मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> हल्के में न लें कोरोना के बढ़ते केस, सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मीटिंग में दिए जरूरी निर्देश

हल्के में न लें कोरोना के बढ़ते केस, सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मीटिंग में दिए जरूरी निर्देश

भोपाल 25 दिसंबर 2021 । मध्य प्रदेश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं। राजधानी भोपाल और इंदौर समेत तमाम शहरों में कोरोना के नए मामले सामने आए हैं। शुक्रवार को इंदौर में एक व्यक्ति ने कोरोना से जान भी गंवा दी। इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अलर्ट मोड में आ गए हैं। गुरुवार को नाइट कफ्र्यू लागू करने के बाद शुक्रवार को उन्होंने सभी मंत्रियों मंत्रियों, सभी संभागों के कमिश्नर, आईजी, जिला कलेक्टर, एसपी आदि के साथ मीटिंग की। इस मीटिंग के दौरान कोरोना से निपटने के लिए जरूरी दिशानिर्देश दिए गए। हमें रखनी होगी तैयारी
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बैठक में कहाकि अमेरिका, यूके और डेनमार्क में ओमिक्रॉन वैरिएंट सामने आने के बाद के हालात बताते हैं कि यह तेजी से बढ़ता है। इसे देखते हुए हमें तैयारी रखनी है। उन्होंने कहाकि आज प्रदेश के 8 जिलों में कोरोना केस आए हैं। यह मामले अब ज्यादा जिलों में बढ़ेंगे। हमें प्राथमिकता के आधार पर रोक-थाम के उपाय करने होंगे। सीएम ने आगे कहाकि क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप में कोई उपयोगी लगे जैसे डॉक्टर, समाजसेवी तो उसे आप जोड़ सकते हैं। रोको-टोको अभियान तुरंत शुरू करें, मास्क न लगाने वालों पर जुर्माना भी करें। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए भी जागरूकता के प्रयास शुरू करें। कम से कम 30 कांटैक्ट ट्रेसिंग जरूरी
इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज ने कहाकि कोरोना की रोकथाम के लिए हमें जांच की संख्या बढ़ाना है। पीड़ित व्यक्ति के कम से कम 30 कांटेक्ट ट्रेसिंग अवश्य करना है। उन्होंने मीटिंग में मौजूद सभी अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहाकि अस्पताल, दवाई, उपकरण, ऑक्सीजन की लाइन सहित सभी व्यवस्थाएं एक बार अवश्य जांच लें और दुरुस्त रखें। साथ ही अस्पतालों के अलावा बिजली की व्यवस्था भी सुनिश्चित रखें। बिजली की कोई समस्या नहीं है प्रदेश में, लेकिन एक बार इसके लिए भी पुख्ता इंतजाम कर लें।

आर्थिक गतिविधियां न रुकने पाएं
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि दवाओं और उपकरण आदि का कम से कम एक महीने का स्टॉक तो अवश्य रखें। समस्त सरकारी एवं निजी अस्पतालों में व्यवस्थाओं को चाक-चौबंद रखें। बेड, ऑक्सीजन, चिकित्सक एवं दवाओं का पर्याप्त इंतजाम हो, यह सुनिश्चित करें। कोविड की दूसरी लहर के दौरान जितने निजी कोविड सेंटर बनाये गये थे, उनकी भी व्यवस्थाएं सुचारु कर दी जायें। उन्होंने कहाकि आर्थिक गतिविधियां न रुकें और गरीब का काम धंधा भी प्रभावित न हो, यह सुनिश्चित करते हुए हमें तीसरी लहर का जनता के सहयोग से मुकाबला करना है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

‘राजपूत नहीं, गुर्जर शासक थे पृथ्वीराज चौहान’, गुर्जर महासभा की मांग- फिल्म में दिखाया जाए ‘सच’

नयी दिल्ली 21 मई 2022 । राजस्थान के एक गुर्जर संगठन ने दावा किया कि …