मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> शिवराज की घबराहट चरम पर, निर्दलीय उम्मीदवार के दफ्तर में घुस जबरदस्ती हाथ पकड़कर ले गए अपने साथ

शिवराज की घबराहट चरम पर, निर्दलीय उम्मीदवार के दफ्तर में घुस जबरदस्ती हाथ पकड़कर ले गए अपने साथ

नई दिल्ली 24 नवम्बर 2018 । मध्य प्रदेश में बीजेपी की हालत इतनी खराब है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अब हाथ पकड़-पकड़ कर निर्दलीय उम्मीदवारों को मैदान से हटा रहे हैं और उन्हें जबरन बीजेपी में शामिल करा रहे हैं। ऐसा ही मामला देखने को मिला वारासिविनी विधानसभा सीट पर। इस सीट से शिवराज के साले संजय सिंह कांग्रेस के टिकट पर उम्मीदवार हैं। सीएम द्वारा जबरदस्ती उम्मीदवार को अपने साथ ले जाने से आशंकित इस उम्मीदवार के एक समर्थक को तो हार्ट अटैक तक आ गया।

मध्य प्रदेश विधानसभा के लिए मतदान में अब एक सप्ताह से भी कम समय बचा है। चारों तरफ से हालत खराब होने की खबरों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को परेशान कर रखा है। इस घबराहट में शिवराज निर्वाचन क्षेत्रों के नाम पाकिस्तानी शहरों के नाम पर ले रहे हैं, तो आजाद उम्मीदवारों को जबरन बिठाने की कोशिश में लगे हैं।

सबसे रोचक वाक्या तो राज्य की वारावासिनी सीट पर हुआ। गुरुवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की वारावासिनी विधानसभा सीट इलाके में चुनावी सभा थी। लेकिन इससे पहले ही वहां कोहराम मच गया। हुआ यूं कि मुख्यमंत्री अपने दल-बल के साथ अचानक इस सीट से निर्दलीय उम्मीदवार गौरव सिंह पारधी के दफ्तर जा पहुंचे। वहां मौजूद लोगों का कहना है कि शिवराज सीधे निर्दलीय उम्मीदवार के कमरे में गए और उसका हाथ पकड़कर खींचते हुए अपनी गाड़ी में बिठाकर अपने साथ ले गए। इस दौरान उनके साथ आए सुरक्षा कर्मियों ने किसी को आसपास नहीं फटकने दिया।

मुख्यमंत्री पारधी को लेकर सीधे चुनावी सभा में पहुंचे। बीजेपी की चुनावी सभा के मंच पर मुख्यमंत्री के साथ निर्दलीय उम्मीदवार को देखकर सभा स्थल पर भी हड़कंप सा मच गया। मंच पर पहुंचते ही शिवराज सिंह चौहान ने पारधी के बीजेपी में शामिल होने और बीजेपी उम्मीदवार के समर्थन में मैदान से हटने का ऐलान कर दिया। इस ऐलान के बाद वहां खूब हंगामा हुआ। चुनावी सभा खत्म होते ही मुख्यमंत्री ने इस उम्मीदवार को बीजेपी कार्यकर्ताओं के हवाले कर दिया और चले गए।

इस पूरे घटनाक्रम के बाद निर्दलीय उम्मीदवार मीडिया के सामने तो आए, लेकिन उन्होंने पूरे मामले पर गोल-मोल जवाब दिया। एक न्यूज चैनल से बातचीत में पारधी ने किसी भी बात का कोई सीधा जवाब नहीं दिया।

गौरतलब है कि इस सीट से शिवराज सिंह चौहान के साले संजय सिंह कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। इसके बाद से यहां से बीजेपी के उम्मीदवार की हालत खराब है। साथ ही निर्दलीय उम्मीदवारों के चलते भी बीजेपी को भारी नुकसान की आशंका बन गई है।

