मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> मठ-मंदिर मुक्ति आंदोलन में अवधेशपुरी महाराज ने उठाई मांग, मस्जिद-चर्च में कलेक्टर अध्यक्ष बनें

मठ-मंदिर मुक्ति आंदोलन में अवधेशपुरी महाराज ने उठाई मांग, मस्जिद-चर्च में कलेक्टर अध्यक्ष बनें

नयी दिल्ली 9 दिसंबर 2021 । दिल्ली में मठ-मंदिर मुक्ति आंदोलन में उज्जैन के संत अवधेशपुरी महाराज ने कहा है कि जब महाकाल मंदिर को सरकारी किया जाता है तो फिर मस्जिदों को भी सरकारी किया जाए। देश में एक संविधान में दो तरह के कानून नहीं हो सकते। उज्जैन के संत अवधेशपुरी महाराज जंतर-मंतर दिल्ली में मठ-मंदिर मुक्ति आंदोलन में शामिल होने गए हैं और वहां उन्होंने मठ-मंदिरों के सरकारीकरण को लेकर नारा दिया है कि मठ-मंदिर का दो अधिकार चाहे जो भी हो सरकार। अवधेशपुरी महाराज ने कहा कि देश के संविधान में छह मूल अधिकार हैं जिनमें से दो समानता और धार्मिक स्वतंत्रता के हैं। मगर आजादी के 75 वर्ष बाद भी देश में सनातन धर्म का साम्राज्य होने के बाद भी मठ-मंदिरों का सरकारीकरण किया जा रहा है। सरकारें मौलिक अधिकारों के साथ छेड़छाड कर रही हैं। अवधेशपुरी महाराज ने कहा कि अगर महाकाल में सरकार कलेक्टर को अध्यक्ष बनाती है तो फिर अजमेर शरीफ में भी कलेक्टर को अध्यक्ष बनाना होगा। सरकार मठ-मंदिरों का सरकारीकरण करती है तो फिर मस्जिदों व चर्चों का भी सरकारीकरण होना चाहिए। देश के एक संविधान में दो तरह के कानून नहीं होना चाहिए।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘राजपूत नहीं, गुर्जर शासक थे पृथ्वीराज चौहान’, गुर्जर महासभा की मांग- फिल्म में दिखाया जाए ‘सच’

नयी दिल्ली 21 मई 2022 । राजस्थान के एक गुर्जर संगठन ने दावा किया कि …