मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> युवक ने जड़ा भाजपा विधायक को थप्पड़

युवक ने जड़ा भाजपा विधायक को थप्पड़

भोपाल 14 नवम्बर 2018 । बीजेपी ने 15 सालों तक प्रदेश में राज किया और जनता से हजारों वादे किए । लेकिन वो वादे आजतक पूरे नही हुए। जिसको लेकर जनता में गुस्सा है। अब फिर से चुनाव हो रहे है और भाजपा प्रत्याशी जनता से संपर्क करने उनके बीच पहुंच रहे है, जहां उन्हें विरोध का सामना करना पड़ रहा है। ताजा मामला मंदसौर से सामने आया है,जहां जनता के बीच पहुंचे मंदसौर से बीजेपी के वर्तमान विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया को एक युवक ने सरेआम थप्पड़ जड़ दिया। घटना के बाद गांव में सनसनी फैल गई, वही भाजपा नेताओं में हड़कंप मच गया।

दरअसल, मंदसौर विधानसभा सीट से बीजेपी के प्रत्याशी यशपाल सिंह सिसोदिया अपने चुनाव प्रचार के लिए अलावदा खेड़ी गांव पहुंचे थे जहां उनको एक युवक ने थप्पड़ मार दिया। यशपाल के साथ ये घटना उस समय घटी जब वे गांव में जनता के बीच में थे। हालांकि आरोपी युवक के पिता ने बताया कि उनका बालक मानसिक रूप से बीमार है और पिछले कुछ महीने से उसका इलाज भी चल रहा है। चूंकि, युवक मानसिक रूप से विक्षिप्त था, इसलिए फिलहाल कोई कार्रवाई नहीं की गई।

फिलहाल थप्पड़ काण्ड की चर्चा सियासी गलियारों में जोरो पर है| बता दे कि यशपाल सिंह सिसोदिया वही है जिन्होंने बीते दिनों चुनाव आयोग को पत्र लिखकर परंपरा का हवाला देते हुए शस्त्र पूजा की अनुमति देने की मांग की थी।

शिवराज के साथ-साथ इन मंत्रियो को हैं बंदूकों से प्यार, घर में रखते हैं हथियार
मध्य प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव में एक ओर जहां नेता अपनी जीत के लिए लोगों से मुलाकातें कर रहे हैं, तो वहीं वे यह भी सुनिश्चित कर रहे हैं कि उनके पास हथियारों की कोई कमी ना हो। बगीचे, खेतों, बंगले, म्यूचुअल फंड, टैक्स सेविंग बॉन्ड्स, पशुधन और कारों के साथ-साथ घर में छोटा सा शस्त्रागार भी इन नेताओं की पहली पसंद में ही आता है।

बुधनी से चुनाव लड़ रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पास जहां हथियार के नाम पर एक सिंपल सी 5500 रुपये वाली रिवॉल्वर है, तो वहीं उनके प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस कमिटी के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव के पास एक लाख रुपये कीमत की एक राइफल और एक रिवॉल्वर है। इनके अलावा भी कई नेताओं के पास 10 हजार रुपये से लेकर साढ़े चार लाख रुपये तक की कीमत की पिस्टल, राइफल और रिवॉल्वर है।

मंत्रियों की बात करें तो रिवॉल्वर इनका पसंदीदा हथियार है। संसदीय मामलों के मंत्री नरोत्तम मिश्रा के पास 75,000 रुपये और गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह के पास 65,000 रुपये की रिवॉल्वर है। पीडब्ल्यूडी मंत्री रामपाल सिंह के पास 1.60 लाख रुपये की कीमत की रिवॉल्वर, राइफल और 12 बोर की बंदूक है। कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन के पास 85,000 रुपये की रिवॉल्वर है।

बेसिक शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने नामांकन पत्र में अपने पास एक रिवॉल्वर और दो राइफलें होने की बात कही है। नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री नारायण सिंह कुशवाहा के पास 1.45 लाख रुपये के दो हथियार हैं। दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री शरद जैन के पास 1 लाख रुपये की रिवॉल्वर है। माध्यमिक शिक्षा मंत्री दीपक जोशी के पास 83,500 रुपये का रिवाल्वर है।

कांग्रेस नेता राम निवास रावत के पास तीन हथियार हैं। कांग्रेस के अन्य कई नेताओं भी अपने हथियारों के बारे में जानकारी दी है। राजनगर के विधायक विक्रम सिंह एक डबल बैरल, 30-06 राइफल और .375 मैग्नम सहित चार हथियारों के मालिक हैं, इनकी कीमत 4.5 लाख रुपये के करीब है। गोविंद सिंह के पास तीन हथियार हैं, वहीं पांच बार के विधायक आरिफ अकील के पास एक राइफल के साथ एक पिस्टल है। आरिफ मसूद के पास एक डबल बैरल हथियार है। विधानसभा के डेप्युटी स्पीकर राजेन्द्र सिंह के पास एक रिवॉल्वर, एक सेमीऑटोमेटिक यूएस कार्बाइन और .315 बोर की राइफल है।

अपने जिलों में उम्मीदवारों द्वारा प्रस्तुत हलफनामे के मुताबिक, ज्यादातर उम्मीदवारों के पास 12 बोर या 315 बोर की राइफलें है। जबकि कुछ उम्मीदवारों ने अपनी पत्नियों के लिए हथियार खरीदे हैं, धार की दो महिला उम्मीदवारों के पास भी हथियार हैं। कुछ अन्य उम्मीदवारों के पास पैतृक हथियार हैं जो कई वर्षों से उनके घर में रहे हैं।

वसुंधरा सरकार के मंत्री ने दिया इस्तीफा, छोड़ा बीजेपी का साथ
राजस्थान में आगामी 7 दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए सत्तारूढ़ बीजेपी के प्रत्याशियों की पहली सूची जारी होने के बाद टिकट नहीं मिलने के कारण पार्टी नेता मंत्री और विधायक सुरेंद्र गोयल ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। राजस्थान में 200 विधानसभा सीटों के लिए 7 दिसंबर को चुनाव होना है। नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे।

टिकट नहीं मिलने पर धनकड़ का इस्तीफा

टिकट नहीं मिलने के कारण बीजेपी नेता कुलदीप धनकड़ ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया हैं। धनकड़ ने टिकट न मिलने से नाराज होकर पार्टी को अपना इस्तीफा भेज दिया। उन्होंने कहा कि अब वह बागी होकर विराटनगर से चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा ने उनके बजाय फूलचंद भिंडा को प्रत्याशी बनाकर विराटनगर की जनता का अपमान किया है। उल्लेखनीय है कि विराटनगर से मौजूदा विधायक भिंडा को पार्टी ने फिर अपना उम्मीदवार बनाया हैं। धनकड़ पिछले 20 वर्षों से भी अधिक समय से भाजपा में सक्रिय थे।

राजस्थान के लिए 131 उम्मीदवार घोषित

पार्टी ने रविवार को गहन मंथन के बाद देर रात 131 प्रत्याशियों की सूची जारी की है। सूची तय करने में हाल में कराए आंतरिक सर्वे और संगठन से मिली जानकारी के मद्देनजर कुछ मौजूदा विधायकों के टिकट काटने के साथ नए चेहरे उतारने का भी फैसला लिया गया।

बीजेपी की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद पार्टी महासचिव जेपी नड्डा ने बताया कि बैठक में राज्य की सभी 200 सीटों के लिए उम्मीदवारों के नामों पर चर्चा हुई जिनमें से 131 सीटों के लिए नाम तय कर दिए गए हैं। पार्टी ने 85 निवर्तमान विधायकों को फिर से चुनाव में उतारा है तथा 28 नए चेहरों को मौका दिया है। पहली सूची में 17 अनुसूचित जाति, 19 अनुसूचित जनजाति से और 12 महिलाएं हैं। बाकी उम्मीदवारों की घोषणा के लिए पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को अधिकृत कर दिया है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

ये तो छोड़कर चले गए थे…अशोक गहलोत ने सचिन पायलट गुट के विधायकों पर कसा तंज

नयी दिल्ली 4 दिसंबर 2021 । अशोक गहलोत और सचिन पायलट राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ अच्छा …