मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> आखिर क्यों अजीत अंजुम को छोड़ना पड़ा टीवी9 भारतवर्ष?

आखिर क्यों अजीत अंजुम को छोड़ना पड़ा टीवी9 भारतवर्ष?

नई दिल्ली 7 सितम्बर 2019 । खरी बात कहने के लिए विख्यात वरिष्ठ टीवी पत्रकार अजीत अंजुम ने अपने साथियों विनोद कापड़ी और हेमंत शर्मा के साथ जिस जोश-ओ-खरोश के साथ ‘टीवी 9 भारतवर्ष’ लॉन्च किया था, उसी चैनल से पहले विनोद कापड़ी और अब अजीत अंजुम के अलविदा कहने के बाद मीडिया गलियारों में कई तरह की बातें सामने आ रही हैं।

बताया जा रहा है कि अजीत अंजुम ने ये बड़ा फैसला इसलिए लिया, क्योंकि हैदराबाद की मैनेजमेंट टीम ने अब चैनल पर पूरी तरह से अधिकार जमा लिया है। ऐसे में अजीत अंजुम का 7 बजे का शो ‘राष्ट्रीय बहस’ भी लगातार निशाने पर था। बताया जा रहा है कि पहले शो के एजेंडे और विषय को लेकर मैनेजमेंट ने शिकायत करना शुरू किया और फिर अचानक शो का समय एक घंटे से घटाकर आधा घंटा करने का फैसला ले लिया था। अचानक पिछले हफ्ते हुए इस फैसले के बाद से अजीत अंजुम छुट्टी पर चले गए थे और फिर कल नए सीईओ के जॉइन करने के बाद आज उन्होंने आखिरकार भारी मन से ये फैसला लिया है।

वैसे चैनल में कार्यरत कुछ पत्रकारों का ये भी कहना है कि चैनल की लॉन्चिंग के समय ही जब प्रधानमंत्री मोदी ने ये कहा कि आप लोगों के तो खून में ही मुझे गाली देना है, उसी समय प्रबंधन ने एंटी मोदी माने जाने वाले विनोद कापड़ी और अजीत अंजुम की विदाई का मन बना लिया था और पांच महीनों में ही उसे अमलीजामा पहना दिया।

मीडिया का एक बड़ा हिस्सा इसे कॉस्ट कटिंग से भी जोड़ रहा है। बताया जा रहा है कि नए प्रबंधतंत्र ने पाया कि चैनल में चुनिंदा लोग मोटा पैकेज ले रहे हैं और ऐसे में मंदी के इस दौर में चैनल को उतना प्रभावी आउटपुट नहीं मिल रहा है, इसलिए मैनेजमेंट ने इस तरह की स्थितियों का निर्माण किया कि उनके मनमाफिक फैसला अजीत अंजुम मजबूरी में खुद ही ले लें। एक और चर्चा इस बारे में ये भी चल रही है कि अजीत अंजुम का टीवी9 भारतवर्ष के साथ एक साल (सितंबर 2018-अगस्त 2019) का कॉन्ट्रैक्ट था, जो प्रबंधन ने रिन्यू नहीं किया। ऐसे में अजीत अंजुम को चैनल को अलविदा कहना पड़ा।

ये वो कयास हैं, जिनकी चर्चा मीडिया गलियारों में हो रही है। समाचार4मीडिया इनकी पुष्टि नहीं करता है। हमने अजीत अंजुन और टीवी9 भारतवर्ष प्रबंधन से बात करने की कोशिश की पर वहां से जवाब नहीं मिला।

टीवी9 भारतवर्ष की प्राइम टाइम महिला एंकर ने भी दिया इस्तीफा

टीवी9 भारतवर्ष से एक बड़ी खबर सामने आई है। खबर है कि चैनल की प्राइम टाइम एंकर स्मिता शर्मा ने इस चैनल को बाय बोल दिया है। वह यहां पर एग्जिक्यूटिव एडिटर (कंसल्टिंग) की जिम्मेदारी संभाल रही थीं। स्मिता शर्मा इस चैनल पर रात नौ बजे आने वाले प्राइम टाइम शो ‘दैनिक भारतवर्ष’ को होस्ट करती थीं। उन्होंने इसी साल मार्च में ही इस चैनल के साथ अपनी पारी शुरू की थी। स्मिता शर्मा ‘टीवी9 भारतवर्ष’ में अपनी जिम्मेदारी संभालने से पहले ‘द ट्रिब्यून’ (The Tribune) से बतौर डिप्टी एडिटर जुड़ी हुई थीं और यहां उन्होंने करीब डेढ़ साल (सितंबर2017-मार्च 2019) तक काम किया था।

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन से ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म में पीजी डिप्लोमा करने के बाद उन्होंने फरवरी 2005 में ‘IBN7 News/CNN-IBN (Network 18)’ में बतौर एसोसिएट एडिटर (फॉरेन अफेयर्स/प्राइम टाइम एंकर) के रूप में अपनी जिम्मेदारी संभाली। यहां उन्होंने साढ़े नौ साल से ज्यादा समय तक काम किया और अक्टूबर 2014 में यहां से बाय बोलकर ‘इंडिया टुडे’ का दामन थाम लिया।

‘इंडिया टुडे’ में उन्हें डिप्टी एडिटर (फॉरेन अफेयर्स इंचार्ज/प्राइम टाइम एंकर) की जिम्मेदारी दी गई। ‘इंडिया टुडे’ में करीब ढाई साल तक अपनी भूमिका निभाने के बाद उन्होंने मार्च 2017 में यहां से अलविदा कह दिया और स्वतंत्र पत्रकार/कॉलमिस्ट/कमेंटेटर के रूप में नई पारी शुरू कर दी। करीब छह महीने तक स्वतंत्र पत्रकार के रूप में काम करने के बाद उन्होंने सितंबर 2017 में ‘द ट्रिब्यून’ के साथ नई पारी शुरू की और यहां से होती हुईं ‘टीवी9 भारतवर्ष पहुंची थीं।’ स्मिता शर्मा को देश के उन एंकर्स में गिना जाता है, जो ग्राउंड जीरो से तेजतर्रार रिपोर्टिंग के लिए भी जाने जाते हैं। कश्मीर की गलियों में उनकी दिल को छू लेने वाली रिपोर्टिंग ने उन्हें काफी सुर्खियां दिलवाईं। कई देशों में जाकर उन्होंने मौके से रिपोर्टिंग की है। उनकी आईबीएन7 के लिए अपनी आखिरी विदेश यात्रा में जापान से बुलेट ट्रेन की सैर पर स्पेशल रिपोर्ट थी। उनकी शानदार पत्रकारिता के लिए उन्हें प्रतिष्ठित रामनाथ गोयनका अवॉर्ड भी मिल चुका है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …