मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> ‘एक के बाद एक इस्तीफे होते रहे तो फिर देश का केंद्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ बीजेपी बन जाएगा!’

‘एक के बाद एक इस्तीफे होते रहे तो फिर देश का केंद्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ बीजेपी बन जाएगा!’

नई दिल्ली 26 जून 2019 । रिजर्व बैंक (आरबीआई) के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य के इस्तीफे की खबर आज सोशल मीडिया में काफी चर्चा में है. बीते साल विरल आचार्य भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए सरकार के साथ मतभेद की वजह से चर्चा में आए थे. तब की मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक आरबीआई के डिप्टी गवर्नर ने सरकार को देश के इस केंद्रीय बैंक की स्वायत्ता में दखल देने को लेकर चेताया था. वहीं ताजा खबरों के मुताबिक विरल आचार्य के वर्तमान गवर्नर शक्तिकांत दास के साथ भी नीतिगत मुद्दों पर असहमति थी. यही वजह है कि आज कई लोगों ने रिजर्व बैंक की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए हैं.

केंद्र में नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली पिछली सरकार में रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल को इस्तीफा देना पड़ा था. उनके अलावा नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया और सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने भी अपने कार्यकाल के बीच में ही इस्तीफा दिया था. यही वजह है कि विरल आचार्य के इस्तीफे के बाद सोशल मीडिया पर एक बड़े तबके ने आरोप लगाते हुए कहा है कि केंद्र सरकार अपने काम में माहिर आर्थिक विशेषज्ञों के साथ तालमेल नहीं बिठा पाती. इस मामले में वरिष्ठ पत्रकार एमके वेणु का ट्वीट है, ‘विरल आचार्य के साथ ही ऐसे कई अर्थशास्त्री पहले इस्तीफा दे चुके हैं… और ध्यान देने वाली बात है कि ऐसे कई संस्थान जिनमें आर्थिक विशेषज्ञ सलाहकार हैं, उन्हें आईएएस अफसर चला रहे हैं!’

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

प्रियंका गांधी का 50 नेताओं को फोन-‘चुनाव की तैयारी करें, आपका टिकट कन्फर्म है’!

नई दिल्ली 21 जून 2021 । उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव …