मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> लोकसभा चुनाव में बागियों पर बाजी लगाएगी भाजपा

लोकसभा चुनाव में बागियों पर बाजी लगाएगी भाजपा

जयपुर 24 फरवरी 2019 । विधानसभा चुनाव में टिकट कटने से नाराज होकर बागी हुए नेताओं को राजस्थान भाजपा फिर अपने साथ जोड़ने की कवायद में जुट गई है। इसके लिए हर विधानसभा क्षेत्र में सूचियां तैयार की जा रही हैं और जो बागी लोकसभा चुनाव में पार्टी को फायदा दिला सकते हैं उनसे संपर्क किया जा रहा है।

विधानसभा चुनाव में पार्टी ने करीब 60 मौजूदा विधायकों के टिकट काटे थे। इनमें सरकार के पांच मंत्री सुरेंद्र गोयल, धनसिंह रावत, हेमसिंह भड़ाना, राजकुमार रिणवां और संसदीय सचिव ओम प्रकाश हुडला भी शामिल थे। इन सभी ने निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ा था। हालांकि इनमें से सिर्फ हुडला ही चुनाव जीत पाए, बाकी सभी चुनाव हार गए।

इनके अलावा भी करीब 43 ऐसे नेता चिन्हित किए गए हैं जो विधानसभा चुनाव में पार्टी से दूर हो गए थे। पार्टी ने भी चुनाव के समय इनके निलंबन की कार्रवाई की थी। अब पार्टी का मानना है कि ये नेता चुनाव भले ही हार गए, लेकिन लोकसभा चुनाव में ये अपने वोटबैंक और स्थानीय स्तर पर अपने प्रभाव के चलते पार्टी के लिए उपयोगी साबित हो सकते हैं, क्योंकि इन नेताओं को जातिगत प्रभाव अभी भी बना हुआ है।

हाल मेंपार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और राष्ट्रीय संगठन महामत्री रामलाल के जयपुर दौरे के दौरान इस विषय पर चर्चा हुई। पार्टी की कोर कमेटी की बैठक में यह तय किया गया कि जो लोग पार्टी की विचारधारा से जुड़े रहे हैं और साफ मन के साथ पार्टी से वापस जुड़ सकते हैं, उनसे सारे गिले-शिकवे दूर पार्टी से वापस जुड़ने का आग्रह किया जाए।सूत्रों का कहना है कि पार्टी से दूर हुए नेताओं में किन्हें वापस पार्टी से जोड़ा जा सकता है, इसके लिए हर विधानसभा क्षेत्र में स्थानीय इकाइयों से चर्चा के बाद सूचिचां तैयार की जा रही हैं, क्योंकि स्थानीय इकाई ही इस बारे में बेहतर फीडबैक दे सकती है कि कौन से नेता पार्टी से जुड़ सकते हैं और उपयोगी साबित हो सकते हैं।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

मोदी सरकार के आर्थिक सुधार कार्यक्रमों के सुखद परिणाम अब नजर आने लगे हैं

नई दिल्ली 20 सितम्बर 2021 । वर्ष 2014 में केंद्र में मोदी सरकार के स्थापित …