मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> कमलनाथ सरकार के खिलाफ भाजपा का ‘धिक्कार आंदोलन’, सड़क पर उतरे कार्यकर्ता

कमलनाथ सरकार के खिलाफ भाजपा का ‘धिक्कार आंदोलन’, सड़क पर उतरे कार्यकर्ता

भोपाल 10 मार्च 2019 ।  लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा ने सरकार की घेराबंदी के लिए आंदोलन की शुरुआत कर दी है| प्रदेश में सत्ता से बेदखल होने के बाद भाजपा अभी तक विभिन्न मुद्दों को लेकर सिर्फ बयानों तक सीमित रही है। सरकार के खिलाफ किसी भी तरह का आंदोलन करने से भाजपा बचती रही है, लेकिन अब कमलनाथ सरकार की नाकामियों को लेकर सरकार सड़क पर उतर रही है|

लगातार बिगड़ रही कानून व्यवस्था, कर्ज माफी समेत अन्य मुद्दों को लेकर भाजपा शनिवार को प्रदेश भर में धिक्कार आंदोलन कर रही है| भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ता एकत्रित होकर कलेक्टोरेट पहुंचेंगे जहां कलेक्टोरेट का घेराव करेंगे। इस आंदोलन को लेकर भाजपा पदाधिकारियों को जिम्मेदारियां भी सौंपी गईं। भोपाल में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह, इंदौर में पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान और जबलपुर में गोपाल भार्गव इस आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं। भाजपा नेताओं का कहना है कि प्रदेश सरकार को उसकी वादा खिलाफी के प्रति हम बार-बार आगाह कर रहे हैं।

लेकिन सरकार मध्यप्रदेश की जनता को परेशान करने से बाज नहीं आ रही है। कई बार सरकार से किसानों की कर्जमाफी जैसे वादों पर अमल करने का आग्रह किया, लेकिन मुख्यमंत्री कमलनाथ और उनकी सरकार के कानों पर जूं नहीं रेंगी।भाजपा का कहना है कि प्रदेश के नागरिकों की उपेक्षा भारतीय जनता पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी। बीजेपी का कहना है कि प्रदेश सरकार केंद्र की योजनाओं का लाभ आम जनता को नहीं दे रही है. आरोप है कि कमलनाथ सरकार केंद्र की योजनाओं को प्रदेश में रोक कर रही है, जिसकी वजह से बीजेपी के नेता आज कलेक्ट्रेट का घेराव करेंगे| प्रदेश भर में भाजपा नेता बड़ी संख्या में कलेक्टर कार्यालय का घेराव कर रहे हैं| भोपाल में प्रदर्शन के दौरान रामेश्वर शर्मा, विष्णु खरे, विलास वारानी समेत बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित रहे। सभी ने कमलनाथ के इस्तीफे की मांग की। रामेश्वर शर्मा ने कहा दिग्विजय सिंह को मिग विमान में बांध कर सर्जिकल स्ट्राइक कराते, फिर दिग्विजय संजय बनकर धुतराष्ट्रों को बतायेंगे कि स्ट्राइक हुई है।

सांसद आलोक संजर ने कमल नाथ को कलंक नाथ कहा।जबसे मध्यप्रदेश में कांग्रस की सरकार आई है हर व्यक्ति जानता है कि हमने जो वचन दिए थे कम समय मे अपने वचन पूरे करने की कोशिश की है| अभी तक 83 वचन कमलनाथ सरकार ने पूरे कर दिए है| मप्र में किसानों का क्या हाल था, बीजेपी की सरकार ने जनता को ठगा ये सब जानते है| तत्कालीन बीजेपी सरकार में 21 हजार किसानों ने आत्महत्या की थी| राहुल गांधी और मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा था कि जब कांग्रेस सरकार आएगी तब किसान प्रथमिकता रखेगे, हमने जो कहा वो निभाया भी है| आज पूरे देश मे किसानों को सबसे बिजली कही उपलब्ध है तो वो मप्र में है| अपनी हार से विचलित हो कर सबने देखा कि प्रदेश में केंद्र सरकार ने यूरिया का कैसे संकट खड़ा कर दिया था| कर्जा घोटाला निकला सब के सामने है, बीजेपी सरकार ने 3 हजार का कर्जा घोटाला किया है|

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

31 जुलाई तक सभी बोर्ड मूल्यांकन नीति के आधार पर जारी करें परिणाम, सुप्रीम कोर्ट ने दिए आदेश

नई दिल्ली 24 जून 2021 । देश के सभी राज्य बोर्डों के लिए समान मूल्यांकन …