मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> एयर स्ट्राइक और मिशन शक्ति के बावजूद भी बीजेपी बहुमत से दूर

एयर स्ट्राइक और मिशन शक्ति के बावजूद भी बीजेपी बहुमत से दूर

नई दिल्ली 9 अप्रैल 2019 । लोकसभा चुनाव के पहले के चरण के मतदान से ठीक पहले एबीपी न्यूज ने सी-वोटर के साथ मिलकर सर्वे किया है। जिसमे बताया गया कि बीजेपी नीत एनडीए इस बार बहुमत से थोड़ा पीछे रह जाएगा। जबकि कांग्रेस नीत यूपीए के पहले से बेहतर प्रदर्शन करने के अनुमान हैं। लेकिन सत्ता की दौड़ में वह भी काफी पीछे रह जाएगा। अन्य क्षेत्रीय दलों के खाते में काफी सीटें जा रही हैं और अगली सरकार बनाने में इन दलों की बड़ी भूमिका होगी।

बता दें कि चुनाव की घोषणा होने से पहले मोदी सरकार द्वारा पाकिस्तान स्थित आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की गई थी। जबकि चुनाव की घोषणा के बाद पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए बताया कि किस तरह से ‘मिशन शक्ति’ कामयाब हुआ और पूरी दुनिया में अंतरिक्ष में मौजूद सैटेलाइट को मार गिराने वाला भारत चौथी शक्ति बना। हालांकि, इन सबका फायदा मोदी सरकार को चुनाव में मिलता नहीं दिख रहा है।

सर्वे के मुताबिक, 543 लोकसभा सीटों में से एनडीए को 264 सीटों पर जीत मिल सकती है। वहीं यूपीए 141 सीटों पर अपना परचम लहराएगा और अन्य दलों को 138 सीटें मिलने की उम्मीद है। यानि कोई भी दल या गठबंधन बहुमत के जादुई आंकड़े 272 को छूने या पार करने की स्थिति में नहीं हैं। याद रखने की बात है कि एनडीए जो 264 सीटें जीत सकता है, उसमें बीजेपी का हिस्सा 220 होगा। इसी तरह यूपीए की झोली में जो 138 सीटें जा सकती हैं उसमें कांग्रेस का हिस्सा 86 सीटों का होगा।

बात सबसे ज्यादा लोकसभा सीटों वाले राज्य उत्तर प्रदेश की करें तो यहां एनडीए और महागठबंधन दोनों को 43-43 प्रतिशत वोट मिलने की संभावना है। हालांकि, सीटों की संख्या पर महागठबंधन (सपा-बसपा-रालोद) बाजी मार सकती है। एनडीए को 32 और महागठबंधन को 44 सीटें मिल सकती है। वहीं, यूपीए 13 प्रतिशत वोट के साथ 4 सीटों पर जीत हासिल कर सकती है। बिहार में एनडीए (भाजपा, जदयू, लोजपा) को काफी ज्यादा फायदा होता दिख रहा है। यहां की कुल 40 सीटों में से 34 पर एनडीए और 6 पर यूपीए जीतती दिख रही है। बता दें कि बिहार में यूपीए में कांग्रेस, राजद, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा, रालोसपा और हम पार्टी शामिल है।

अब बात करते हैं महाराष्ट्र की। राज्य में लोकसभा की कुल 48 सीटें हैं। यहां एक ओर भाजपा और शिवसेना है तो दूसरी ओर कांग्रेस तथा राकंपा। महाराष्ट्र में एनडीए को 35 और यूपीए को 13 सीट मिलने की संभावना है। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी का जादू बरकरार रह सकता है। राज्य की कुल 42 सीटों में से 35 टीएमसी, 6 एनडीए और एक यूपीए के खाते में जाती दिख रही है। ओडिशा की कुल 21 सीटों में से 12 एनडीए और 9 बीजू जनता दल के खाते में जाती दिख रही है। झारखंड में भाजपा की सरकार होने के बावजूद यहां यूपीए का पलड़ा भारी दिख रहा है। राज्य की कुल 14 सीटों में से 9 पर यूपी और 5 पर एनडीए की जीतने की संभावना है।

