मुख्य पृष्ठ >> भूल कर भी वंदेभारत एक्सप्रेस में किसी को छोड़ने ट्रेन के अंदर मत जाइए

भूल कर भी वंदेभारत एक्सप्रेस में किसी को छोड़ने ट्रेन के अंदर मत जाइए

नई दिल्ली 5 मई 2019 । चेयर कार में सफर कर रहे एक यात्री ने शिकायत की कि फूड टेबल बहुत छोटी है. दिल्ली से ट्रेन चलने से पहले ही अनाउंसमेंट होता है कि यात्रियों को छोड़ने आए लोग नीचे उतर जाएं, एक बार दरवाजा बंद होने के बाद नहीं खुलेगा. ट्रेन के एक कर्मचारी ने बताया, `लोगों की आदत हो गई है यात्रियों को छोड़ने आए लोग भी कोच के अंदर आ जाते हैं. लगभग रोज ही ऐसा होता है कि दरवाजा बंद होने के बाद कुछ लोग अंदर रह जाते हैं और अगले स्टेशन तक जाना पड़ता है. ट्रेन तेजी से छूटती है और फिर रुकती नहीं है. बता दें कि दिल्ली के बाद वंदेभारत एक्स्प्रेस सीधे कानपुर में रुकती है और इसके बाद वाराणसी से पहले प्रयागराज में रुकती है.

सभी कोचों में एक कम्यूनिकेशन यूनिट है

सभी कोचों में एक कम्युनिकेशन यूनिट है जिसका इस्तेमाल ट्रेन ऑपरेटर को इमर्जेंसी कॉल करने के लिए किया जा सकता है लेकिन लोग शिकायत करने के लिए इसका प्रयोग कर रहे हैं. ट्रेन ऑपरेटर ने बताया कि एसी का तापमान बदलवाने के लिए भी लोग ट्रेन ऑपरेटर को मेसेज करने लगते हैं. एक ट्रिप में ऐसी 30 से 40 शिकायतें आ जाती हैं. हालांकि PECU पर स्पष्ट लिखा है कि यह केवल आपातालीन परिस्थितियों के लिए है और इसके अलावा 1000 रुपये का जुर्माना देना होगा.

इस ट्रेन में हर कोच में एसी को कंट्रोल करने का सिस्टम है जबकि सभी ट्रेनों में ऐसा नहीं होता है. PECU सिस्टम कई बार उपयोगी साबित होता है. एक कर्मचारी ने बताया कि पिछले दिन एक यात्री का स्वास्थ्य खराब हो गया और तब उसने ट्रेन ऑपरेटर को बताया. इसके बाद ट्रेन ऑपरेटर ने अनाउंस किया कि ट्रेन में अगर कोई डॉक्टर है तो यात्री की मदद करे. दूसरे कोच में सफर कर रहे एक डॉक्टर ने यात्री की मदद की. श्रीनिवास ने बताया, , `यह ट्रेन यूरोपीय ट्रेनों से ज्यादा अच्छी है। आप एक किनारे से दूसरे किनारे तक देख सकते हैं.

सभी कोच में ट्रेन की स्पीड स्क्रीन पर दिखती है

सभी कोच में ट्रेन की स्पीड स्क्रीन पर दिखती है. इसके अलावा सभी यात्रियों के लिए टच बेस्ड रीडिंग लाइट्स भी लगी हैं. टॉयलट की वॉशबेसिन टच फ्री हैं. हालांकि यात्रियों का कहना है कि इसमें और भी सुधार किए जा सकते हैं. कुछ यात्रियों का कहना है कि ट्रेन में वाई-फाई से इंटरनेट की सुविधा मिलनी चाहिए ना कि सिर्फ पहले से लोड कॉन्टेंट को ऐस्सेस करने की सुविधा.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

जमीन विवाद में नया खुलासा, ट्रस्ट ने उसी दिन 8 करोड़ में की थी एक और डील

नई दिल्ली 17 जून 2021 । अयोध्या में श्री राम मंदिर ट्रस्ट के द्वारा खरीदी …