मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> एयर एशिया ने UPA के मंत्री को दी थी 50 लाख डॉलर की रिश्वत: पूर्व CEO मृत्युंजय चंदेलिया

एयर एशिया ने UPA के मंत्री को दी थी 50 लाख डॉलर की रिश्वत: पूर्व CEO मृत्युंजय चंदेलिया

नई दिल्ली 1 जून 2018 । प्राइवेट एयरलाइन कंपनी एयर एशिया को अंतरराष्ट्रीय लाइसेंस और विदेशी निवेश के लिए FIPB मंजूरी के लिए यूपीए सरकार के एक उड्डयन मंत्री को 50 लाख डॉलर की रिश्वत दी गई. एयर एशिया के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) मृत्युंजय चंदेलिया ने यह खुलासा किया है. चंदेलिया ने बताया कि तत्कालीन उड्डयन मंत्री को सिंगापुर के बैंक के जरिये ये रिश्वत दी गई. सीबीआई अब इस मामले में यूपीए-2सरकार में मंत्री रहे दो नेताओं की भूमिका की जांच करने की तैयारी में है. हालांकि एयर एशिया ने इन सारे आरोपों को खारिज किया है.

सीबीआई ने अंतरराष्ट्रीय उड़ान लाइसेंस पाने के लिए नियमों के कथित उल्लंघन को लेकर केस दर्ज किया है. सीबीआई की एफआईआर में एयर एशिया मलेशिया के समूह सीईओ एंथनी फ्रांसिस ‘टोनी’ फर्नांडीज के अलावा ट्रैवल फूड के मालिक सुनील कपूर, एयर एशिया के निदेशक आर. वेंकटरमण, एविएशन एडवाइजर दीपक तलवार, सिंगापुर की एसएनआर ट्रेडिंग के निदेशक राजेंद्र दुबे और अज्ञात सरकारी कर्मचारियों के नाम एफआईआर में शामिल हैं.

सीबीआई अधिकारियों ने बताया कि यह मामला लाइसेंस पाने के लिए कंपनी की तरफ से 5/20 नियम के कथित उल्लंघन से जुड़ा है. इसके अलावा इसमें विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड (एफआईपीबी) के नियमों के उल्लंघन का मामला भी शामिल है. एविएशन सेक्टर में 5/20 नियम का मतलब किसी कंपनी के लिए पांच साल का अनुभव और 20 विमानों का बेड़ा होना अनिवार्य है, तभी वह अंतरराष्ट्रीय उड़ान परिचालन कर सकती है

सीबीआई का आरोप है कि फर्नांडीज़ ने लाइसेंस पाने के लिए सरकारी अधिकारियों के साथ कथित लॉबिंग की वह मौजूदा 5/20 नियम को हटा दें और नियामकीय नीति में बदलाव करें. अधिकारियों ने बताया कि इस मामले में दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु समेत छह स्थानों पर छापे मारे गए हैं

क्या है मामला

सीबीआइ ने मंगलवार को एयर एशिया ग्रुप के सीईओ टोनी फर्नांडीज और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। विमानन सलाहकार दीपक तलवार का नाम भी मामले में दर्ज किया गया है। इन पर अंतरराष्ट्रीय उड़ान के लाइसेंस लेने के लिए हेराफेरी का आरोप है। फिलहाल, सीबीआई आरोपियों की तलाश में दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरू में छापेमारी कर रही है। बताया जाता है कि करीब आधा दर्जन लोगों का नाम चार्जशीट में शामिल है।

ये हैं आरोप
आरोप है कि अंतरराष्ट्रीय उड़ान लाइसेंस लेने के लिए 5/20 नियम का उल्लंघन किया गया। इस नियम के तहत उड़ान के लिए लाइसेंस हेतू एविशन कंपनी के पास कम से कम 5 साल का अनुभव और 20 एयरक्राफ्ट होने जरूरी हैं।

महाराजा को खरीदने वाला नहीं मिला कोई, एयर इंडिया की नीलामी फेल

केंद्र सरकार को सार्वजनिक क्षेत्र की उड़ान कंपनी एयर इंडिया के रणनीतिक विनिवेश के लिए कोई बोली नहीं मिली है. नागर विमानन मंत्रालय ने ट्वीट कर यह जानकारी दी. एयर इंडिया की रणनीतिक हिस्सेदारी बिक्री में इच्छुक पार्टियों की ओर से रूचि जाहिर करने की गुरुवार को अंतिम तारीख थी.

मंत्रालय ने कहा, ‘लेनदेन सलाहकार ने सूचित किया है कि एयर इंडिया के रणनीतिक विनिवेश के लिए निकाले गए रुचि पत्र (ईओआई) के लिए कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है.’ बयान में कहा गया है कि इस पर आगे की कार्रवाई उचित तरीके से तय की जाएगी. ईओआई को इस प्रक्रिया के लिए लेनदेन सलाहकार नियुक्त किया गया था.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

भारत में कोरोना का सबसे बड़ा अटैक, एक दिन में पहली बार 2 लाख 34 हजार नए केस

नई दिल्ली 17 अप्रैल 2021 । कोरोना की दूसरी लहर हर दिन नए रिकॉर्ड बना …