मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> एशिया का सबसे बड़ा रसोईघर.. यहां से कोई भूखा नहीं जाता…

एशिया का सबसे बड़ा रसोईघर.. यहां से कोई भूखा नहीं जाता…

नई दिल्ली 25 जून 2019 । साई प्रसादालय में हर रोज 60 हजार से ज्यादा लोग खाना खाते हैं। एक बार में करीब 3500 लोगों को खाना यहां परोसा जाता है। श्री साईं बाबा संस्थान के मुताबिक, इसकी शुरुआत 19वीं सदी में की थी। यहां मान्यता है कि यहां खुद साईं बाबा चक्की पर गेहूं पीसकर लोगों को भोजन करवाते थे।

सबसे खास बात तो यह कि यहां सोलर एनर्जी से खाना बनाया जाता है। इसके लिए छत पर बड़ी-बड़ी सोलर छतरी लगाई गई हैं। इस किचन में रोज करीब 6 हजार किलो आटा इस्तेमाल किया जाता है। यहां रोटी बनाने की 5 मशीनें हैं जो तीन घंटे में 30 हजार रोटियां बनाती हैं।

प्रसादालय में बनने वाले भोजन की एक थाली की कीमत 10 रूपए है। जबकि, 10 साल से भी कम उम्र के बच्चों के लिए एक थाली की कीमत 4 रूपए है। वैसे तो यहां एक थाली की लागत लगभग 15 रूपए है।

इसके बावजूद यहां लोगों को थाली 10रुपए में परोसी जाती है। यहां गरीब और असहायों के लिए भोजन मुफ्त है। वहीं, वीआईपी हॉल में खाने के लिए 40 रूपए देने होते हैं। यदि आप साईं प्रसादालय में भोजन करवाना चाहते हैं तो इसकी भी सुविधा मौजूद है। इसके लिए आपको पहले से बुकिंग करवानी होगी। श्री साईं बाबा संस्थान ट्रस्ट की वेबसाइट से आप भोजन डोनेशन स्कीम में बुकिंग कर सकते हैं। यहां मिनिमम 50 हजार और मैक्सिमम 3 लाख रूपए तक दान कर सकते हैं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Skepticism And Vaccine Hesitancy For Precaution dose Among People : Dr Purohit

Bhopal 28.01.2022. Advisor for National Immunisation Programme Dr Naresh Purohit said that there exists vaccine …