मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> सार्वजनिक प्लेटफार्म पर कोरोना संक्रमित के नाम जाहिर किये तो FIR दर्ज होगी

सार्वजनिक प्लेटफार्म पर कोरोना संक्रमित के नाम जाहिर किये तो FIR दर्ज होगी

उज्जैन 25 मई 2020 । कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी श्री आशीष सिंह ने मध्य प्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट की धारा 71(1) एवं 72(2) के तहत उज्जैन शहर के पानदरिबा थाना महाकाल, रामी नगर थाना माधव नगर, आगर रोड अहमद नगर थाना चिमनगंज, बेगमबाग थाना महाकाल, महाश्वेता नगर थाना माधव नगर, ब्राह्मणवाड़ा निजातपुरा थाना कोतवाली, भुवनेश्वरी कॉलोनी थाना चिमनगंज, शंकराचार्य मार्ग थाना खाराकुंआ तथा हनुमान नाका गधा पुलिया थाना नीलगंगा के चिन्हित किये गये क्षेत्र को कंटेंनमेंट एरिया (कोरोना वायरस प्रभावित क्षेत्र) घोषित कर दिया है। प्रत्येक कंटेनमेंट एरिया के लिये इंसीडेंट कमांडर पुलिस अधिकारी एवं नगर निगम के अधिकारी की नियुक्ति की गई है।
कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी द्वारा जारी आदेश अनुसार कंटेनमेंट एरिया के अन्तर्गत पूर्ण रूप से आवागमन प्रतिबंधित रहेगा। कंटेनमेंट एरिया के समस्त निवासियों का होम क्वारेंटाईन में रहना होगा। एरिया हेतु सीएमएचओ द्वारा विशेष आरआरपी जिसके अन्तर्गत एक फिजिशियन, एक पैथालॉजिस्ट, एपीडिमियोलॉजिस्ट, माइक्रो बायोलॉजिस्ट,  डाक्यूमेंटेशन स्टाफ रखा जाना एवं मोबाइल युनिट जिसके अन्तर्गत एक मेडिकल आफिसर, एक पैरामेडिकल स्टाफ, लैब टेक्निशियन एवं डाक्यूमेंटेशन का गठन किया जायेगा। उक्त क्षेत्र के एक्जिट पाइंट पर स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा सतत स्क्रीनिंग की जायेगी। समस्त संक्रमण के पॉजीटिव केस के परिजन, निकट सम्पर्क को होम क्वारेंटाईन कराया जाना अतिआवश्यक होगा, जिससे संक्रमण को समुदाय में फैलने से रोका जा सके। आगे संक्रमण फैलने से रोकने हेतु त्वरित कार्यवाही की जायेगी। नगर निगम के झोनल अधिकारी द्वारा क्षेत्र का सेनीटाइजेशन किया जायेगा।

सरकार और जनता को “छल” रहे शराब ठेकेदार

प्रदेश में लॉक डाउन का फायदा उठाकर शराब ठेकेदार दोहरे फायदें के लिए शराब की दुकानें खोलने में आनाकानी कर रहे है, शराब ठेकेदार एक और तो सरकार से लॉक डाउन अवधि में दुकाने बंद रहने की रियायत चाहते है वहीं दूसरी और प्रदेशभर में तीन गुना दामों पर अवैध रूप से शराब बेचकर चौतरफा फायदा उठा रहे है हालांकि इनकी ये कारिस्तानी अब अधिक समय तक नही चलना है क्योंकि गृह मंत्री ने स्पस्ट निर्देशित किया है कि 27 मई तक दुकाने नही खोलने की स्थिति में ठेकेदारों को ब्लैक लिस्टेड कर दिया जाएगा और ठेके अन्य ठेकेदारों को दे दिए जाएंगे । सरकार से निर्देश मिलने के बाद अब शराब ठेकेदार कोरोना बीमारी का भय दिखाकर कुछ दिन और दुकाने बंद रखना चाहते है ताकि सरकार पर दबाव बने और वह लॉक डाउन अवधि का राजस्व माफ कर दे वहीं इस अवधि के दौरान ठेकेदार कुछ दिन और अपना रखा हुआ माल तीन गुने दामो पर बेचकर करोड़ो के वारे न्यारे कर सके इसे कहते है चित भी मेरी और पुट भी मेरी ।

अभी ये है कीमत
शराब की कीमतों में बीते दिनों में अप्रत्याशित बढ़ोतरी हुई है आलम यह रहा कि 400 रुपये में मिल जाने वाली MD, IB की बोतल 1000- 1200 रुपये में बेची गई, वहीं 500-600 में मिलने वाली RS, RC के दाम 1400-1600 कर दिए , 700-800 में मिलने वाली Signature और Blender 1600-2000 तक बेची गई । यह वह रेट है जिसमें ठेकेदारों ने शराब अवैध शराब विक्रेताओं को दी और इस पर विक्रेताओं ने अपना कमीशन जोड़कर इसे और अधिक दरों पर बेचा । रातों रात शराब दुकानों और कलालियो से शराब की तस्करी होती रही और प्रशासन देखता रह गया । आज भी प्रदेश के हर शहर में दो नम्बर में शराब बेची जा रही है यह शराब कोई डायरेक्ट कम्पनियों से नही लाया है एयर न ही किसी ने बनाकर बेची है यह शराब ठेकेदारों ने ही अपनी अपनी दुकानों गोडाउनो से दो नम्बर में बेची है, कई ने तो स्टॉक मिलाने और सीलबन्दी के डर से शराब दुकानों में चोरी होने तक कि रिपोर्ट दर्ज करा रखी है वहीं किसी ने आबकारी की मिलीभगत से जमकर शराब तस्करी की है और आज भी यह अवैध कारोबार धड़ल्ले से जारी है, नाको से शराब अंदर आना लगभग नामुमकिन है ऐसे में स्पस्ट है कि हर ठेकेदार ने अपने पीने जिले में जीभरकर शराब दो नम्बर में बेचकर कोरोडो रुपये कमाए है ।

