मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> दावेदारों की जोरआजमाइश से रोड़ शो हुआ सफल, अब टिकिट वितरण पर नजर

दावेदारों की जोरआजमाइश से रोड़ शो हुआ सफल, अब टिकिट वितरण पर नजर

ग्वालियर 25 अक्टूबर 2018 । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की ग्वालियर में निकली जनार्शीवाद यात्रा में उम्मीद से कहीं अधिक संख्या में भीड़ उमड़ने और रोड़ शो की सफलता को विधानसभा चुनावों में टिकट की चाह रखने वाले दावेदारों की जोरआजमाईश के तौर पर देखा जा रहा है एैसे में अपनी पूरी ताकत झौंककर शिवराज सिंह की ग्वालियर में आगवानी करने वाले नेताओं की नजर अब टिकिट वितरण पर लगी हुई है। अंदरखेमे राहुल के रोड़ शो के बाद कंाग्रेस नेताओं का भी यही हाल है। जिनमें कई नेता तो पिछले कई दिनों से लगातार भोपाल-दिल्ली के चक्कर लगा रहे हैं।

विधानसभा चुनावों में नामंाकन की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आती जा रही है टिकिट की बाट जोह रहे नेताओं की धड़कनें बढ़ती जा रहीं हैं और वे पार्टी और आला नेताओं की नजर में आने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाह रहे हैं गत रोज प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चैहान के ग्वालियर में हुए रोड़ शो इन्हीं नेताओं की बैचेनी ने सीएम के कार्यक्रम को सफल बनाने का काम किया। अलग-अलग विधानसभाओं में सीएम के सामने अपने शक्ति प्रदर्शन को दिखाने की मानो होड सी मच गई और दावेदारों द्वारा बाकायदा मंच सजाकर सीएम को अपनी ताकत का अहसास कराया। हालंाकि रोड़ शो में उमड़ी भीड़ ने भाजपा कार्यकर्ताओं में जरूर एक नई ऊर्जा का संचार कर दिया। गौरतलब है कि कंाग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गंाधी के रोड़ शो में भी ग्वालियर की सड़कों पर भारी भीड़ देखने को मिली थी जिसके बाद भाजपा के आला नेता सक्रिय हुए और शिवराज की जनार्शीवाद यात्रा को सफल बनाने में जुट गए थे।

भिण्ड, मुरैना, डबरा और दतिया से भी पहंुचे कार्यकर्ताः- ग्वालियर में हुए सीएम शिवराज सिंह के रोड़ शो में लोगों का हुजूम दिखाने के लिए केवल शहर ही नहीं बल्कि ग्रामीण अंचलों से भी लोगों को गाडियों में भर कर ग्वालियर लाया गया इसके साथ ही भिण्ड, मुरैना, डबरा और दतिया से भी भाजपा कार्यकर्ता सीएम को सुनने ग्वालियर पहंचे।

मामी, दादा पर ही फिर मुहर!
राजनैतिक गलियारों में चल रही खबरों की माने तो भाजपा ने ग्वालियर 15 और ग्वालियर पूर्व विधानसभा के टिकट फाइनल कर लिये है। सांध्यदेश के मुताबिक पार्टी का मत है कि अगर उम्मीदवार बदला गया तो असंतोष हो सकता है। इसलिए पार्टी ने अपने वर्तमान विधायकों, जो सूबे के केबिनेट मंत्री भी है उन पर ही विश्वास जताने का मन बना लिया है।
आपको बताते चलें कि ग्वालियर 15 से जयभान सिंह पवैया और ग्वालियर पूर्व से माया सिंह के नाम पर पार्टी में लगभग सहमति बन गई है। सांध्यदेश के मुताबिक दोनों ही पार्टी के कददावर नेता है और सूबे की सरकार में केबिनेट मंत्री भी। पार्टी के फीडबैक के अनुसार यहां दावेदारों की लंबी फौज है, परंतु फौज में यह ही दोनों नेता अपनी-अपनी सीटों पर फीट बैठ रहे है। इसलिए पार्टी ने अब पुनः दोनों दिग्गज नेताओं को एक बार फिर टिकट देने का मन बना लिया है। सांध्यदेश के मुताबिक पार्टी बदलाव के पक्ष में नहीं है। दोनों बड़े नेता है और कार्यकर्ताओं को संगठित कर चुनाव लड़ने की ताकत भी रखते है। इसलिए संभवतः हाईकमान ने पुनः दोनों को टिकट देने का निर्णय कर लिया है। जल्द ही भाजपा की आने वाली पहली सूची में दोनों के नाम को हरी झंड़ी मिल जायेगी।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फतह मुबारक हो मुसलमानो, भारत के खिलाफ जीत इस्लाम की जीत…जश्न मनाने के बदले जहर उगलने लगा पाक

नई दिल्ली 25 अक्टूबर 2021 । खराब बल्लेबाजी और खराब गेंदबाजी की वजह से टीम …