निर्दलीय उम्मीदवार पारधी के एक समर्थक अनीस बेग तो इस पूरी घटना से इतना सहम गए कि उन्होंने हार्ट अटैक आ गया। उन्हें अस्पताल ले जाना पड़ा, लेकिन उनकी हालत अब ठीक है। वहीं समाचार चैनल आजतक ने इस विधानसभा क्षेत्र में कुछ लोगों से बात की तो उन्होंने बताया कि पहले तो इस उम्मीदवार को लालच दिया गया, जब वह नहीं माने तो उन्हें डराया-धमकाया भी गया। इस पर भी जब वह मैदान में डटे रहे तो मुख्यमंत्री दफ्तर आकर उनका हाथ पकड़के अपने साथ ले गए।

उम्मीदवार के समर्थकों का कहना है कि वे लोग भी पीछे भागे, लेकिन मुख्यमंत्री उन्होंने अपनी गाड़ी में बिठाकर सभास्थल पर ले जा चुके थे और पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोक दिया।

इससे पहले मुख्यमंत्री लाहर विधानसभा क्षेत्र में जनसभा के दौरान विधानसभा का नाम लाहर के बजाए लाहौर बोलते रहे थे।

साक्षी महाराज का विवादित बयान, कहा- अयोध्या-काशी छोड़ो, पहले जामा मस्जिद तोड़ो
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर देश में सियासी बयानबाजियों का दौर लगातार जारी है. बीजेपी सांसद साक्षी महाराज भी इस मामले में लगातार बयान दे रहे हैं, लेकिन इस बार सब विवादों को पीछे छोड़ते हुए साक्षी महाराज ने एक और बड़ा और विवादित बयान दे दिया है. उन्नाव में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे बीजेपी सांसद ने दिल्ली की जामा मस्जिद को तोड़ने की बात कही है. वहीं, उन्होंने राम मंदिर निर्माण को लेकर सुप्रीम कोर्ट पर भी निशाना साधा है. साथ ही साक्षी महाराज ने दावा किया है कि कुछ भी करना पड़े, लेकिन 2019 चुनावों से पहले मंदिर निर्माण शुरू कर दिया जाएगा.

उन्नाव के नवाबगंज में एक कार्यक्रम में शामिल होने उन्नाव के बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने कहा कि राम मंदिर मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के रवैये की भर्त्सना करता हूं. उन्होंने कहा कि बहुत सारे अनावश्यक मामलों में सुप्रीम कोर्ट ने निर्णय दिए हैं, लेकिन कोर्ट अयोध्या के मुद्दे पर टाल मटोल कर रहा है.

साक्षी महाराज का जामा मस्जिद को लेकर विवादित बयान देते हुए कहा कि अयोध्या, मथुरा, काशी तो छोड़ो, दिल्ली की जामा मस्जिद को तोड़ो अगर वहां कि सीढ़ियो में मूर्तियां न निकले तो मुझे फांसी पर लटका देना. उन्होंने कहा कि मुगलकाल में हिंदुओं के सम्मान के साथ खिलवाड़ किया गया है. मुगलकाल में मंदिर तोड़े गए और मस्जिदों को बनाया गया है.

साक्षी महाराज ने उन्नाव में कहा कि अगर 100 करोड़ हिंदुओं की इच्छा है, धर्माचार्यों की इच्छा है, संघ परिवार की इच्छा है कि अयोध्या में भगवान राम का मंदिर शीघ्र बने. अब या तो अध्यादेश बने या तो सोमनाथ की तर्ज़ पर कानून बने अथवा पूर्व पीएम नरसिम्हा राव ने जो जमीन अधिग्रहित किया था, वह जमीन रामजन्म भूमि न्यास को दे दी जाए. उनका कहना है कि 2019 लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जाएगा.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

टी-20 वर्ल्ड कप के लिए भारत के गेम प्लान पर बोले कोच रवि शास्त्री- खिलाड़ियों को ज्यादा तैयारी की जरूरत नहीं

नई दिल्ली 19 अक्टूबर 2021 । भारतीय क्रिकेट टीम को टी-20 वर्ल्ड कप में अपना …