मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> दिल्ली में आज भी कड़ाके की ठंड, 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ न्यूनतम तापमान

दिल्ली में आज भी कड़ाके की ठंड, 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ न्यूनतम तापमान

नई दिल्ली 29 दिसंबर 2019 । पूरा उत्तर भारत कड़ाके की ठंड की चपेट में है. पहाड़ी राज्यों समेत इस साल राजधानी दिल्ली (Delhi) में भी भयानक ठंड पड़ रही है. राजधानी दिल्ली में कड़ाके की ठंड (Delhi Temperature) के कारण मौसम विभाग ने शनिवार को ‘रेड अलर्ट’ जारी किया था. मौसम विभाग का यह अलर्ट शनिवार और रविवार के लिए जारी किया गया था. दरअसल, शनिवार की तरह की रविवार सुबह भी दिल्ली के कई हिस्सों का तापमान (Delhi Temperature) काफी कम हो गया है. रविवार को लोधी रोड का तापमान सबसे कम रहा. मौसम विभाग के मुताबिक रविवार सुबह लोधी रोड का तापमान 2.8 डिग्री दर्ज किया गया. वहीं पालम में 3.2 डिग्री और सफदरजंग में 3.4 डिग्री तापमान दर्ज किया गया. इस कारण शहर घने कोहरे की चादर में लिपटा रहा, जिससे विजिबिलिटी कम हो गई और इससे सड़कों पर वाहनों की आवाजाही पर असर पड़ रहा है. गौरतलब है कि 1992 के बाद से सफदरजंग में इस साल सबसे कम न्यूनतम तापमान (Delhi temperature) दर्ज किया गया है. 1930 के दशक के दौरान यहां का न्यूनतम तापमान 0.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. घने कोहरे की वजह से दिल्ली में हवाई और ट्रेन सेवाएं भी प्रभावित हुई हैं.
दिल्ली से पश्चिम बंगाल जा रहे एक युवक ने एनडीटीवी को बताया, ‘मेरी ट्रेन 4 घंटे लेट है. मेरी ट्रेन का वक्त शाम को 4:25 का था लेकिन यह रात को 8:30 बजे पहुंची.’ रेलवे अधिकारियों के अनुसार, खराब दृश्यता के कारण 24 ट्रेनों में दो से पांच घंटे तक की देरी हुई. हावड़ा नई दिल्ली पूर्वा एक्सप्रेस में पांच घंटे की देरी हुई.

वायु गुणवत्ता फिर बिगड़ी
राजधानी की वायु गुणवत्ता शनिवार को फिर से बिगड़ गई. तापमान गिरने, उच्च नमी और हवा की कम गति के कारण प्रदूषक तत्व एकत्रित हो गए. कुल वायु गुणवत्ता सूचकांक सुबह दस बजे तक 413 रहा. आईएमडी में वरिष्ठ मौसम विज्ञानी कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि रविवार को दिल्ली-एनसीआर में शीतलहर चलने और अत्यधिक ठंड रहने का अनुमान है. उन्होंने बताया कि 1992 से लेकर अब तक सफदरजंग वेधशाला में 30 दिसंबर, 2013 को न्यूनतम तापमान 2.4 डिग्री से. और 11 दिसंबर, 1996 को 2.3 डिग्री से. दर्ज किया गया था. 1930 में 27 दिसंबर को शून्य डिग्री तापमान दर्ज किया गया था जोकि एक रिकॉर्ड है.

दिल्ली में दिसंबर (Delhi Temperature) की सर्दी का यह आलम है कि यह 1901 के बाद दूसरी बार ऐसा हो सकता है, जब साल का आखिरी महीना इतना सर्द रहा हो. मौसम विभाग के अनुसार, दिल्ली में तापमान अभी और गिर सकता है.

बर्फीली ठंड का सितम जारी जबरदस्त शीत लहर की चपेट में कई राज्य
पहाड़ों पर बर्फबारी, सर्द हवाओं और घने कोहरे के कारण देश की राजधानी दिल्ली समेत समूचा उत्तर भारत बर्फीली ठंड से जम गया है।

दिल्ली-एनसीआर, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश से लेकर केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख की द्रास घाटी और जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर तक जबरदस्त शीत लहर से जनजीवन थम सा गया। पारा रोजाना नए रिकॉर्ड बना रहा है।
दिल्ली के सराय काले खान इलाके में सुबह तापमान गिरकर 2.0 डिग्री तक चला गया। दिसंबर में इस सीजन का यह न्यूनतम तापमान है। सर्दी के बदतर हालात को देख मौसम विभाग ने दिल्ली के लिए रेड अलर्ट जारी किया है।

वहीं, यूपी के कानपुर में यह दो डिग्री और लद्दाख के कारगिल जिले के द्रास में पारा -28.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मध्य प्रदेश के हिल स्टेशन पचमढ़ी में तापमान 1.2 डिग्री तक पहुंचा। राजस्थान के शेखावटी में न्यूनतम तापमान -4 डिग्री रहा।

छह राज्यों के लिए रेड अलर्ट
ठंड को देखते हुए छह राज्यों के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। इनमें जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और दिल्ली शामिल हैं।

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में सर्दी की वजह से झरना जम गया। शिमला में न्यूनतम तापमान 4 डिग्री रहा, जो दिल्ली के औसत 2.4 डिग्री से काफी ज्यादा है। पहाड़ों में हो रही भारी बर्फबारी के चलते तापमान में भारी गिरावट आई है।

घने कोहरे और तकरीबन शून्य दृश्यता के चलते दिल्ली आने-जाने वाली कम से कम चार उड़ानों के मार्ग बदले गए हैं। कोहरे की वजह से दिल्ली आने-जाने वाली 24 ट्रेनों के मार्ग बदले गए। दिसंबर से अब तक 8 सर्द दिवस और 7 गंभीर सर्द दिवस रिकॉर्ड हो चुके हैं।

भीषण ठंड के बीच वायु प्रदूषण ने भी हाला बदतर कर दिया है। दिल्ली, यूपी समेत कई शहरों में वायु प्रदूषण की स्थिति बदतर रही। दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक 413 रहा । जिसके चलते सांसों पर संकट बढ़ा है। कानपुर में में यह 291 और लखनऊ में 338 के खतरनाक स्तर पर रहा।

दिल्ली: 15 दिनों से लगातार शीतलहर का बना रिकॉर्ड
दिल्ली शनिवार को लगातार 15वें दिन सबसे सर्द रहा। 1901 के बाद यहां सबसे ज्यादा ठंडा दिसंबर रहा है। 1997 में आखिरी बार इसी तरह की ठंड से दो चार हुआ था। दिल्ली में 30 दिंसबर 2013 को भी पारा 2.4 डिग्री रहा और वहीं 11 दिसंबर, 1996 को 2.3 डिग्री और 27 दिसंबर 1930 को शून्य डिग्री दर्ज हुआ था।

राजस्थान: सीकर में पारा माइनस में, खेतों पर पड़ा पाला
राजस्थान में सीकर में पारा -1 पर चला गया। जयपुर में पारा पांच साल बाद फिर 4 डिग्री तक गिर गया। जयपुर जिले के जोबनेर में तापमान -1 डिग्री दर्ज किया गया। माउंट आबू में -1.5 डिग्री दर्ज हुआ। सर्दी का आलम यह है कि सुबह छतों, खेतों और गाड़ियों में पाले की परत जम गई है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

किश्तवाड़ में बादल फटने से पांच की मौत, 40 से ज्यादा लोग लापता

नई दिल्ली 28 जुलाई 2021 ।  जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश का कहर देखने को मिला …