मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> आदेश का पालन करो, अर्जी मत डालो; सेना में महिलाओं को स्थायी कमीशन देने के फैसले पर बोला सुप्रीम कोर्ट

आदेश का पालन करो, अर्जी मत डालो; सेना में महिलाओं को स्थायी कमीशन देने के फैसले पर बोला सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली 01 अगस्त 2021 । सेना में शॉर्ट सर्विस कमीशन पर तैनात महिलाओं को सुप्रीम कोर्ट ने स्थायी कमीशन में नियुक्त करने का आदेश दिया है, जिन्हें असेसमेंट में 60 फीसदी नंबर मिले हैं। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा है कि स्पेशल 5 सेलेक्शन बोर्ड के असेसमेंट में 60 फीसदी अंक हासिल करने वाली महिला सैन्यकर्मियों को स्थायी कमीशन में नियुक्त दी जाए। इसके साथ ही शीर्ष अदालत ने 25 मार्च को दिए अपने आदेश में किसी भी तरह के बदलाव की याचिका पर सुनवाई करने से भी इनकार कर दिया। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और एमआर शाह की बेंच ने कहा कि सरकार को हमारे पिछले आदेश के पालन के लिए जमीनी स्तर पर काम करना चाहिए। शीर्ष अदालत ने कहा कि केंद्र सरकार को आदेश में किसी भी तरह के बदलाव के लिए अर्जी नहीं दाखिल करनी चाहिए। केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से पूछा था कि क्या 60 फीसदी से ज्यादा अंक हासिल करने वालीं जो अफसर अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना कर रही हैं, उन्हें भी स्थायी कमीशन दिया जाए? इस पर शीर्ष अदालत ने कहा कि यह फैसला आर्म्ड फोर्सेज ट्राइब्यूनल को करना है कि ऐसी महिला सैन्यकर्मियों को तैनाती मिलनी चाहिए या नहीं।

अदालत ने की थी कड़ी टिप्पणी, बेतुके हैं सेना के पैमाने
इससे पहले शीर्ष अदालत ने 25 मार्च को दिए अपने आदेश में कहा था कि स्थायी कमीशन में महिलाओं की नियुक्ति को लेकर सेना के पैमाने बेतुके और मनमाने हैं। कोर्ट ने कमीशन को लेकर महिलाओं के लिए मेडिकल फिटनेस की आवश्यकता को ‘मनमाना’ और ‘तर्कहीन’ माना। इसके साथ साथ ही कहा था कि ‘हमारे समाज की संरचना पुरुषों द्वारा पुरुषों के लिए बनाई गई है।’ कोर्ट की इस टिप्पणी को रुख में बड़े बदलाव के तौर पर देखा गया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि कि सेना की वार्षिक गोपनीय रिपोर्ट (एसीआर) मूल्यांकन और देर से लागू होने पर चिकित्सा फिटनेस मानदंड महिला अधिकारियों के खिलाफ भेदभाव करता है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

पंजाब कांग्रेस का सस्पेंस बरकरार, नाराज सुनील जाखड़ को अपनी फ्लाइट में दिल्ली लाए राहुल-प्रियंका गांधी

नई दिल्ली 23 सितम्बर 2021 । चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाने के बावजूद पंजाब …