मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> भगवान महाकाल के दर पर मुख्यमंत्री कमलनाथ, पत्नी के साथ की पूजा

भगवान महाकाल के दर पर मुख्यमंत्री कमलनाथ, पत्नी के साथ की पूजा

उज्जैन 2 जनवरी 2019 । मुख्यमंत्री कमलनाथ ने नए साल के पहले दिन उज्जैन में भगवान महाकाल के दर्शन किए। उनके साथ पत्नी भी मौजूद थीं। दोनों ने बाबा महाकाल का पंचामृत से अभिषेक किया। इससे पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ नरसिंह घाट पर मौजूद अस्थायी हैलीपेड पर उतरे। वहां से सीधे कार में सवार होकर वो बाबा महाकाल के दरबार में पहुंचे। मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार उज्जैन पहुंचे मुख्यमंत्री का अस्थायी हैलीपेड पर बड़ी संख्या में कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। वो तकरीबन एक घंटे तक मंदिर में रुके।

इससे पहले चुनाव प्रचार के दौरान भी मुख्यमंत्री कमलनाथ बाबा महाकाल के दर पर पहुंचे थे और कांग्रेस पार्टी की जीत के लिए पूजा की थी। इतना ही नहीं उन्होंने एक चिठ्ठी भी भगवान महाकाल को अर्पित की थी। प्रदेश में सरकार बनने के बाद आज वो दोबारा बाबा महाकाल का आशीर्वाद लेने पहुंचे।

नए मुख्य सचिव ने संभाली जिम्मेदारी, बोले- भ्रष्टाचार पर रहेगा जीरो टॉलरेंस

मुख्य सचिव एसआर मोहंती ने नए साल के पहले दिन मंत्रालय में पदभार किया ग्रहण। इस मौके पर मीडिया से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि गवर्नेंस अब जिलों से होगा, मुख्यालय से नहीं और जिला कलेक्टरों को निर्देशित करना और उनको मार्गदर्शन देना हमारा काम है।

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की घोषणा पत्र का पालन करना हमारा काम है, जहां तक कर्ज माफी की बात रही तो कर्ज माफी भी बहुत ही जल्दी हो जाएगी, फंड्स की कोई दिक्कत नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि जिले हमारे ऊपर निर्भर ना रहें और विभाग भी हमारे ऊपर निर्भर ना रहे हैं। वह अपने स्तर पर निर्णय लें। इसके अलावा उन्होंने साफ कर दिया कि अब गवर्नेंस का केंद्र जिले होंगे, डी एम, एसपी भोपाल की तरफ नही देखेंगे। वहीं भ्रष्टाचार को लेकर भी उन्होंने भी साफ कर दिया कि इस पर जीरो टॉलरेंस होगा। इसके बाद उन्होंने सामान्य प्रशासन विभाग की प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी के साथ मंत्रालय एनेक्सी का भ्रमण किया और अपने कक्ष को देखा और कैबिनेट का भी जायजा लिया।

आईएएस बिरादरी में प्रदेश के सबसे वरिष्ठ अधिकारी (1982 बैच) सुधीरंजन मोहंती ने सोमवार को सेवानिवृत्त हुए 1984 बैच के अफसर बसंत प्रताप सिंह की जगह ये जिम्मेदारी संभाली है। मोहंती बालाघाट, सतना और इंदौर कलेक्टर रहने के साथ जनसंपर्क विभाग से लंबे समय तक जुड़े रहे हैं।

टास्क अचीवर हैं मोहंती : 1993 से 2003 की कांग्रेस सरकार में मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भरोसेमंद अफसरों में शुमार मोहंती भाजपा सरकार में हाशिए पर रहे हैं। उन्हें क्षमता के अनुरूप जिम्मेदारियां नहीं दी गईं। मोहंती को जानने वाले अधिकारी कहते हैं कि वे टास्क अचीवर हैं। पूरे करियर में उन्हें सरकारों ने जो भी लक्ष्य दिए, उसकी उन्होंने शत-प्रतिशत पूर्ति करके दिखाई। यही वजह है कि उन्हें इस चुनौतीपूर्ण पद के लिए चुना गया है।

मुख्‍यमंत्री की मंशानुसार डी जी पी ने पुलिस कर्मचारियों को साप्‍ताहिक अवकाश के दिये निर्देश

मुख्‍यमंत्री कमलनाथ की मंशानुसार आज 01 जनवरी 2019 को पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्‍ला ने मैदानी पदस्‍थापना पर कार्यरत समस्‍त पुलिस कर्मचारियों को नव वर्ष के प्रथम दिन पुरस्‍कार स्‍वरूप सप्‍ताह में एक दिन का अवकाश प्रदान करने के निर्देश दिये।

अब से मैदानी पदस्‍थापना पर कार्यरत समस्‍त पुलिस कर्मचारियों को सप्‍ताह में एक दिन का अवकाश प्रदान किया जायेगा। यदि अपरिहार्य परिस्थिति में कोई कर्मचारी इस अवकाश का उपभोग नहीं कर पाता है तो वह उसी महीने में अन्‍य किसी दिन इस अवकाश का लाभ ले सकेगा। यदि उस महीने में वह इस अवकाश का उपभोग नहीं करता है तो यह अवकाश स्‍वत: समाप्‍त हो जायेगा।

परशुराम एवं बंसत प्रताप सिंह ने पदभार ग्रहण किया

श्री आर. परशुराम ने आज अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विशलेषण संस्थान में महानिदेशक का पदभार ग्रहण किया। श्री परशुराम ने संस्थान में पदस्थ प्रमुख सलाहकारों एवं अधिकारियों से परिचय प्राप्त किया। उन्होंने कहा कि सभी विभागों का मॉडल मेन्युअल होना चाहिए। संस्थान इस दिशा में प्रभावी कदम उठायेगा। उन्होंने संस्थान की कार्यप्रणाली की जानकारी ली और आगामी कार्य योजना के विषय में चर्चा की।

इस दौरान प्रमुख सलाहकार श्री एम.एम.उपाध्याय और श्री मंगेश त्यागी भी उपस्थित थे।

बसंत प्रताप सिंह ने राज्य निर्वाचन आयुक्त का पदभार ग्रहण कर लिया है। श्री सिंह 31 दिसम्बर 2018 को मुख्य सचिव पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। श्री सिंह ने आयोग में अधिकारियों से चर्चा करते हुए कहा कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव करवाना उनका लक्ष्य है। उन्होंने बताया कि ट्रेनिंग पर विशेष जोर दिया जायेगा। श्री सिंह ने आयोग के अधिकारियों और कर्मचारियों से परिचय प्राप्त किया।

राज्य निर्वाचन आयोग की सचिव श्रीमती सुनीता त्रिपाठी ने राज्य निर्वाचन आयुक्त को आयोग की कार्यप्रणाली की जानकारी दी। फिल्म और पावर पाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से भी आयोग के कार्यों की जानकारी दी गयी। इस दौरान आयोग के अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

अमेरिका के आगे झुका पाकिस्तान, अफगानिस्तान में हमलों के लिए देगा एयरस्पेस

नई दिल्ली 23 अक्टूबर 2021 । जो बाइडेन प्रशासन ने कहा है कि अमेरिका अफगानिस्तान …