना की पुष्टि नहीं हुई है।

यहां के मयूर विहार फेज-वन में फ्लाईओवर का निर्माण कार्य मंगलवार से शुरू हो गया।
बिहार, संक्रमित- 830: यहां मंगलवार को संक्रमण के 81 मामले आए। इनमें पश्चिमी चंपारण में 14, खगड़िया में 16, रोहतास में 13, बेगूसराय में 9, पटना में 7 मरीज मिले हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे ने कहा कि राज्य में टेस्टिंग क्षमता बढ़ाने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। केंद्र सरकार राज्य को 86 मशीन ट्रू नेट टेस्टिंग के लिए देगी। फर्स्ट फेज में 15 मशीन दी गई हैं। बाकी जल्द मिल जाएंगी। फिलहाल, यहां रोज 1811 टेस्ट किए जा रहे हैं।

कोरोना के बाद यूरोप की तर्ज पर बदलेगा ट्रांसपोर्ट सिस्टम, जेब पर पड़ेगा असर

भारत में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। वहीं संभावना जताई जा रही है कि इस वायरस का असर लंबे समय तक रहेगा। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत कई दूसरे विशेषज्ञ भी यह बात कह चुके हैं कि हमें कोरोना के साथ जीने की आदत डालनी होगी। इसी बीच खबरें है कि केंद्र और राज्य सरकारें मौजूदा ट्रांसपोर्ट सिस्टम को बदलने की तैयारी में जुट गई है।

बताया जा रहा है कि जो नया ट्रांसपोर्ट सिस्टम होगा वह यूरोप की तर्ज पर बनेगा। बसों में आधी सीटें खत्म की जाएगी जबकि ट्रेन और मेट्रो के फेरे 7 गुना तक बढ़ा दिए जाएंगे। साथ ही मेट्रो कोच और ट्रेन की एक बोगी में सामाजिक दूरी को देखते हुए यात्रियों की संख्या घटाई जाएगी। इतना ही नहीं टिकट लेने के सिस्टम में भी बदलाव किए जाएंगे और साइकिल को विशेष महत्व दिया जाएगा। हालांकि खबरें यह भी है कि नए सिस्टम से यात्रियों की जेब पर काफी भारी पड़ेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो केंद्रीय ट्रांसपोर्ट, रेलवे, वित्त, शहरी विकास और गृह मंत्रालय के अधिकारी विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों के साथ मिलकर इस प्रोजेक्ट पर योजना बना रहे हैं। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के मुताबिक नया सिस्टम यूरोप की तरह नजर आएगा। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के मद्देनजर ट्रक व बस से तैयार की जाएगी।

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि इस सुविधा का जीवनकाल भी लंबा होगा। हर एक वाहन में हैंड वॉश, सैनिटाइजर, मास्क और दस्ताने आदि की भी व्यवस्था की जाएगी। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बताया कि इस नई व्यवस्था के तहत झारखंड में 52 सीटर वाली बस में 25 यात्री बैठ सकेंगे।

वहीं इस नई व्यवस्था के चलते यात्रियों से को दुगना किराया देने पर मजबूर होना पड़ेगा। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के अध्यक्ष कुलतरण सिंह अटवाल और झारखंड बस मालिक एसोसिएशन के सचिव किशोर मंत्री भी बता चुके हैं कि इसको लेकर बस मालिकों के साथ चर्चा की जा रही है। हम चाहते हैं कि देश के सभी राज्यों में कोरोना वायरस से बचाव वाला एक जैसा ट्रांसपोर्ट सिस्टम लागू हो। ऐसे में परिवहन सेक्टर में बड़े बदलाव होंगे यदि बसों की सीटें घटेगी तो किराया भी बढ़ेगा।

बता दें कि इस व्यवस्था को रूप देने में जर्मन डेवलपमेंट एजेंसी और इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रांसपोर्ट डेवलपमेंट एंड पॉलिसी भी काम कर रही है। केंद्र सरकार में ट्रांसपोर्ट विभाग से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक ट्रेन मेट्रो टैक्सी ऑटो रिक्शा और ई रिक्शा के लिए भी नई पॉलिसी का निर्माण किया जा रहा है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘इंडोर प्लान’ से OBC वोटर्स को जोड़ेगी BJP, सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों में उतरेगी टीम

नयी दिल्ली 25 जनवरी 2022 । उत्तर प्रदेश की आबादी में करीब 45 फीसदी की …