मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> मध्यप्रदेश राजस्थान की बॉर्डर पर चमत्कारी क्यासरा महादेव मंदिर की विचित्र कहानी

मध्यप्रदेश राजस्थान की बॉर्डर पर चमत्कारी क्यासरा महादेव मंदिर की विचित्र कहानी

 भोपाल 8 मार्च 2021 । मध्य प्रदेश की बॉर्डर से लगभग 20 किलोमीटर डग, बड़ोद से भवानी मंडी रोड पर राजस्थान के झालावाड़ जिले की गंधार तहसील में भगवान काया ईश्वर नाम से प्रसिद्ध महादेव का मंदिर हैं। इस महादेव मंदिर के विषय में यहां पर पूजा करने वाले पुजारी पंडित दया शंकर व्यास ने मंदिर का इतिहास बताया। कहा कि यह चमत्कारी मंदिर 5000 वर्ष पुराना है, यह मंदिर राजा जन्मेजय द्वारा बनाया गया है। पंडित जी बताते हैं कि एक बार राजा जन्मेजय शिकार के लिए यहां आये,और एक हिरण का पीछा करते हैं। वह हिरण यहां से निकलता है उसको कोड थी। और वह ठीक हो जाता है। इसके साथ ही राजा आश्चर्यचकित होता है और सोचता है। कि यदि हिरण ठीक हो गया है तो खुद राजा भी कोड से ग्रसित था ।इसलिए राजा ने यहां पर स्थित कुंड में स्नान किया ।जिससे उसकी कोड ठीक हो गई ,राजा ने देखा तो वहां एक अंगुष्ठ प्रमाण मूर्ति प्राप्त हुई ,राजा ने सोचा कि इनकी चमत्कार से मेरी काया ठीक हो गई है ।इसलिए राजा ने इनहे काया ईश्वर महादेव नाम दीया । और मंदिर का निर्माण कराया यह मूर्ति स्वयंभू हैं ,क्यासरा धाम आज बहुत प्रसिद्ध है ।यहां पर श्रावण में भक्तों का ताता लगा रहा रहता है। आए दिन भी कई भक्त यहां पूजा पाठ करने आते हैं। क्यासरा बाबा महादेव सभी भक्तों की इच्छा पूरी करते हैं। यहां क्यासरा धाम में शनि मंदिर, सरस्वती मंदिर, दुर्गा मंदिर और हनुमान मंदिर भी स्थित हैं। यहां पर पहाड़ी पर बहुत ही रोमांचिक दृश्य देखने को मिलता है ।प्रकृति की गोद में परमेश्वर अपनी लीला बिखेरे हुए विद्यमान हैं ।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

कोरोना की तीसरी लहर आई तो बच्चों को कैसे दें सुरक्षा कवच

नई दिल्ली 12 मई 2021 । भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर से हाहाकार …