मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> बिना कागजात के सड़क पर पकड़ी गई कार, 10 लाख का कटा चालान

बिना कागजात के सड़क पर पकड़ी गई कार, 10 लाख का कटा चालान

नई दिल्ली 1 दिसंबर 2019 । देश में बीते अगस्त महीने में नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद पुलिस और यातायात विभाग की तरफ से भारी भरकम जुर्माना वसूलने का सिलसिला जारी है. हर दिन ज्यादा से ज्यादा रकम के चालान काटने की खबरें सुर्खियों में रहती हैं लेकिन गुजरात में एक कार मालिक से जितना जुर्माना वसूला गया है उतने पैसे में आप एक नई कार तक खरीद सकते हैं. जी हां गुजरात में पुलिस ने एक लग्जरी कार के मालिक से नंबर प्लेट नहीं होने की वजह से एक दो हजार नहीं बल्कि पूरे 9 लाख 80 हजार रुपये का जुर्माना वसूला है.

दरअसल गुजरात के अहमदाबाद के सिंधुभवन रोड पर पुलिस ने एक पोर्शे कार के मालिक से कार में नंबर प्लेट, ड्राइविंग लाइसेंस और गाड़ी के दस्तावेज नहीं होने के आरोप में 9 लाख 80 हजार रुपये का जुर्माना वूसल लिया. नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद यह अब तक का सबसे बड़ा चालान माना जा रिहा है. रिपोर्ट के मुताबिक गाड़ी मालिक ने ये पैसे बतौर जुर्माना चुका भी दिए हैं.

जिस गाड़ी का पुलिस ने चालान काटा वो पोर्शे कंपनी की है जिसे बेहद लग्जरी माना जाता है. बाजार में इस गाड़ी की कीमत करीब सवा दो करोड़ रुपये के आसपास है. बता दें कि गुजरात पुलिस ने बीते महीने में करीब ऐसे 10 लग्जरी गाड़ियों का चालान काटा है.

वहीं दूसरी तरफ पुलिस के इस तरह से भारी भरकम जुर्माना वसूले जाने से खासतौर पर ट्रक ऑपरेटर बेहद परेशान हैं. मोटर व्हीकल एक्ट के विरोध में देश भर के ट्रक ऑपरेटरों ने देशव्यापी हड़ताल शुरू कर दिया है. ट्रक ऑपरेटर्स के मुताबिक जब से मोटर व्हीकल एक्ट लागू हुआ है तब से दिल्ली ही नहीं बल्कि देश भर में ट्रैफिक पुलिस कर्मियों ने ट्रक कारोबारियों से चार गुणा चालान वसूलना शुरू कर दिया है.

ट्रक मालिक का आरोप है कि पुलिसकर्मी मनमर्जी से उनका चालान काटते हैं जिसके कारण भ्रष्टाचार लगातार बढ़ रहा है और ट्रक कारोबारी अपनी ट्रकों की किस्त भी नहीं भर पा रहे हैं. ऐसे में ट्रक कारोबारियों का कारोबार बंद होने की कगार पर है जिसको लेकर ये हड़ताल किया जा रहा है.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

चीन नहीं, हिमाचल में तैयार होगा दवाइयों का सॉल्ट, खुलेगा देश का पहला एपीआई उद्योग

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । नालागढ़ के पलासड़ा में एक्टिव फार्मास्यूटिकल इनग्रेडिएंट (एपीआई) उद्योग …