मुख्य पृष्ठ >> प्रदेश >> मध्यप्रदेश >> उज्जैन / भोपाल >> मध्य प्रदेश के पीडीएस से बांटे जा रहे अनाज में फर्जीवाड़ा, जिसने कभी अनाज नहीं लिया उसके नाम गेहूं-चावल देने का मैसेज पहुंच गया

मध्य प्रदेश के पीडीएस से बांटे जा रहे अनाज में फर्जीवाड़ा, जिसने कभी अनाज नहीं लिया उसके नाम गेहूं-चावल देने का मैसेज पहुंच गया

भोपाल 07 अप्रैल 2022 । मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मंशा है कि गरीब के सस्ते अनाज वितरण में कोई गड़बड़ी नहीं हो लेकिन बिगड़ी व्यवस्था में अभी भी सस्ता व मुफ्त अनाज देने वाले दुकानदार अनाज की हेरा-फेरी कर रहे हैं। जिस व्यक्ति ने कभी सस्ता अनाज का इस्तेमाल नहीं किया, वैसे व्यक्तियों के नाम से दुकानदार गरीबों के अनाज की हेरा-फेरी कर रहे हैं। एसएमएस से इस फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है मगर इसकी सीएम हेल्प लाइन में शिकायत तक दर्ज नहीं की जा रही है। मध्य प्रदेश में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से वितरित होने वाले सस्ते अनाज को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान काफी गंभीर हैं और मंच से अफसरों को चेतावनी दे रहे हैं कि गरीबों के अनाज मं गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं की जाएगी मगर इसके बाद भी हेराफेरी करने वाले लगातार सक्रिय हैं। गरीबों का अनाज इधर-उधर करने वाले सार्वजनिक वितरण प्रणाली के दुकानदार कई ऐसे लोगों के नाम से सस्ता अनाज यहां-वहां कर रहे हैं जो यह लेते ही नहीं हैं।

रेलवे कर्मचारी के नाम बांट दिया गेहूं-चावल डीआरएम ऑफिस के एक रेलवे कर्मचारी मुकेश अवस्थी के पास एक एसएमएस आया कि आपको अप्रैल महीने का 16 किलोग्राम गेहूं और चार किलोग्राम चावल निर्धारित दर पर दिया गया है। इस एसएमएस में नमक, शक्कर, केरोसीन नहीं लेना बताया गया। इसी तरह प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में शून्य आवंटन की जानकारी दी गई। रेलवे कर्मचारी अवस्थी का कहना था कि उन्होंने सालों पहले राशनकार्ड बनवाया था लेकिन जब से बीपीएल या अन्य तरह के राशनकार्ड बन रहे हैं तब से राशनकार्ड नहीं बनवाया।

सीएम हेल्प लाइन में शिकायत दर्ज नहीं
पीडीएस में हो रहे इस फर्जीवाड़े की जब अवस्थी ने सीएम हेल्प लाइन में शिकायत दर्ज कराने की कोशिश की तो उनसे कई तरह के सवाल पूछे गए। अधिकारी का नाम पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें पता नहीं किस अधिकारी ने यह गड़बड़ी की है क्योंकि वे तो एसएमएस के आधार पर शिकायत कर रहे हैं। उन्हें दुकान कोड क्रमांड 3608007 से आवंटन का एसएमएस आया है तो दुकानदार के खिलाफ शिकायत दर्ज कर लें। मगर इसके बाद भी शिकायत दर्ज नहीं की गई। ऐसे में पीडीएस से गरीबों के सस्ते और मुफ्त अनाज वितरण की योजना में हो रहे फर्जीवाड़े में सामने आने वाले लोगों को हतोत्साहित किया जा रहा है।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा, हिंदू पक्ष ने किया दावा-‘बाबा मिल गए’; कल कोर्ट में पेश होगी रिपोर्ट

नयी दिल्ली 16 मई 2022 । ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा हो गया है। तीसरे …