मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> अदनान को पद्मश्री देने को लेकर कांग्रेस में दो फाड़

अदनान को पद्मश्री देने को लेकर कांग्रेस में दो फाड़

नई दिल्ली 29 जनवरी 2020 । बॉलीवुड गायक अदनान सामी को केंद्र सरकार के पद्मश्री सम्मान देने को लेकर सियासत गर्मा गई है। देश की मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस में उन्हें सम्मानित करने को लेकर दो हिस्से हो गए हैं। पार्टी के प्रवक्ता और अमेरिका स्थित बर्कले लॉ स्कूल से कानून की पढ़ाई कर चुके जयवीर शेरगिल ने जहां सामी को नागरिक सम्मान दिए जाने को चमचागिरी का जादू बताया है। वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने गायक को बधाई दी है।
पार्टी प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने यह सवाल भी किया कि ऐसा क्यों हुआ कि करगिल युद्ध में शामिल हुए सैनिक सनाउल्लाह को ‘घुसपैठिया’ घोषित कर दिया गया, जबकि उस सामी को पद्म सम्मान दिया जा रहा है जिसके पिता ने पाकिस्तानी वायुसेना में रहकर भारत के खिलाफ गोलाबारी की थी?

शेरगिल ने एक वीडियो जारी कर कहा, ‘भारतीय सेना के वीर सिपाही और भारत माता के पुत्र मोहम्मद सनाउल्लाह जिन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ कारगिल की लड़ाई लड़ी, उनको एनआरसी के जरिए घुसपैठिया घोषित कर दिया गया। दूसरी तरफ, अदनान सामी को पद्म श्री से नवाज दिया गया जिनके पिता पाकिस्तानी वायुसेना में अफसर थे और जिन्होंने भारत के खिलाफ गोलाबारी की थी।’

जयवीर शेरगिल ने ट्विटर पर भाजपा से तीन सवाल पूछा। उन्होंने लिखा, ‘अदनान सामी पर भाजपा से तीन सवाल- 1. पाक के खिलाफ लड़ने वाला भारत का सिपाही घुसपैठिया और पाक वायुसेना के अफसर के बेटे को सम्मान? 2. पद्मश्री के लिए समाज में योगदान जरुरी है या सरकार का गुणगान? 3. क्या पद्मश्री के लिए नया मानदंड है “करो सरकार की चमचागिरी मिलेगा तुमको पद्मश्री?’

सिंह ने ट्वीट किया, ‘पद्म पुरस्कार के लिए चुने गए सभी लोगों को बधाई। मुझे खुशी है कि प्रसिद्ध गायक एवं संगीतकार और पाकिस्तानी मुसलमान प्रवासी अदनान सामी को भी पद्म श्री दिया गया है।’ उन्होंने कहा, ‘मैंने उन्हें भारतीय नागरिकता देने के लिए भारत सरकार से उनके मामले की सिफारिश भी की थी। उन्हें मोदी सरकार ने भारतीय नागरिकता दी थी।’

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

4 माह में 24 हजार तालिबानी ढेर, 5 हजार आम नागरिक मरे…अफगानिस्तान में यूं जारी है खूनी जंग

नई दिल्ली 31 जुलाई 2021 । अफगानिस्तान में किस कदर बीते कुछ महीनों में खूनी …