मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> सस्ता फोन और इंटरनेट देने के बाद अब ‘सस्ता घर’ देंगे अंबानी !

सस्ता फोन और इंटरनेट देने के बाद अब ‘सस्ता घर’ देंगे अंबानी !

नई दिल्ली 11 अप्रैल 2019 । देश में सस्ता फोन और सस्ता इंटरनेट देने के बाद दुनिया के 13वें और भारत के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी जल्द ही रियल एस्टेट में बड़ा धमाका करने जा रहे हैं। मिली जानकारी के मुताबकि रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड मुंबई में सिंगापुर की तर्ज पर विश्वस्तरीय मेगासिटी तैयार करने जा रहा है। एक अंग्रेजी वेबसाइट में छपी खबर के मुताबकि इस मेगासिटी में एयरपोर्ट, पोर्ट तथा सी लिंक कनेक्टिविटी भी होंगे। इसमें पांच लाख से अधिक लोग रह सकेंगे। यही नहीं, इस शहर में हजारों कंपनियां भी होंगी। इस प्रॉजेक्ट के डिवेलपमेंट में एक दशक में लगभग 75 अरब डॉलर की लागत आ सकती है।
-रिलायंस ने वैश्विक स्तर का एक इकनॉमिक हब डिवेलप करने के लिए पिछले महीने की शुरुआत में नवी मुंबई एसईजेड से 2,100 करोड़ रुपये के शुरुआती भुगतान पर 4,000 एकड़ जमीन को लीज पर लेने के बारे में घोषणा की थी।

-एनएमएसईजेड ने विश्वस्तरीय एसईजेड डिवेलप करने के लिए साल 2006 में यह जमीन दी थी।
-अंबानी अपनी इस महत्वाकांक्षी परियोजना को बेहद व्यापक स्तर पर लॉन्च कर सकते हैं, जैसा पहले कभी नहीं देखा गया होगा।

-विश्लेषकों का कहना है कि रियल एस्टेट के क्षेत्र पर इस प्रॉजेक्ट का वही असर हो सकता है, जैसा दूरसंचार क्षेत्र पर जियो की वजह से हुआ।

-कुल मिलाकर, रिलायंस का यह प्रॉजेक्ट भारत में नई इबारत लिख सकता है, क्योंकि समस्त शहरी बुनियादी ढांचे की जो तस्वीर है, उसे यह पूरी तरह बदल सकता है।
-इस प्रॉजेक्ट की सबसे बड़ी खासियत यह है कि वह न सिर्फ खुद इस प्रॉजेक्ट को डिवेलप करेगी, बल्कि शहर तैयार होने के बाद वह उसके प्रशासन को भी नियंत्रित करेगी। ऐसा ‘स्पेशल प्लानिंग अथॉरिटी’ लाइसेंस की वजह से होगा, जो कंपनी को इस ऐतिहासिक परियोजना के लिए मिला है।

-रिपोर्ट के मुताबिक, इस लाइसेंस से अंबानी को न सिर्फ बेहद कम लालफीताशाही का सामना करना पड़ेगा, बल्कि शहर को डिवेलप करने की लागत भी कम होगी।
-रिलायंस ग्रुप के संस्थापक धीरुभाई अंबानी पहली बार नवी मुंबई में एक विश्वस्तरीय शहर बसाने का आइडिया लेकर आए थे। उन्होंने 80 के दशक में इस तरह के प्रॉजेक्ट के बारे में विचार किया था। अगर अंबानी का यह प्लान सफल होता तो मुंबई को काफी पहले ही भारी भीड़भाड़ से आजादी मिल चुकी होती।

अंबानी को मिलेगी बड़ी चुनौती, 57 हजार करोड़ जमा कर रहे बिड़ला और मित्तल

प्राइस वार के दम पर भारत के टेलिकॉम मार्केट को बुरी तरह हिलाने वाली मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की कंपनी रिलायंस जियो (Reliance Jio) को जल्द बड़ी चुनौती मिलने जा रही है। दरअसल, देश की लीडिंग टेलिकॉम कंपनियां भारती एयरटेल (Bharti Airtel) और वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) बाजार से लगभग 55 हजार करोड़ रुपए जुटाने जा रही हैं। माना जा रहा है कि दोनों ही कंपनियां इस फंड के दम पर टेलिकॉम मार्केट में रिलायंस जियो के साथ चल रही अपनी जंग को और तेज कर सकती हैं। गौरतलब है कि भारती एयरटेल की कमान सुनील भारती मित्तल के हाथों में हैं, वहीं वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) ब्रिटेन की वोडाफोन और आदित्य बिड़ला ग्रुप की आइडिया का संयुक्त उपक्रम है।

भारती एयरटेल को मिली सेबी की मंजूरी
मार्केट रेग्युलेटर सेबी (SEBI) ने मंगलवार को ही भारती एयरटेल (Bharti Airtel) को राइट इश्यू (rights issue) के माध्यम से 25,000 करोड़ रुपए तक जुटाने की मंजूरी दी है। इसके अलावा फॉरेन करंसी परपेच्युअल बॉन्ड इश्यू के माध्यम से 7,000 करोड़ रुपए जुटाने की भी योजना है। सुनील भारती मित्तल की अगुआई वाली कंपनी का बोर्ड फरवरी में ही इस राइट इश्यू को मंजूरी दे चुका है।
सूत्रों के मुताबिक सिक्युरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) ने एयरटेल के राइट इश्यू को हरी झंडी दे दी है। संपर्क करने पर भारती एयरटेल (Bharti Airtel) के स्पोक्सपर्सन ने कहा, ‘कंपनी अभी जरूरी मंजूरियां लेने की प्रक्रिया में है और उचित समय पर इससे संबंधित घोषणा की जाएगी।’

भारती एयरटेल 220 रु प्रति शेयर पर लाएगी राइट इश्यू
इससे पहले बोर्ड ने 220 रुपए प्रति शेयर की दर से फुली पेड अप शेयर जारी करके 25,000 करोड़ रुपए जुटाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी थी।
कंपनी ने कहा था कि इस कैपिटल इनफ्यूजन से भविष्य के योजनाओं के लिए नेटवर्क कैपेसिटी के विस्तार में मिलेगी और बेहतर कस्टमर एक्सपीरिएंस सुनिश्चित करने के लिए कंटेंट व टेक्नोलॉजी पार्टनरशिप्स करने में मदद मिलेगी।

प्रमोटर भी करेंगे बड़ा निवेश
पिछले महीने एयरटेल (Airtel) को अपनी सबसे बड़ी शेयरहोल्डर सिंगटेल (Singtel), अपने प्रमोटर्स और जीआईसी सिंगापुर से 32,000 करोड़ रुपए के कैपिटल रेजिंग प्रोग्राम में भाग लेने की प्रतिबद्धता हासिल हो गई थी।
सिंगापुर की टेलिकॉम कंपनी सिंगटेल (Singtel) ने कहा कि वह कंपनी के 25,000 करोड़ रुपए के प्रस्तावित राइट इश्यू में सब्सक्राइब करके 3,750 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। वहीं सिंगापुर सरकार और मॉनिट्री अथॉरिटी सिंगापुर की तरफ से जीआईसी प्राइवेट लिमिटेड ने प्रस्तावित प्रोग्राम में 5,000 करोड़ रुपए के निवेश की प्रतिबद्धता जाहिर की थी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

राहुल ने जारी किया श्वेतपत्र, बोले- तीसरी लहर की तैयारी करे सरकार

नई दिल्ली 22 जून 2021 । कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस …