मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> सेना के तीनों अंगों की संयुक्त कमान के खिलाफ एयरफोर्स : एडमिरल लांबा

सेना के तीनों अंगों की संयुक्त कमान के खिलाफ एयरफोर्स : एडमिरल लांबा

मुंबई 6 दिसंबर 2018 । नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने कहा है कि सेना के तीनों अंगों के बीच सहयोग और समन्वय की दिशा में काफी प्रगति हुई है, लेकिन वायुसेना संयुक्त कमान के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि संयुक्त कमान की स्थापना से पहले एक उच्च स्तर का रक्षा संगठन अवश्य स्थापित किया जाना चाहिए। हालांकि सेना के तीनों अंगों (थल सेना, वायुसेना और नौसेना) के प्रमुख के तौर पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) नियुक्त करने के प्रस्ताव पर तीनों सेनाओं के बीच सर्वसम्मति है और इस पर एक प्रस्ताव रक्षा मंत्रालय को भेजा गया है।

मुंबई हमलों के दस साल बाद समुद्री सुरक्षा की तैयारियों पर उन्होंने कहा कि समुद्री इलाकों की चौबीसों घंटे निगरानी हो रही है। नौसेना के साथ-साथ तटरक्षक बल ने भी अपनी निगरानी क्षमता में इजाफा किया है। साथ ही मछली पकड़ने वाली ढाई लाख नौकाओं में ट्रांसपोंडर लगाने का कार्य शुरू किया गया है। इस ट्रांसपोंडर की मदद से उपग्रह के जरिए इन नौकाओं की पहचान की जा सकेगी।

नौसेना प्रमुख ने यह स्पष्ट किया कि केरल में आई भीषण बाढ़ के दौरान बचाव एवं राहत अभियानों के लिये उसने केरल सरकार को कोई बिल नहीं भेजा है। नौसेना ने बचाव अभियान के तहत 16,843 लोगों को बचाया, जिनमें से 1,173 लोगों को विमान से ले जाया गया। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने हाल में कहा था कि वायुसेना ने बाढ़ के दौरान राहत कार्यों के लिये 33.79 करोड़ रुपये का बिल दिया है।

56 नए युद्धपोत शामिल होंगे
लांबा ने कहा कि समुद्र में चीन और पाकिस्तान से दोहरे मोर्चे पर मिलने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए भारतीय नौसेना अपनी क्षमता में भारी इजाफा करने जा रही है। इसके तहत 56 जंगी जहाजों एवं पनडुब्बियों को नौसेना में शामिल किया जाएगा। यह पहले से निर्माणाधीन 32 जंगी पोतों के अतिरिक्त है। नौसेना ने एक और विमानवाहक पोत लाने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। उसके पास अभी दो विमानवाहक पोत हैं।

हमारे लिए सिर्फ एक ही मोर्चा
एडमिरल ने कहा कि भारतीय नौसेना पाकिस्तान से कहीं आगे हैं, जबकि हिंद महासागर में शक्ति संतुलन चीन के मुकाबले भारत के पक्ष में है, जहां तक भारतीय नौसेना की बात है, हमारे लिए दो मोर्चें नहीं हैं। हमारे लिए एक ही मोर्चा है और वह हिंद महासागर है। वहीं चेन्नई में रियर एडमिरल आलोक भटनागर एन एम ने कहा कि हाल के वर्षों में हिंद महासागर क्षेत्र में चीन की मौजूदगी बढ़ी है और सेना बहुत एहतियात से इस पर नजर रखे हुए हैं। भटनागर ने कहा कि चीन के पास हमारी ही तरह अधिकार है कि वह विश्व के किसी हिस्से में मौजूद रह सकते हैं।

नौसेना में महिलाओं की संख्या बढ़ेगी
नौसेना प्रमुख ने कहा कि नौसेना में नाविक के रूप में महिलाओं की भर्ती को लेकर अध्ययन किया जा रहा है। इसकी रिपोर्ट आने के बाद निर्णय लिया जाएगा। नौसेना में महिला पायलटों को टोही विमान उड़ाने की अनुमति है। इस प्रकार से देखा जाए तो वह युद्धक भूमिका में भी हैं। नए पोतों को ऐसे डिजाइन किया जा रहा है कि उनमें महिला अफसरों के रहने की सुविधा हो।

रिलायंस पर जुर्माना
लांबा ने कहा कि पांच सुदूर तटीय गश्ती वाहनों के अनुबंध को समय पर पूरा नहीं करने के कारण रिलायंस नेवल इंजीनियरिंग लिमिटेड (आरएनईएल) पर जुर्माना लगाया गया है। उसकी बैंक गारंटी जब्त कर ली गई है। नौसेना प्रमुख ने स्पष्ट किया कि आरएनईएल के साथ किसी तरह की रियायत नहीं बरती जा रही है। अनुबंध की जांच की जा रही है ताकि उस पर निर्णय लिया जा सके।

नौसैनिक अड्डे पर सेशल्स से बातचीत
सेशल्स के एजम्पशन द्वीप पर एक नौसेनिक अड्डा बनाने के प्रस्ताव की मौजूदा स्थिति के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इसके लिए सेशल्स की सरकार से बातचीत चल रही है। मालदीव में अब भारत के प्रति बेहतर रवैया रखने वाली सरकार बन जाने पर दोनों देश समुद्री सहयोग बढ़ा सकेंगे।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

मिंटो हॉल का नाम अब BJP के पूर्व अध्यक्ष कुशाभाऊ ठाकरे पर, सीएम शिवराज सिंह चौहान का ऐलान

भोपाल 27 नवंबर 2021 । मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ऐलान किया है …