मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> बीजेपी ने तय किया दिल्ली चुनाव का एजेंडा, राष्ट्रवाद बनाम अराजकता के मुद्दे पर लड़ेगी

बीजेपी ने तय किया दिल्ली चुनाव का एजेंडा, राष्ट्रवाद बनाम अराजकता के मुद्दे पर लड़ेगी

नई दिल्ली 2 जनवरी 2020 । दिल्ली चुनावों को लेकर बीजेपी ने शंखनाद कर दिया है. बीजेपी की तरफ से साफ कर दिया गया है कि दिल्ली चुनावों में मुकाबला आराजकवाद और राष्ट्रवाद के बीच होगा. इसे लेकर बीजेपी के दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रभारी और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की है.

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि आम आदमी पार्टी सरकार लगातार मोदी सरकार पर काम नहीं करने देने का आरोप लगाती रही जबकि सच यह है कि वह खुद काम करना ही नहीं चाहते थे. इसी वजह से साढ़े 4 सालों तक काम नहीं किया लेकिन जैसे ही चुनावों की तारीख करीब आई एक के बाद एक ऐलान किए जाने लगे. इसके जरिये वो जनता को दिखाने की कोशिश में जुटे हैं कि केजरीवाल सरकार ने जनता के हित में कितने कदम उठाए हैं और फैसले लिए हैं. जबकि इससे पहले वह कहते रहे कि केंद्र की मोदी सरकार काम नहीं करने दे रही, आखिर अब क्या बदल गया अब कैसे वो एक के बाद एक घोषणाएं कर पा रहे हैं.

बीजेपी ने इसके साथ ही कांग्रेस और आम आदमी पार्टी पर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया है. बीजेपी का कहना है की हाल ही में नागरिकता संशोधन कानून पर दोनों ही पार्टियों ने जनता को गुमराह किया और जो भी हिंसा हुई उसकी जिम्मेदार ये दोनों राजनैतिक पार्टियां ही हैं. दिल्ली चुनाव के लिए प्रदेश प्रभारी की ज़िम्मेदारी संभाल रहे केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आरोप लगाया कि नागरिकता कानून पर दिल्ली में हुई हिंसा के लिए कांग्रेस और आप ज़िम्मेदार हैं. ये दोनों ही दल हिंसा की भर्त्सना नहीं करते, उल्टा उनके नेता लोगों को गुमराह कर उकसाते नज़र आते हैं. पिछले कुछ दिनों के दौरान दिल्ली में 3 जगह हिंसा हुई और इन हिंसा में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के नेताओं का नाम सामने आया. जामिया में कांग्रेस के आसिफ मोहम्मद खान और आप विधायक अमानत उल्ला खान पर उकसाने का आरोप लगा. जबकि सीलमपुर में कांग्रेस के मतीन अहमद और आप पार्षद पर आरोप लगा. इसी तरह जामा मस्जिद में कांग्रेस के महमूद प्राचा पर आरोप है.

 

एमसीडी पर लगातार केजरीवाल सरकार द्वारा उठाए जा रहे हैं सवाल पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि केजरीवाल एमसीडी पर आरोप लगाते हैं, जबकि सच्चाई यह है कि वह उसको काम करने ही नहीं देते और एमसीडी का पैसा भी दबाकर रखते हैं. वहीं जब एमसीडी कुछ अच्छा काम करती है तो उसका श्रेय खुद केजरीवाल और उनके मंत्री लेने लगते हैं. मसलन डेंगू की रोकथाम के लिए एमसीडी ने जागरूकता अभियान चलाया उससे डेंगू के मामले कम हुए लेकिन केजरीवाल और उनके मंत्री उसका श्रेय लेने में जुटे हैं. यही हाल प्रदूषण का भी है, प्रदूषण कम करने को लेकर केजरीवाल सरकार ने कोई काम नहीं किया और अगर केंद्र सरकार ने कुछ कदम उठाए तो उसका श्रेय वह खुद लेने में आ गया जाते हैं.

अनाधिकृत कॉलोनियों के मुद्दे पर गुमराह कर रही केजरीवाल सरकार- प्रकाश जावड़ेकर

प्रकाश जावड़ेकर का कहना है कि अनाधिकृत कॉलोनियों को लेकर केजरीवाल सरकार जनता को गुमराह कर रही है. केजरीवाल सरकार जगह-जगह पोस्टर लगाकर बीजेपी पर धोखा देने का आरोप लगा रही है जबकि संसद से जो बिल पास हुआ है और जो कानून की शक्ल ले चुका है उस कानून में ही साफ तौर पर कहा गया है कि झुग्गी में रहने वाले लोगों को उसका मालिकाना हक दिया जाएगा. इसी दुविधा को दूर करने के लिए बीजेपी जल्द ही जहां झुग्गी वहां मकान का कैंपेन चलाते हुए अनाधिकृत कॉलोनियों में रहने वाले लोगों की मदद के लिए फॉर्म भरवा कर डीडीए में जमा करवाएगी, जिससे कि लोगों को जल्द से जल्द मालिकाना हक मिल सके.

जल्द हो सकता है चुनावों की तारीखों का ऐलान

दिल्ली चुनावों की तारीखों का ऐलान जल्द हो सकता है और इसी वजह से बीजेपी अब पूरी तरह से चुनाव प्रचार और चुनावी रणनीति बनाने में जुट गई है. गौरतलब है कि पिछले विधानसभा चुनावों में दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों में से 67 सीटों पर आम आदमी पार्टी उम्मीदवारों को जीत हासिल हुई थी जबकि बीजेपी के खाते में सिर्फ 3 सीटें ही आयीं थीं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘इंडोर प्लान’ से OBC वोटर्स को जोड़ेगी BJP, सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों में उतरेगी टीम

नयी दिल्ली 25 जनवरी 2022 । उत्तर प्रदेश की आबादी में करीब 45 फीसदी की …