मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> 70 साल तक बढ़ाई जा सकती है रिटायरमेंट की उम्र

70 साल तक बढ़ाई जा सकती है रिटायरमेंट की उम्र

नई दिल्ली 05 जुलाई 2019 ।  देश में रिटायर होने की उम्र बढ़ाकर 65 या 70 वर्ष की जा सकती है, जो अभी 60 साल है। आर्थिक सर्वेक्षण 2018-19 से तो कम से कम ऐसे ही संकेत मिल रहे हैं।

सर्वेक्षण में कहा गया है कि देश में महिलाओं और पुरुषों, दोनों के मामले में जीवन प्रत्याशा बढ़ रही है। अब लोग 60 की उम्र में भी पहले से ज्यादा स्वस्थ रहते हैं। ऐसे में रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाने पर विचार किया जा सकता है।

यहां गौर करने वाली बात है कि बेहतर जीवन प्रत्याशा की वजह से कई देशों में रिटायरमेंट की उम्र 60 साल से ज्यादा है। आर्थिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि देश भी सरकार को पेंशन का बोझ कम करने के लिए रिटायरमेंट की उम्र चरणबद्घ तरीके से बढ़ाने की योजना बनानी होगी।

दरअसल, आर्थिक सर्वेक्षण के मुताबिक फर्टिलिटी रेट घटने के कारण देश में 0-19 वर्ष उम्र के लोगों की आबादी तेजी से बढ़ी है। 2021 तक नेशनल टीएफआर (टोटल फर्टिलिटी) रिप्लेसमेंट रेट के नीचे आ सकती है। ऐसे में युवाओं की संख्या उत्तरोत्तर घटती जाएगी और उम्रदराज लोगों की तादाद में इजाफा होता जाएगा।

पेंशन का बोझ बड़ा मसला

सर्वेक्षण के मुताबिक बेहतर जीवनशैली और स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार की बदौलत अब लोग 60 साल के बाद भी पूरी तरह स्वस्थ रहते हैं। बहुत से देशों में उम्रदराज लोगों की बढ़ती संख्या और उनकी पेंशन के लिए फंड का आकार लगातार बढ़ने के कारण रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाई गई है। आगामी वर्षों में भारत में भी कुछ ऐसे ही ट्रेंड नजर आ सकते हैं।

घटेगी आबादी बढ़ने की दर

सर्वेक्षण के अनुसार आगामी वर्षों में जनसंख्या बढ़ने दर घट सकती है। 2031-41 के दौरान देश की जनसंख्या 0.5 फीसदी की दर से बढ़ सकती है। फर्टिलिटी रेट घटने और जीवन प्रत्याशा बेहतर होने के कारण ऐसा हो सकता है। हालांकि समग्र तौर पर युवा आबादी ज्यादा होने से देश को फायदा होगा, लेकिन साल 2030 की शुरुआत से कुछ राज्यों में जनसंख्या का स्वरूप बदलेगा और अधिक आयु वाले लोगों की तादाद बढ़ेगी।

रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाना मजबूरी

1. साल 2011 में 0-19 आयु वर्ग की आबादी 41 प्रतिशत के रिकॉर्ड ऊंचे स्तर पर थी। आर्थिक सर्वेक्षण में अनुमान लगाया है कि 2041 में इस आयु वर्ग की आबादी 25 प्रतिशत रह जाएगी।

2. देश की कुल आबादी में 60 साल की उम्र वाले लोगों की संख्या 2011 के 8.6 प्रतिशत के मुकाबले वर्ष 2041 तक बढ़कर 16 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच जाने का अनुमान लगाया गया है।

3. कामकाजी आबादी 2021-31 के बीच सालाना 97 लाख की दर से बढ़ने का अनुमान है, लेकिन 2031-41 के बीच इसके घटकर सालाना 42 लाख के स्तर पर आने की आशंका जताई गई है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

किश्तवाड़ में बादल फटने से पांच की मौत, 40 से ज्यादा लोग लापता

नई दिल्ली 28 जुलाई 2021 ।  जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश का कहर देखने को मिला …