मुख्य पृष्ठ >> किसी के साथ सोई नहीं, न्यूड नहीं हुई इसलिए कई नौकरियां खोईं: नरगिस फाखरी

किसी के साथ सोई नहीं, न्यूड नहीं हुई इसलिए कई नौकरियां खोईं: नरगिस फाखरी

नई दिल्ली 7 दिसंबर 2019 । नरगिस फाखरी. ‘रॉकस्टार’ की एक्ट्रेस. उनके कैरेक्टर का नाम हीर कौल. उनका एक इंटरव्यू बहुत वायरल हो रहा है. ये इंटरव्यू उन्होंने XXXchurch नाम के एक यूट्यूब चैनल को दिया है. उनका इंटरव्यू लिया ब्रिटनी डी ला मोरा ने.

डी ला मोरा एक पॉर्न आर्टिस्ट हैं और आजकल स्टार्स के इंटरव्यू ले रही हैं. ये उसी इंटरव्यू सीरीज़ का पांचवा भाग था. इसमें नरगिस फाखरी ने जो जवाब दिए वो दो तरीकों से प्रभावित करते हैं. एक- वो जवाब बड़े बोल्ड और सच्चे हैं. दो-उनके पर्सनल जवाब इंटरव्यू देखने वालों के लिए भी एक सबक हैं. ये रही उस इंटरव्यू की कुछ ख़ास बातें. # फैशन और मॉडलिंग की सच्चाई-
‘जब मैं घर आकर अपने मेकअप को उतारती और शीशे में अपना चेहरा देखती थी तो खुद से पूछती थी- तुम कौन हो? क्यूंकि बेशक मुझे सच्चाई पता है, लेकिन फिर भी मैं (अपने मेकअप और उजले वाले रूप को देखकर) बह जाती थी. फिर लगता था- हे भगवान! तुम वो नहीं जो तुम मैगजीन में दिखती हो.

ओल्ड स्कूल गर्ल-
‘…अब ये सब केवल मॉडल्स तक सीमित नहीं रह गया. सब लोग ऐसा सोशल मीडिया में करने लगे हैं. फिल्टर वगैरह लगा कर. हर कोई अपनी रियल ज़िंदगी में उतना खुश नहीं है, जितना वो सोशल मीडिया में दिखता है.
मैं कुछ पुराने खयालों की लड़की हूं. मुझे लगता है सोशल मीडिया लोगों को खराब कर रहा है. मुझे लोगों से पर्सनली (फेस टू फेस) मिलना पसंद है.’

प्रसिद्धि ने मेरी आत्मा मलिन कर दी है-
‘मुझे लगता है कि प्रसिद्धि ने मेरी आत्मा मलिन कर दी है. जब मुझे पहली बार प्रसिद्धि मिली तो वो ग़लत (नेगटिव) कारणों के चलते मिली. हालांकि प्रसिद्धि से कई पॉजिटिव चीज़ें भी जुड़ी हैं, जो अच्छी हैं. और वो आपके आत्मसम्मान को बढ़ाती हैं. लेकिन मैं हमेशा इस चीज़ को पकड़े नहीं रहना चाहती थी. क्यूंकि प्रसिद्धि के साथ नेगेटिव-पॉजिटिव दोनों चीज़ें जुड़ी हैं. और जब इसके नेगेटिव के साथ आपनी भिड़ंत होती है तो वो आपको बर्बाद करके छोड़ता है. इसलिए अब मैं किसी और की नहीं सुनती. मुझे किसी और के वेलिडेशन की ज़रूरत नहीं पड़ती.’ # अपनी हद जानने को लेकर –
‘मां ने मुझे समझाया कि मेरी हद कहां है. लेकिन उनके समझाने का तरीका ग़लत था. वो मुझे डराया करती थीं. आदमी. रिश्ते. सेक्स. और ये सब चीज़ें उन्हीं से आईं. मेरे दिमाग में चिपक गईं. जैसे न्यूड नहीं होना है, सेक्स के साथ जुड़ी नैतिकता वगैरह. इसके अलावा मैं एक शर्मीली लड़की भी रही हूं. इससे भी बहुत फर्क पड़ा. फिर मैंने अपने दोस्तों को देखा, जिन्होंने कुछ हदें पार की थीं. और फिर मैंने उसके परिणाम देखे. मैंने उनसे देखकर सीखा. मैं उन गलतियों को नहीं कर सकती जो मैंने किसी को करते हुए देख लिया है.’

बॉलीवुड में कास्टिंग काउच को लेकर-
‘मुझे हमेशा पता था कि मुझे किस चीज़ की भूख है. मैं शोहरत की भूखी नहीं हूं. इसलिए सब कुछ करने के लिए नहीं राज़ी हो सकती. न्यूड नहीं हो सकती. या डायरेक्टर के साथ नहीं सो सकती. मैंने कई नौकरियां खोई हैं, क्यूंकि मैंने ‘कुछ चीज़ें’ नहीं कीं. और ये दिल तोड़ देने वाली बात थी. मेरा एक स्टेंडर्ड था. मेरी एक बाउंड्री थी. लेकिन ये बुरा लगा जब मैं एक से ज़्यादा बार इन चीज़ों को लेकर बाहर निकाल दी गई. लेकिन फिर मुझे पता चला है कि अच्छे लोग जीतते हैं. बेशक ‘उनके’ रास्ते को पकड़कर न जीतें, मगर ‘अपना’ एक रास्ता पकड़कर जीतते हैं.’ #पोर्नोग्राफी को लेकर-
‘बहुत से लोग अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करते हैं. बहुत से लोग पैसा, पावर, प्रसिद्धि तो पा लेते हैं लेकिन उन्होंने अपनी आत्मा की अशुद्धियां नहीं मिटाई होती हैं. फिर उनके अंदर एक खालीपन आ जाता है, जिसे वो ज़ल्द से ज़ल्द भरना चाहते हैं. और फिर सारा खेल मांग और आपूर्ति का रह जाता है. इसलिए पॉर्न और सेक्स कंधे से कंधा मिलाकर चलते हैं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

जमीन विवाद में नया खुलासा, ट्रस्ट ने उसी दिन 8 करोड़ में की थी एक और डील

नई दिल्ली 17 जून 2021 । अयोध्या में श्री राम मंदिर ट्रस्ट के द्वारा खरीदी …