मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> 12 देशों में फैली है संपत्ति, विदेशों में हैं 17 बेनामी बैंक खाते

12 देशों में फैली है संपत्ति, विदेशों में हैं 17 बेनामी बैंक खाते

नई दिल्ली 27 अगस्त 2019 । आईनेक्स मामले में सीबीआई पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को कस्टडी में लेकर लगातार पूछताछ कर रही है. अब ईडी ने भी चिदंबरम की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. ईडी ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल करके कहा है कि चिदंबरम की संपत्ति 12 देशों में फैली है. ईडी ने यह भी कहा कि विदेशों में चिदंबरम के 17 बेनामी बैंक खाते हैं. इसलिए चिदंबरम को कस्टडी में लेकर उनसे पूछताछ करना जरूरी है.

ईडी के मुताबिक किन 12 देशों में है चिदंबरम की संपत्ति?

ईडी ने सुप्रीम कोर्ट में जो हलफनामा दाखिल किया है उसके मुताबिक, चिदंबरम की ऑस्ट्रिया, अर्जेंटीना, फ्रांस, ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड, मलेशिया, मोनाको, ग्रीस, फिलीपींस, श्रीलंका, सिंगापुर, साउथ अफ्रीका और स्पेन में संपत्ति है. आईनेक्स मीडिया केस में बड़ी मनी लॉन्ड्रिंग हुई है और चिदंबरम ने अपने करीबी विश्वासपात्रों और सह साजिशकर्ताओं के साथ मिलकर भारत और विदेश में शेल कंपनियों का जाल बनाया.

ईडी ने कहा है, ‘’हमारे पास अपने दावों का समर्थन करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं. शेल कंपनियों का संचालन करने वाले लोग चिदंबरम के संपर्क में हैं और एजेंसी के पास इसके सबूत हैं.केवल हिरासत में ही पूछताछ सच्चाई को उजागर करेगी. यह न केवल ईडी का देश के प्रति कर्तव्य है कि काले धन को उजागर करे, बल्कि बेनामी कंपनियों में जमा धनराशि को भी जब्त करे.’’

चिदंबरम एक प्रभावशाली व्यक्ति- ईडी

ईडी ने बताया, ‘’17 बेनामी विदेशी बैंक खाते और 10 महंगी संपत्ति भारत और विदेशों में खरीदी गई.’’ ईडी ने 19-12-2018, 7.1.2019 और 21.1.2019 चिदंबरम से पूछताछ की लेकिन उन्होंने सहयोग नहीं किया. ईडी ने कहा, ‘’चिदंबरम एक प्रभावशाली व्यक्ति हैं और उन्होंने खुद और अपने परिवार से दूरी बनाने के लिए शेल कंपनियों के शेयर होल्डिंग पैटर्न में बदलाव किए हैं.’’

ईडी ने हलफनामे में कहा है, ‘’अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का मानना है कि मनी लॉन्ड्रिंग एक गंभीर अपराध है क्योंकि भारत अंतर्राष्ट्रीय फोरम- फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स का सदस्य है. चिदंबरम पूर्व वित्त मंत्री, पूर्व गृहमंत्री हों या एक सामान्य नागरिक, अग्रिम जमानत मंजूर नहीं की जानी चाहिए और अगर सुप्रीम कोर्ट आरोपी की याचिका पर विचार करती है तो यह न्याय का मखौल उड़ाना होगा.’’

सुप्रीम कोर्ट ने ईडी को चिदंबरम की गिरफ्तारी से रोका हुआ है

दरअसल पी चिदंबरम की गिरफ्तारी पर सुप्रीम कोर्ट ने ईडी को रोका हुआ है, लेकिन आज जो फैसला होगा आगे वही चिदंबरम का भविष्य तय करेगा. आज सीबीआई हिरासत भी खत्म हो रही है. सीबीआई राउज एवेंन्यू कोर्ट में चिदंबरम को पेश करके हिरासत बढ़ाने की मांग करेगी.

पूर्व केंद्रीय गृहराज्‍य मंत्री बोले,कश्मीर किसी के बाप का नहीं जो छीन ले

पूर्व केंद्रीय गृहराज्य मंत्री सुबोधकांत सहाय का कहना है कि कश्मीर किसी के बाप का नहीं जो भारत छीन ले। कांग्रेस ने कभी भी धारा 370 हटाने का विरोध नहीं किया। केवल इसके तरीके पर कांग्रेस ने अपना विरोध जताया है, जो आगे भी बना रहेगा।

वृंदावन में ठा. बांकेबिहारी मंदिर के रविवार को दर्शन करने आए सहाय ने कहा जिस तरह से जम्मू-कश्मीर में लोगों की जुबान बंद करके सरकार अपनी सफलता का ढिढोरा पीट रही है, वह तरीका गलत है। कहा कि मोदी सरकार आरएसएस के एजेंडा को लागू कर रही है। कहा कि सरकार साफ करे कि आपको कश्मीरी चाहिए या फिर केवल कश्मीर का बार्डर चाहिए। हम नया नया राज्य बनाने का प्रयास कर रहे थे। लेकिन मोदी सरकार ने इस प्रदेश को तीन भाग में बांट दिया। कहा कांग्रेस धारा 370 हटाने का कोई विरोध नहीं कर रही है।

झारखंड में विधानसभा चुनाव की रणनीति पर बताया कि वे झारखंड मुक्ति मोर्चा, बाबूलाल मरांडी, सिबू सोरेन और लालू यादव की राजद व कांग्रेस महागठबंधन बनाकर वामपंथ के साथ विधानसभा चुनाव लडऩे जा रहे हैं। जो कि झारखंड में बड़ी जीत दर्ज करने जा रहा है। पिछले चुनावों में महागठबंधन की करारी हार के सवाल पर कहा कि जिस तरह से लोकसभा चुनाव के दौरान देशभर में दो सौ सीटों पर ईवीएम में गड़बड़ी कर भाजपा ने जीत दर्ज की, उससे उनके खुद के उम्मीदवार चौंक गए कि वे इतनी बड़ी जीत कैसे जीत गए। कहा अमेरिका में ट्रंप के चुनाव की पोल भी खुल रही है, ऐसे ही भारत में समय आने पर ईवीएम की गड़बड़ी उजागर होगी और नतीजे देश के सामने होंगे। इससे पूर्व कांग्रेस नेता सुबोधकांत सहाय ने सेवायत गोपी गोस्वामी के आचार्यत्व में ठा. बांकेबिहारीजी के दर्शन कर पूजा-अर्चना की। पूर्व विधायक प्रदीप माथुर, जिलाध्यक्ष सोहन सिंह सिसौदिया, श्याम दुबे समेत अनेक लोग मौजूद रहे।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …