मुख्य पृष्ठ >> अंतर्राष्ट्रीय >> अब गरजे डोनाल्ड ट्रंप, कहा- ईरान के 52 ठिकाने निशाने पर

अब गरजे डोनाल्ड ट्रंप, कहा- ईरान के 52 ठिकाने निशाने पर

नई दिल्ली 4 जनवरी 2020 । अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान को सीधी चेतावनी देते हुए कहा है कि यूएस आर्मी ने ईरान के 52 ठिकानों की पहचान कर ली है, और अगर ईरान किसी भी अमेरिकी संपत्ति या नागरिक पर हमला करता है तो इन पर बहुत तेजी से और बहुत विध्वंसक हमला करेगा.

ट्रंप का ये जवाब इराक में अमेरिकी दूतावास और बलाद सैन्य ठिकानों पर रॉकेट हमले के बाद आया है. बता दें कि टॉप ईरानी जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद भारतीय समय के मुताबिक शनिवार लगभग आधी रात को बगदाद में अमेरिकी दूतावास और बलाद एयर बेस पर ईरान समर्थक मिलिशिया रॉकेट से ताबड़तोड़ हमले किए हैं.

आतंकी नेता से दुनिया को मुक्ति दिलाई

इन हमलों के बाद फ्लोरिडा में छुट्टियां गुजार रहे ट्रंप ने भी धमकी भरा संदेश ईरान समेत दुनिया को दिया. ट्रंप ने कहा कि ईरान अमेरिकी ठिकानों पर बदले के तौर पर हमले की बात कर रहा है. ट्रंप ने कहा कि कासिम सुलेमानी को मारकर अमेरिका ने दुनिया आतंकी नेता से मुक्ति दिलाई जो कि अमेरिकी समेत कई लोगों को मार चुका था. इसमें कई ईरानी भी शामिल थे.ईरान के 52 ठिकानों की पहचान
ट्रंप ने कहा, “मैं ईरान को चेतावनी देता हूं कि यदि ईरान ने किसी भी अमेरिकी या अमेरिकी संपत्ति पर हमला किया तो हमने 52 ईरानी ठिकानों की पहचान की है (ईरान द्वारा बंधक बनाए गए 52 अमेरिकी बंदियों की याद में). इनमें से कई ठिकाने बेहद अहम हैं और ईरान की संस्कृति के लिए महत्वपूर्ण हैं. इन ठिकानों और ईरान को भी बहुत तेजी से और बेहद सख्ती के साथ निशाना बनाया जाएगा, अमेरिका अब किसी तरह की धमकी नहीं चाहता है.” ट्रंप ने अपनी बात पर जोर देने के लिए अंग्रेजी के कैपिटल अक्षरों का इस्तेमाल करते हुए लिखा, “Iran WILL BE HIT VERY FAST AND VERY HARD”आपको तलाशेगें और आपका खात्मा करेंगे

इराक में अमेरिकी ठिकानों पर हमले के बाद अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने हमलावरों को धमकी दी है और कहा है कि उन्हें तलाशा जाएगा और उनका खात्मा किया जाएगा. ट्रंप ने कहा, “मेरे नेतृत्‍व में आतंकवादियों के प्रति अमेरिका की नीति स्‍पष्‍ट है, जिन्‍होंने भी किसी अमेरिकी को नुकसान पहुंचाया है या ऐसा करने की सोच रहे हैं. हम आपको तलाशेंगे करेंगे और आपका खात्‍मा करेंगे. हम हमेशा अपने राजनयिकों और अपने लोगों की रक्षा करेंगे.”

अमेरिकी दूतावास पर रॉकेट हमला, मस्जिद पर लाल झंडा फहराकर ईरान ने किया जंग का ऐलान

अमेरिकी एयर स्ट्राइक में ईरानी कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत के बाद अब ईरान ने युद्ध का ऐलान कर दिया है. शनिवार सुबह ईरान ने जामकरन मस्जिद के ऊपर लाल झंडा फहराकर युद्ध के लिए अलर्ट किया है. बता दें कि ऐसे हालात में लाल झंडा फहराने का मतलब होता है कि युद्ध के लिए तैयार रहें या युद्ध शुरू हो चुका है. रिपोर्ट्स के मुताबिक ऐसा पहली बार हुआ है, जब ईरान ने इस तरह से मस्जिद पर लाल झंडा फहराया है.

कोम स्थित जामकरन मस्जिद के डोम पर आमतौर पर धार्मिक झंडे फहराए जाते हैं. ऐसे में धार्मिक झंडे को हटाकर लाल झंडा फहराने का मतलब युद्ध के ऐलान के रूप में लिया जा रहा है, क्योंकि लाल झंडे का मतलब दुख जताना नहीं होता है. जाहिर है कि ईरान अपने देशवासियों को उस स्थिति के लिए तैयार रहने को कह रहा है, जो उन्होंने पहले कभी नहीं देखा है. हालांकि ईरान और इराक के बीच युद्ध के दौरान भी लाल झंडा नहीं फहराया गया था.

दरअसल, हुसैन साहब ने कर्बला युद्ध के दौरान मस्जिद के ऊपर लाल झंडा फहराया था. लाल झंडा खून और शहादत का प्रतीक माना जाता है. ताजा हालात में इसका प्रयोग सुलेमानी ईरान के लिए बदले के तौर पर किया जा रहा है, जिसके लिए उन्हें शहादत के लिए तैयार किया जा रहा है. जामकारन मस्जिद को ईरान का सबसे पवित्र मस्जिद माना जाता है और यहां के युवाओं पर इसका काफी प्रभाव है.इराक में अमेरिकी दूतावास पर रॉकेट से हमला

सूत्रों के मुताबिक बगदाद के ग्रीन जोन में अमेरिकी दूतावास के भीतर कत्यूषा रॉकेट से हमला किया गया है. हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि इस हमले में कितने लोग हताहत हुए हैं. इस हमले के बाद बगदाद में आसमान पर अमेरिकी विमान उड़ने लगे. अमेरिकी दूतावास पर यह हमला उस समय हुआ है, जब अमेरिका ने ईरान के टॉप कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी को एयर स्ट्राइक में मार गिराया है.

ईरान ने सुलेमानी की मौत का बदला लेने का किया था ऐलान

अमेरिका की इस एयर स्ट्राइक के बाद ईरान ने अपने कमांडर सुलेमानी की मौत का बदला लेने का ऐलान किया था.

इससे पहले ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के डिप्टी कमांडर ने कहा था कि ईरान के शीर्ष सैन्य कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी को मार कर अमेरिका ने ईरान को जवाबी कार्रवाई करने की चुनौती दी है. सुलेमानी ईरान के टॉप कमांडर थे और शुक्रवार को बगदाद अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा के पास हुए अमेरिकी ड्रोन हमले में मारे गए थे.

सरकारी टेलीविजन ने रियर एडमिरल अली फदावी के हवाले से बताया, ‘हमले के बाद शुक्रवार सुबह… अमेरिकियों ने राजनयिक प्रयास बहाल किए.’ उन्होंने कहा, टअगर आप बदला चाहते हैं, तो आपको वैसा ही बदला मिलेगा, जैसा आप चाहते हैं.’

ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स (आईआरजीसी) कुद्स फोर्स के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी इराक की राजधानी बगदाद में अमेरिकी हवाई हमले में मारे गए.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

Jio 5G, JioBook और सस्ता 5G फोन? रिलायंस AGM में हो सकता है बड़ा ऐलान

नई दिल्ली 24 जून 2021 । देश की सबसे बड़ी कंपनी Reliance Industries की 44वीं …