मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> अब सिंहस्थ घोटाले को लेकर पलटी कांग्रेस

अब सिंहस्थ घोटाले को लेकर पलटी कांग्रेस

उज्जैन  20 फरवरी 2019 । सत्ता में आते ही कांग्रेस के सुर बदले बदले नजर आ रहे है। जिन मुद्दों पर कांग्रेस विपक्ष में रहकर शिवराज सरकार को घेरती आई है अब उन्हें मुद्दों पर एक के बाद एक क्लीनचिट दे रही है। मंंदसौर गोलीकांड के बाद प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने सिंहस्थ घोटाले पर भी शिवराज सरकार को क्लीनचिट दी है।

कमलनाथ सरकार का मानना है कि सिंहस्थ में कोई घोटाला नही हुआ, इसलिए इस मामले में कोई जांच नही करवाई जाएगी।यह जानकारी विधानसभा में कांग्रेस विधायक द्वारा पूछे गए प्रश्न के उत्तर में नगरीय विकास मंत्री जयवर्धन सिंह ने दी है।दरअसल,सोमवार से शुरु हुए विधानसभा सत्र में कांग्रेस विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा ने अपनी ही सरकार से सवाल पूछा था कि क्या राज्य सरकार सिंहस्थ 2016 में हुई आर्थिक अनियमितताओं की जांच करने वाली है, क्या इसमें घोटाला हुआ था। इस पर नगरीय विकास मंत्री जयवर्धन सिंह ने लिखित जवाब में जांच से इनकार किया है।

बताते चले कि विपक्ष में रहकर कांग्रेस ने सिंहस्थ घोटाले पर जमकर बवाल मचाया था। कांग्रेस ने सड़क से लेकर सदन तक शिवराज सरकार का घेराव किया था।हालांकि कांग्रेस के सत्ता में आते ही सिंहस्थ घोटाले की जांच की भी बात सामने आई थी।कहा जा रहा था कि सिंहस्थ आयोजन के दौरान हुए घोटालों की जांच कांग्रेस सरकार ने शुरू कर दी है। आयोजन के लिए सामग्री खरीदी, निर्माण कार्यों, टेंडर प्रक्रिया सहित अन्य मामलों की फाइलें खंगाली जा रही हैं।

इसके लिए राज्य सरकार ने भी मंत्रियों की कमेटी गठित की है जिनमें गृह मंत्री बाला बच्चन, खेल मंत्री जीतू पटवारी, नगरीय निकाय मंत्री जयवर्धन सिंह को शामिल किया है।लेकिन सोमवार को विधानसभा में मंत्री जयवर्धन सिंह के बयान के बाद सभी कयासों पर विराम लग गया है।सरकार के इस कदम के बयान कांग्रेस विवादों मे घिरती नजर आ रही है।चुंकी मंदसौर गोलीकांड के बाद पहले से ही बड़ा बखेड़ा खड़ा हो गया है, हालांकि बढ़ते विवाद को देखते हुए सरकार ने यू-टर्न ले लिया है और सफाई पेश की है। अब सरकार के इस बयान के बाद नया बवाल मचना तय है। अभी तक इस मामले में सरकार की तरफ से कोई प्रतिक्रिया सामने नही आई है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

अपोलो हॉस्पिटल्स, इंदौर में हार्ट सर्जरी के बाद नन्हे हीरोज अपने घर वापिस जाने के लिए तैयार

इंदौर 1 मार्च 2021 । यह अनुमान है कि भारत में हर साल 240,000 बच्चे …