मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> चंदा कोचर के खिलाफ FIR दर्ज, CBI ने बनाया आरोपी

चंदा कोचर के खिलाफ FIR दर्ज, CBI ने बनाया आरोपी

नई दिल्ली 25 जनवरी 2019 । CBI ने ICICI बैंक की पूर्व एमडी एवं सीईओ चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन ग्रुप के एमडी वेणुगोपाल धूत के खिलाफ FIR दर्ज किया है. सीबीआई का आरोप है कि चंदा कोचर ने आपराधिक षडयंत्र के तहत एक प्राइवेट कंपनी का लोन मंजूर किया, जबकि अन्य आरोपियों पर आईसीआईसीआई बैंक से धोखाधड़ी करने का आरोप है.

इससे पहले, CBI ने गुरुवार सुबह वीडियोकान, न्यूपावर के ऑफिसेस में छापेमारी भी की है. छापेमारी मुंबई और औरंगाबाद समेत 4 जगहों पर हुई है. आपको बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में वीडियोकॉन समूह को लोन दिए जाने के मामले में आरोपों का सामना कर रही चंदा कोचर ने आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ, प्रबंध निदेशक और बैंक के सब्सिडिअरी के बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर के पद को छोड़ दिया था.

सीबीआई की छापेमारी- वीडियोकॉन के दफ्तर में छापेमारी जारी है. मुंबई के नरीमनपॉइंट दफ्तर समेत 4 जगहो पर सीबीआई की छापेमारी चल रही है. इस मामले में चंदा और उनके पति के शामिल होने की आशंका की लंबे समय से जांच हो रही है.

क्या है मामला-चंदा कोचर पर मार्च 2018 में अपने पति को आर्थिक फ़ायदा पहुंचाने के लिए अपने पद के दुरुपयोग का आरोप लगाया गया था. मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकोन समूह को 3,250 करोड़ रुपये का लोन मुहैया कराया था.

वीडियोकॉन ग्रुप की पांच कंपनियों को आईसीआईसीआई बैंक ने अप्रैल 2012 में 3250 करोड़ रुपये का लोन दिया. ग्रुप ने इस लोन में से 86% यानी 2810 करोड़ रुपये नहीं चुकाए. 2017 में इस लोन को एनपीए (नॉन परफॉर्मिंग असेट्स) में डाल दिया गया.मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वीडियोकॉन समूह के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत के कोचर के पति दीपक कोचर के साथ व्यापारिक संबंध थे. (ये भी पढ़ें-रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी! ट्रेन लेट है या टाइम पर अब आपको मिलेगी सटीक जानकारी)

वीडियोकॉन ग्रुप की मदद से बनी एक कंपनी बाद में चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की अगुवाई वाली पिनैकल एनर्जी ट्रस्ट के नाम कर दी गई. यह आरोप लगाया गया कि धूत ने दीपक कोचर की सह स्वामित्व वाली इसी कंपनी के ज़रिए लोन का एक बड़ा हिस्सा स्थानांतरित किया था. आरोप है कि 94.99 फ़ीसदी होल्डिंग वाले ये शेयर्स महज 9 लाख रुपये में ट्रांसफ़र कर दिए गए.

वीडियोकॉन के दफ्तरों पर सीबीआई के छापे

वीडियोकॉन के दफ्तरों पर सीबीआई के छापे
मुंबई. सीबीआई ने वीडियोकॉन कंपनी के मुंबई और औरंगाबाद स्थित दफ्तरों पर छापेमारी की है। सीबीआई ने वीडियोकॉन ग्रुप के न्यूपावर रिन्यूएबल्स के साथ लेन-देन से जुड़े मामले में एफआईआर भी दर्ज की है। न्यूपावर आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की कंपनी है।

वीडियोकॉन ग्रुप की पांच कंपनियों को आईसीआईसीआई बैंक ने अप्रैल 2012 में 3,250 करोड़ रुपए का लोन दिया। ग्रुप ने इस लोन में से 86% यानी 2810 करोड़ रुपए नहीं चुकाए। इसके बाद लोन को 2017 में एनपीए घोषित कर दिया गया। लोन स्वीकृत करने वाले कंसोर्टियम की कमेटी में चंदा कोचर शामिल थीं। चंदा कोचर पर पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगा। यह आरोप भी लगे कि वीडियोकॉन के फाउंडर वेणुगोपाल धूत ने न्यूपावर रिन्यूएबल्स में निवेश किया था।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

ये तो छोड़कर चले गए थे…अशोक गहलोत ने सचिन पायलट गुट के विधायकों पर कसा तंज

नयी दिल्ली 4 दिसंबर 2021 । अशोक गहलोत और सचिन पायलट राजस्थान कांग्रेस में सबकुछ अच्छा …