मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> अरबपति है मध्यप्रदेश का होने वाला नया CM, एक समय में थी सिर्फ नैनो कार

अरबपति है मध्यप्रदेश का होने वाला नया CM, एक समय में थी सिर्फ नैनो कार

भोपाल 17 दिसंबर 2018 । मध्यप्रदेश में लगभग 15 साल बाद कांग्रेस की सरकार बनेगी। मुख्यमंत्री कमलनाथ सोमवार को यानी 17 जनवरी को भोपाल के जम्बूरी मैदान में मुख्यमंत्री के रूप में पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे। आपको बता दें, कमलनाथ देश के चुनिंदा अमीर नेताओं में से एक हैं। एक समय था जब शहरी विकास मंत्री के पद पर रहते हुए कमल नाथ ने दुनिया की सबसे सस्ती कार टाटा नैनो को खरीदा था।

इस बात से कमलनाथ की सादगी का अंदाजा लगाया जा सकता है। आज भी उनके गैराज में सिर्फ टोयोटा की ही कारें हैं। जिन्हें देखकर लगता है कि उन्हें टोयोटा की कारों से बेहद प्यार है। आइए आपको विस्तार से समझाते हैं।

टोयोटा कैमरी भारत की पहली मेड इन इंडिया हाइब्रिड कार है। कैमरी की बिक्री में 70 फीसदी हिस्सा हाइब्रिड का है इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि लोगों में यह कार कितनी लोकप्रिय है और लोग पर्यावरण को बचाने के लिए कितने जागरूक हैं।

इस हाइब्रिड कार में टोयोटा का डीओएचसी वीवीटी-आई 2.5 पेट्रोल इंजन लगा है इसके इलेक्ट्रिक मोटर से 44 बीएचपी की शक्ति व पेट्रोल मोटर से 158 बीएचपी की शक्ति पैदा होती है। इस तरह से यह हाइब्रिड कार 202 बीएचपी की शक्ति देती है। इसका एआरएआई प्रमाणित माइलेज 19.6 किमी का है। इसकी कीमत करीब 31.19 लाख रुपये एक्सशोरूम दिल्ली है।

टोयोटा की यह कार भारत की सबसे दमदार एसयूवी है। कंपनी ने इस कार का नया वर्जन कुछ समय पहले लांच किया जो देखने में बेहतरीन है। मोदी जी के काफिले में भी सारी फॉर्च्यूनर कार शामिल हैं। टोयोटा की यह कार पेट्रोल और डीजल दोनों वेरियंट में उपलब्ध है। टोयोटा फॉर्च्यूनर में 2982 सीसी का 4 सिलेंडर इंजन मिलता है। जो 169 बीएचपी की पावर और 360 एमएन का टार्क जनरेट करता है। इस कार की शुरूआती कीमत करीब 27 लाख रुपए है।

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) की 2014 में जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार कमलनाथ की कुल संपत्ति 187 करोड़ रुपये थी, जिसमें 7.09 करोड़ की चल और 181 करोड़ की अचल संपत्ति थी। जाहिर है पिछले चार सालों में इसमें बेहताशा वृद्धि हुई है। लेकिन फिलहाल का आंकड़ा नहीं मिला है।

मध्य प्रदेश में जीत के बाद भी कांग्रेस को EVM पर शक, कराएगी जांच

मध्य प्रदेश में सोमवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे कांग्रेस नेता कमलनाथ ने शनिवार को कहा कि राज्य में सबसे उनके दल को सबसे अधिक सीटें मिली है। इसके बावजूद कांग्रेस का विंध्य क्षेत्र में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) की विश्वसनीयता पर शक बरकरार है। उन्होंने कहा,पार्टी इस इलाके में हुई वोटिंग पैटर्न की वह विशेषज्ञों से निष्पक्ष जांच कराएगी।

कमलनाथ ने एक साक्षात्कार में कहा, मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में इस बार बहुमत के नजदीक आने के बावजूद हमारा ईवीएम पर विंध्य इलाके में शक बरकरार है। इसलिए हमने विंध्य क्षेत्र की वोटिंग एवं परिणाम पर एक फोरेंसिक स्टडी की पहल की है, जो कि वोटिंग पर एक्जिट पोल की तरह सर्वे करेगा। उन्होंने फॉरेंसिक जांच के बाद वह चुनाव आयोग का रुख करेंगे।
कमलनाथ ने कहा कि सतना जिले में मतदान के दिन सबसे ज्यादा ईवीएम की गड़बड़ी की सूचना आई तथा यह लगभग तीन घंटों तक बंद रही। यहां तक कि विंध्य में परिणाम वोटिंग पैटर्न से मेल नहीं खा रहे हैं। अध्ययन में गड़बड़ी की बात आने पर अदालत का रुख करने के सवाल पर कमलनाथ ने कहा कि हम विचार करेंगे। गौरतलब है कि कांग्रेस का मध्यप्रदेश के विंध्य क्षेत्र में सबसे खराब प्रदर्शन रहा है। पार्टी को यहां की कुल 30 सीटों में से मात्र छह पर जीत मिली है, जबकि 24 पर भाजपा काबिज हुई है। इसी क्षेत्र में कांग्रेस के दो दिग्गज हार गए हैं। इनमें निवर्तमान मध्यप्रदेश विधानसभा में प्रतिपक्ष नेता अजय सिंह (अपनी परंपरागत चुरहट सीट) एवं प्रदेश विधानसभा के उपाध्यक्ष राजेन्द्र सिंह (अमरपाटन सीट) शामिल हैं।

कर्जमाफी की मेरे पास पुख्ता योजना : कांग्रेस के किसानों का कर्ज माफ करने के वादे पर रिजर्व बैंक आफ इंडिया के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि यह अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा नहीं है। इस संबंध में पूछे जाने पर कमलनाथ ने कहा, मेरे पास इस बारे में पुख्ता योजना और रणनीति है। इसका खुलासा मैं 17 दिसंबर (कमलनाथ द्वारा मुख्यमंत्री पद का शपथ लेने की तिथि) के बाद करुंगा।

कमलनाथ ने कहा, इंटरनेट पर देख लें कि बैंकों ने उद्योग और व्यावसायिक घरानों का 40 से 50 फीसदी कर्ज माफ किया है। यदि उनका कर्ज माफ किया जा सकता है, तो किसानों का क्यों नहीं। रघुराम राजन अगर गांव को समझते हैं तो वो बात करें। वह बताएं कि कितने साल गांव में काटे हैं, कितने साल खेतों में काम किया है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फ्रांस से भारत आएंगे 4 और राफेल लड़ाकू विमान, 101 स्क्वाड्रन को फिर से जिंदा करने के लिए IAF तैयार

नई दिल्ली 15 मई 2021 । राफेल लड़ाकू विमान का एक और जत्था 19-20 मई …