मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> 14 को दोपहर में कमलनाथ मंत्रियों के साथ लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

14 को दोपहर में कमलनाथ मंत्रियों के साथ लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

भोपाल  13 दिसंबर 2018 ।कांग्रेस सरकार मे कुल 34 मंत्रियों को जगह मिल सकतीं हैं। सूत्रों से मिलीं ख़बरों में पहलें दौर में 12 से 15 मंत्रियों के साथ कमलनाथ मुख्यमंत्री की शपथ लेंगे। कैबिनेट मंत्री के लियें सज्जन सिंह वर्मा, तुलसी सिलावट, जीतू पटवारी, आरिफ अकील, विजय लक्ष्मी साधो, के पी सिंह, बाला बच्चन, गोविंद राजपूत, इमरती देवी, सचिन यादव, कमलेश्वर पटेल, हिना कावरे, तरुण भानोट, लक्ष्मण सिंह, एनपी प्रजापति, दीपक सक्सेना, संजय शर्मा (तेंदुखेडा), झूमा सोलंकी के नाम लगभग तय माने जा रहें हैं। विधानसभा अध्यक्ष को लेकर लहार से विधायक गोविंद सिंह का नाम लगभग तय हो गया हैं।

मध्यप्रदेश में कांग्रेस ने मुख्यमंत्री किया फाइनल, साफ़ हुआ कि यह नेता बनाया जाने वाला है मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री

मध्यप्रदेश में कांग्रेस का मुख्यमंत्री हुआ तय : मध्यप्रदेश विधानसभा चुनावों के अंदर जिस तरीके से कांग्रेस को बंपर सीटे मिली हैं तो उसके बाद अब मुख्यमंत्री का नाम भी कांग्रेस के लिए चुनना उतना ही मुश्किल होता जा रहा है. 114 सीट जीतने के बाद कांग्रेस राज्य में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है लेकिन अभी तक कंफर्म नहीं हो पाया है कि कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी किस नेता को मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री की सीट पर बैठ आने वाले हैं.

मध्यप्रदेश में कांग्रेस का मुख्यमंत्री :
ऐसे में अब सूत्रों से इस तरीके की खबरें आ रही है कि मध्य प्रदेश के अंदर कांग्रेस अपने सीनियर और विश्वास के नेता कमल नाथ को मुख्यमंत्री बना सकती है. कमलनाथ का नाम इस समय सबसे ऊपर चल रहा है जिस तरीके से विधानसभा चुनावों में कमलनाथ ने मेहनत की थी तो उसी का उपहार इनको मिलता हुआ नजर आ सकता है. पूर्व शहरी मंत्री कमलनाथ जल्द मुख्यमंत्री पद पर बैठते हुए नजर आ सकते हैं.

वैसे एक तरफ ज्योतिरादित्य सिंधिया का भी नाम मुख्यमंत्री के लिए आगे चल रहा है और सिंधिया के चाहने वाले लगातार इनको मुख्यमंत्री बनाने के लिए मेहनत करते हुए नजर आ रहे हैं लेकिन सूत्रों का ऐसा कहना कांग्रेस चाहती है कि मध्य प्रदेश किसी युवा नेता के हाथ में नहीं दिया जाए ताकि आने वाले समय में कोई भी गड़बड़ी होती हुई नजर आए.

मध्य प्रदेश में बनाई छवि कांग्रेस को लोकसभा में काम आएगी तो उसी का फायदा आगामी लोकसभा चुनावों में होने वाला है. इस तरीके की खबरें अब सामने आ रही है कमलनाथ को मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है और यही वह नाम है जो सबसे आगे चलता हुआ नजर आ रहा है.

राहुल को मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया और राजस्थान में सचिन पाइलट को गद्दी देनी चाहिए
ये हम नहीं हमारे पोल कह रहे हैं. 5 में 4 लोगों ने ज्योतिरादित्य सिंधिया और 1 ने कमलनाथ को, इसी तरह 5 में 4 लोगों ने सचिन पाइलट और 1 ने अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री पद देने के लिए वोट किया है. राहुल गाँधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनते ही पूरी कांग्रेस पार्टी के मन में उनके युवा होने का ख्याल सबसे पहले आया था. वैसे तो युवा होने की परिभाषा क्या है इसका सही सार आजतक मिल नहीं पाया है.

कमलनाथ और अशोक गहलोत के अनुभव कई युवावों के बीच के हैं इस हिसाब से वो इसने कही ज्यादा युवा हैं. लेकिन अगर शिउ मायने में भारत को देखा जाये तो जनसख्या सबसे ज्यादा 18-35 वर्ष के युवा वर्ग की है और उनकी पहली पसंद शायद युवा ही है. यही कारण है कि कांग्रेस के युवा चेहरों सचिन पाइलट को राजस्तान और ज्योतिरादित्य सिंधिया को मध्य प्रदेश फतेह करने में खासा परेशानिया नहीं उठानी पड़ी.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Ram Mandir निर्माण के लिए Rajasthan के लोगों ने दिया सबसे ज्यादा चंदा

जयपुर: विश्व हिंदू परिषद (VHP) के केंद्रीय उपाध्यक्ष और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के …