मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> सीएम ने लिया भाजपा को निशाने पर

सीएम ने लिया भाजपा को निशाने पर

भोपाल 19 सितम्बर 2019 । राजधानी भोपाल में अध्यात्म विभाग की ओर से राजधानी के मिंटो हाॅल में आयोजित किये गए संत समागम में देशभर के साधु-संत शामिल हुए| कार्क्रम में संतों को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा मेरा सौभाग्य है कि मुझे संत समागम में आने का मौका मिला, मैं सभी साधु-संतों को प्रणाम करता हूं| इस दौरान सीएम ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा मैं साधु-संतों के लिए कुछ करता हूं तो लोगों के पेट में दर्द होता है, जैसे इन्होंने धर्म का ठेका लिया हो| इस दौरान सीएम ने कहा हमारे भारत की असली शक्ति आध्यात्मिक शक्ति है|

समागम में मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, मंत्री पीसी शर्मा भी शामिल हुए। मिंटो हाल में चल रहे संत समागम में प्रदेशभर से आए करीब 1000 साधू-संत शामिल हुए| मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा सबको मालूम है, मै प्रचार प्रसार नही करता हमारा कर्तव्य बनता है हम जनता के सेवक हैं| भाजपा ने साधुओं का ठेका लिया हुआ है, मेरे इस सम्मेलन से भाजपा के पेट मे बहुत दर्द हो रहा होगा| कांग्रेस सरकार ने अपने नौ महीने में अपने नीयत का परिचय दिया| जब मैं छिंदवाड़ा में मंदिर अपने पैसा से बनवा रहा था उस समय भी भाजपा के पेट में दर्द हुआ था| धर्म को लेकर कंप्यूटर बाबा की सोच मेरे सोच से मिलती जुलती है। भारत की पहचान विश्व में आध्यत्मिक शक्ति से है। हमारी संस्कृति सभी को एक सूत्र में बांधकर चलने की है|

सीएम ने कहा मैं आपसे ये प्रार्थना करूंगा कि कैसे नई पीढ़ी को आध्यात्मिकता से जुड़ेगी। नौजवानों को आध्यात्मिकता से जोड़कर रखना पड़ेगा। जिससे हमारी आध्यात्मिक शक्ति, सभ्यता और संस्कृति की मजबूती बनी रहे। कम्प्यूटर बाबा जी, ये इतना बड़ा करने की नहीं। साधू संतों को पट्टा भी दिया जा सकता है। मुझे लगा कि 15 साल की सरकार में आपकी सारी मांगें पूरी हो गई होंगी। लेकिन इस बार आपने मांगा है, लेकिन अगली बार मांगना भी नहीं पड़ेगा। संत समागम में कंप्यूटर बाबा ने अपनी मांग रखते हुए कहा मंदिरों का जीर्णोद्धार किया जाय| पांच साल पुराने जो संत जंहा रह रहे है उस जगह का स्थायी पट्टा दिया जाए| जो संत गौ शाला चलाते है उन्हें निर्धारित यूनिट तक बिजलीं मुफ्त दी जाए| संतो को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलना चाहिए| संतो को वृद्धावस्था पेंशन दी जाए|

शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा

मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार द्वारा बिजली की दरों में हुई बढ़ोतरी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. इतना ही नहीं शिवराज सिंह चौहान तो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की राह पर चल पड़े हैं और लोगों से अपील की है कि वह बढ़े हुए बिजली के बिल ना भरें अगर उनकी बिजली कट जाए तो वे उनके कनेक्शन खुद जोड़ने आएंगे. इस बावत शिवराज सिंह चौहान के दफ्तर के आधिकारिक सोशल मीडिया हैंडल द्वारा लिखा गया, “जमा मत करना बढ़े हुए बिजली बिल लाइन काटी तो मैं आऊंगा जोड़ने.” दरअसल 2013 में दिल्ली विधानसभा चुनाव के पहले आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और मौजूदा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने तत्कालीन सीएम शीला दीक्षित सरकार के खिलाफ बिजली की बढ़ी हुई कीमतों के खिलाफ पूरी दिल्ली में आंदोलन छेड़ा था और लोगों से अपील की थी कि वे बिजली की बढ़ी हुई दरों का भुगतान ना करें. केजरीवाल ने कहा था कि अगर किसी के घर की बिजली काटी गई तो वह उसके घर जाकर बिजली का कनेक्शन जोड़ देंगे. अपने आंदोलन के दौरान अरविंद केजरीवाल ने ऐसा किया भी और कई घरों में जहां बिजली के कनेक्शन काट दिए गए थे वहां जाकर उन्होंने बिजली के कनेक्शन दोबारा जोड़ दिए.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

डेल्टा प्लस वैरिएंट के साथ-साथ बढ़ने लगे कोरोना के मामले

नई दिल्ली 25 जून 2021 ।  महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस वैरिएंट के …