मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> यहां हुआ देश का सबसे महंगा जमीन सौदा

यहां हुआ देश का सबसे महंगा जमीन सौदा

मुंबई 26 जून 2019 । मुंबई में प्रति एकड़ के हिसाब से देश का सबसे महंगा जमीनी सौदा हुआ है, जिसने पूरे रियल एस्टेट मार्केट को हैरत में डाल दिया है. दरअसल, जापान के सुमितोमो ग्रुप ने बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स में तीन एकड़ के प्‍लॉट के लिए 2,238 करोड़ रुपये बोली लगाई है. बताया जा रहा है कि सुमितोमो ग्रुप प्रति एकड़ के लिए लगभग 745 करोड़ रुपये चुकाएगा.

जानकारों के अनुसार, बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स का प्‍लॉट अन्य दो और प्‍लॉटों के साथ कई महीने पहले से बिकाऊ था, लेकिन रियल एस्टेट में मंदी होने के कारण इसको कोई खरीददार नहीं मिल रहा था. मुंबई के स्‍थानीय डेवलपर्स भी इस प्‍लॉट में पूंजी लगाने से डर रहे थे.

जानकारों का कहना है कि सुमितोमो ग्रुप का यह जमीनी सौदा इसलिए भी हैरान करने वाला है क्योंकि बांद्रा-कुर्ला कॉम्‍प्‍लेक्‍स जैसी प्राइम कमर्शल को उन्होंने बहुत ज्‍यादा कीमत में खरीदा है.

बताया जा रहा है कि जिस प्‍लॉट को सुमितोमो ग्रुप ने खरीदा है उसका रिजर्व प्राइस 3.44 लाख रुपये प्रति वर्ग मीटर था. इसके पहले 2010 में लोढ़ा ग्रुप ने एमएमआरडीए के वडाला में 6.2 एकड़ प्‍लॉट के 4,050 करोड़ रुपये की सबसे बड़ी बोली लगाई थी. यानी कि प्रति एकड़ 653 करोड़ रुपये लोढ़ा ग्रुप ने चुकाए थे.

सुमितोमो की रियल एस्टेट डील से जुड़े लोग बताते हैं कि सुमितोमो की योजना यहां कमर्शियल ऑफिस कॉम्‍प्‍लेक्‍स बनाने की है. वो अपनी भारतीय इकाइयों को भी यहां स्थापित कर सकता है.

कहा जा रहा है कि इस डील के बाद सुमितोमो किराए पर ऑफिस दिए जाने वाले सेक्‍टर में उतर सकता है. पहले ही कई विदेशी कंपनियां इस सेक्टर में अपनी किस्मत आजमा रही हैं.

इस डील के बाद भारत और जापान के बीच संबंधों को और मजबूती मिलने की बात कही जा रही है. वैसे तो भारत के बिजनेस क्षेत्र में सुमितोमो की पहले से ही काफी मौजूदगी है. इनमें सुमितोमो मितसुई फाइनैंशल ग्रुप, एनईसी कॉर्पोरेशन और निप्‍पन स्‍टील, माज्‍दा मोटर्स शामिल है. साथ ही यह कहा जा रहा है कि इस प्रॉपर्टी डील से मुंबई के रियल एस्टेट मार्केट में तेजी आएगी.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘इंडोर प्लान’ से OBC वोटर्स को जोड़ेगी BJP, सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों में उतरेगी टीम

नयी दिल्ली 25 जनवरी 2022 । उत्तर प्रदेश की आबादी में करीब 45 फीसदी की …