मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> कंप्यूटर बाबा को प्रयाग कुंभ में भी नहीं मिलेगा प्रवेशमेटी

कंप्यूटर बाबा को प्रयाग कुंभ में भी नहीं मिलेगा प्रवेशमेटी

उज्जैन 2 नवम्बर 2018 ।  अखिल भारतीय श्री पंच अनी अखाड़े ने कंप्यूटर बाबा को अखाड़े से निष्कासित कर दिया है। 2019 में प्रयाग में आयोजित महाकुंभ में कंप्यूटर बाबा को प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

एक बैठक में हुआ निर्णय
श्री पंच दिगंबर अनी अखाड़े के सचिव महंत शिवशंकर दास ने मीडिया से चर्चा के दौरान बताया कि श्री पंच दिगंबर अनी अखाड़े में महामंडलेश्वरों, महंतों और षड्दर्शन साधु समाज की एक बैठक आयोजित की गई, इसमें कंप्यूटर बाबा के कार्य और गतिविधियों पर विचार-विमर्श उपरांत यह पाया गया कि नामदेव दास उर्फ कंप्यूटर बाबा द्वारा व्यक्तिगत स्वार्थों और राजनीति के लिए अखाड़े और साधु समाज का उपयोग किया जा रहा है। महामंडलेश्वर बनते समय कंप्यूटर बाबा ने शपथ ली थी कि महामंडलेश्वर पद का उपयोग निजी स्वार्थ के लिए नहीं करेंगे।

प्रयाग कुंभ में नहीं मिलेगी कोई जमीन
इसके बावजूद पिछले कुछ समय से वह लगातार व्यक्तिगत हित और राजनीति के लिए गतिविधियों में लिप्त हैं। ऐसी स्थिति में उन्हें अखाड़े से निष्कासित किया जाना चाहिए। श्री पंच दिगंबर अनी अखाड़े के पंचों द्वारा लिए गए फैसले के बाद नामदेवदास उर्फ कंप्यूटर बाबा को अखाड़े से निष्कासित कर दिया गया है। महामंडलेश्वर कंप्यूटर बाबा को 2019 में प्रयाग में आयोजित महाकुंभ में किसी प्रकार की कोई जमीन आवंटित नहीं की जाएगी और ना ही उन्हें सुविधा दी जाएगी। अखाड़े का प्रयास होगा कि महामंडलेश्वर कंप्यूटर बाबा को प्रयाग कुंभ में प्रवेश नहीं दिया जाए।

कम्प्यूटर बाबा की मुश्किलें बढ़ीं
विधानसभा चुनाव से पहले सरकार के खिलाफ लगातार हमले कर रहे कंप्यूटर बाबा की मुश्किलें बढ़ गई हैं। कंप्यूटर बाबा को अब उज्जैन स्थित दिगंबर अखाड़ा से बाहर कर दिया गया है। अखड़ा परिषद का कहना है कि कंप्यूटर बाबा ने व्यक्तिगत हितों के लिए अखाड़े की छवि खराब की है। वहीं, सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, कंप्यूटर बाबा को अखाड़े से बाहर किए जाने के पीछे भाजपा सरकार है। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष ने कंप्यूटर बाबा को परिषद से बाहर किए जाने की पुष्टि की है। 1008 महामंडलेश्वर नामदेव त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा का इंदौर के अहिल्या नगर में एक भव्य आश्रम है। हाल ही कंप्यूटर बाबा अस्पताल में भर्ती थे और उन्होंने जान का खतरा होने की बात कही थी।

शिवराज के खिलाफ बगावत
शिवराज सरकार के खिलाफ बगावत करते हुए राज्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के कामकाज से नाराज कंप्यूटर बाबा ने इस्तीफे के बाद ऐलान किया कि अब वे शिवराज सरकार के खिलाफ धूनी रमाने जा रहे हैं। कंप्यूटर बाबा ने नर्मदा की दुर्दशा और बेहाल गायों की हालत का मसला उठाते हुए मुख्यमंत्री चौहान पर हमला बोला। उन्होंने चौहान पर झूठी घोषणाएं करने का आरोप लगाया था।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

फतह मुबारक हो मुसलमानो, भारत के खिलाफ जीत इस्लाम की जीत…जश्न मनाने के बदले जहर उगलने लगा पाक

नई दिल्ली 25 अक्टूबर 2021 । खराब बल्लेबाजी और खराब गेंदबाजी की वजह से टीम …