पूर्वोत्तर भारत की कुल 25 सीटों में से 13 पर एनडीए, 10 पर यूपीए और 2 पर अन्य की जीतने की संभावना है। गुजरात की 26 सीटों में से 24 पर भाजपा और 2 पर कांग्रेस की जीत की संभावना है। राजस्थान की कुल 25 में से 20 पर एनडीए और 5 पर यूपीए जीत सकती है। मध्य प्रदेश की कुल 29 सीटों में से 23 एनडीए और 6 यूपीए के खाते में जा सकती है। पंजाब की 13 सीटों में से 12 यूपीए और 1 एनडीए के खाते में जा सकती है। हरियाणा की कुल 10 में से 9 सीटों पर बीजेपी और 1 सीट पर कांग्रेस की जीत की संभावना है। दक्षिण भारत की 129 सीटों में से 63 यूपीए, 44 अन्य और 22 एनडीए के खाते में जा सकती है।

चुनाव से पहले एक और बैंक घोटाला हुआ उजागर, बैंकों को लगा 2300 करोड़ का चूना

चुनाव से पहले एक और घोटाला सामने आया है। केंद्रीय जांच ब्यूरो ( CBI ) ने 2,348 करोड़ रुपए की कथित धोखाधड़ी के मामले में शनिवार को कई शहरों में भूषण स्टील एंड पावर के ठिकानों पर छापेमारी की है। अधिकारियों ने बताया कि कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज करने के बाद यह कार्रवाई की गई है। कंपनी ने रिपेमेंट में जानबूझकर डिफॉल्ट किया और अवैध कर्ज लिया, जिससे बैंकों को 2,348 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।

CBI ने दी जानकारी

सीबीआई के एक प्रवक्ता जानकारी देते हुए बताया कि बैंकों/ वित्तीय संस्थानों/ सरकारी कोष को चूना लगाने के लिए आरोपियों ने सरकारी कर्मचारियों और अन्य लोगों के साथ मिलकर आपराधिक साजिश को अंजाम दिया है। आरोप है कि कंपनी के निदेशकों ने अपनी कंपनियों और मुखौटा कंपनियों के जरिए बैंकों की भारी रकम का हेरफेर किया।

ठिकानों पर की गई छापेमारी

आपको बता दें कि दिल्ली-एनसीआर, चंडीगढ़ और कोलकाता सहित कई शहरों में कंपनी के निदेशकों, प्रवर्तकों और कर्मचारियों के कार्यालयों व रिहायशी ठिकानों की तलाशी ली गई है। जांच एजेंसी ने कंपनी उसके निदेशकों और अज्ञात सरकारी कर्मचारियों तथा अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

4700 करोड़ से ज्यादा का किया धोखा

सीबीआई ने रविवार को भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड से जुड़े 18 स्थानों पर छापे मारे हैं। कंपनी के चेयरमैन संजय सिंघल और अन्य के खिलाफ 2,348 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है, जिसके बाद सीबीआई ने ये छापेमारी की गई है। सीबीआई के एक प्रवक्ता ने कहा कि 2007 से 2014 तक 33 बैंकों और वित्तीय संस्थाओं से 47,204 करोड़ रुपए का ऋण लिया और कंपनी इसका पुनर्भुगतान नहीं कर पाई है।

इन लोगों पर दर्ज किया मामला

इसके साथ ही सीबीआई ने कंपनी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक संजय सिंघल, कंपनी की उपाध्यक्ष आरती सिंघल, निदेशकों रवि प्रकाश गोयल, राम नरेश यादव, हरदेव चंद वर्मा, रविंदर कुमार गुप्ता और रितेश कपूर के अलावा अज्ञात सरकारी कर्मचारियों पर मामला दर्ज किया।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

किश्तवाड़ में बादल फटने से पांच की मौत, 40 से ज्यादा लोग लापता

नई दिल्ली 28 जुलाई 2021 ।  जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश का कहर देखने को मिला …