अब ये है डर
शराब ठेकेदार लगातार दुकाने खोलने से मना इसीलिए कर रहे है क्योंकि जब उनका माल दो नम्बर में धड़ल्ले से बिक रहा है और 500 की बोतल के 1500 रुपये मिल रहे है तो फिर जबरन दुकाने खोलकर कम लाभ का धंधा क्यों करें ऊपर से सरकार को इन दो महीनों का राजस्व भी देना पड़ेगा लिहाजा ठेकेदार अब सरकार पर दबाव बनाकर कुछ दिन और दोहरे फायदे के मूड में है हालांकि गृह मंत्री के निर्देशों के बाद अब इनके पास कोई रास्ता नही बचा है लिहाजा अब ये कोरोना बीमारी का डर दिखाकर दुकानें बंद रखना चाहते है जबकि सरकार स्पस्ट कर चुकी है कि सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के साथ दुकानें खोली जाए ।

नोट – खबर बेईमान और दो नम्बरी ठेकेदारों की करतूत पर लिखी है कोई भी ईमानदार और निष्ठावान ठेकेदार बुरा न माने । जो ईमानदार ठेकेदार तस्करी नही कर रहा है तो उसे फिर अपने जिले और क्षेत्रों में अवैध बिक रही शराबों को सरकार से पकड़वाकर ईनाम लेना चाहिए , या फिर 2 नम्बर में भी पुरानी कीमतों पर शराब बेचे और सरकार से रियायत ले लें नही तो फिर चुपचाप दुकाने खोलें क्योंकि कोरोना 2-4 दिन की बीमारी नही है जो रियायत दे दी जाए, खुद WHO कह चुका है कि अब हमें कोरोना के साथ ही जीना है तो फिर लोगो को शराब से वंचित रखना उचित नही है और अगर इन्हें कोरोना का इतना ही डर है तो जनहित में आधी कीमत में शराब बेचकर जनता की सेवा ही कर लेवें ।

शराब दुकानें खुलीं और कोरोना फैला तो जिम्मेदार कौन
नागदा में आबकारी उपनिरीक्षक के कोरोना पॉजीटिव आने के बाद जिले में आबकारी विभाग के साथ ही शराब दुकान संचालित करने वालों में दहशत का माहौल है। वहीं सवाल उठ रहे हैं कि प्रशासन द्वारा शराब की दुकानें खुलवाने के आदेश दिये जा रहे हैं ऐसे में यदि दुकानें खुली और कोरोना फैला तो प्रशासन इसके लिए किसे जिम्मेदार ठहराएगा।
शराब के लायसेंसी ठेकेदार विवेक जायसवाल ने बताया कि बगैर कोरोना से बचाव के उपाय, सावधानी के शराब दुकानें खोलना जानलेवा हो सकता है। 20 मई को शासन द्वारा जिले की शराब दुकाने खुलवाने के आदेश दिये गये हैं ऐसे में विवेक जायसवाल ने अपना पक्ष रखते हुए बताया था कि कोरोना के माहौल में शराब दुकानें खोलना जानलेवा हो सकता है। जायसवाल ने निवेदन किया था कि जब तक स्थिति खराब है दुकानें नहीं खोली जाएं। क्योंकि कोरोना किसी से भी किसी को हो सकता है। शराब दुकान पर काम करने वाले कर्मचारी से किसी व्यक्ति को या किसी व्यक्ति से कर्मचारी को हुआ तो दोनों हालात में स्थिति बिगड़ेगी। ऐसे में महामारी फैलती है तो प्रशासन किसे जिम्मेदार ठहराएगा। आबकारी विभाग को शराब दुकानें खुलवाने हेतु जिम्मेदारी सौंपी जाएगी ऐसे में अब नागदा का आबकारी उपनिरीक्षक ही कोरोना पॉजिटिव निकल गये। दुकानें खुलने के बाद ऐसी कोई स्थिति बनती तो प्रशासन तो ठेकेदार पर ही कार्यवाही करता। ऐसे में विवेक जायसवाल ने अनुरोध किया है कि कोरोना महामारी में शराब दुकानें खुलवाने के आदेश पर पुनर्विचार किया जाए। ज्ञातव्य रहे कि प्रशासन के साथ हुई बैठक में जनप्रतिनिधियों ने भी जब तक लॉकडाउन जारी है शराब दुकानें बंद रखने की बात कही थी।

 

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

सुनील गावस्कर ने बताया, महेंद्र सिंह धोनी के बाद कौन सा बल्लेबाज नंबर-6 पर बेस्ट फिनिशर की भूमिका निभा सकता है

नयी दिल्ली 22 जनवरी 2022 । दक्षिण अफ्रीका दौरे पर टेस्ट के बाद भारत को …