मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> IAS अफसरों पर बिफरे गडकरी- ताकत होती तो नौकरी नहीं करते

IAS अफसरों पर बिफरे गडकरी- ताकत होती तो नौकरी नहीं करते

नई दिल्ली 20 जनवरी 2020 । केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आईएएस अफसरों को लेकर लताड़ लगाई. नागपुर में विश्वेश्वरैया राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के हीरक जयंती समारोह के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते नितिन गडकरी ने कहा, ‘मैं आपको सच बताता हूं, पैसे की कोई कमी नहीं है, जो कुछ कमी है वो सरकार में काम करने वाली जो मानसिकता है, जो निगेटिव एटीट्यूड है, निर्णय करने में जो हिम्मत चाहिए, वो नहीं है.’

नितिन गडकरी ने कहा, ‘इसलिए मैं परसों हमारे एक बड़े फोरम में था तो कह रहे थे हमें यह शुरू करेंगे, वो शुरू करेंगे, तो मैंने उनको कहा आप क्यों शुरू करेंगे? आपकी अगर शुरू करने ताकत होती तो आप आईएएस अफसर बनकर यहां नौकरी नहीं करते.

नितिन गडकरी ने अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि आप जाकर कोई बड़ा उद्योग कर सकते थे, आपका काम नहीं है ये करने का, जो कर सकता है उसकी आप ज्यादा मदद करो, आप इस लफड़े में मत पड़ो. वी आर ओनली फैसिलिटेटर.’

‘वहां काम करें, जहां आप बेहतर हैं’

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि लोगों को उस क्षेत्र में काम करना चाहिए, जिसमें वे अच्छा कर सकते हैं. नितिन गडकरी इससे पहले रविवार को छत्रपति नगर के एक ग्राउंड में क्रिकेट भी खेला. उन्होंने शहर के कई ग्राउंड्स का दौरा किया, साथ ही खासदर क्रीड़ा महोत्सव के खिलाड़ियों की हौसला अफजाई भी की.

महिला डिप्टी कलेक्टर पर बरसे शिवराज

मध्य प्रदेश के राजगढ़ में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन में प्रदर्शन के दौरान डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा का एक प्रदर्शनकारी को पीटने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने इस घटना पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है.

शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, आज का दिन लोकतंत्र के सबसे काले दिनों में गिना जाएगा. आज राजगढ़ में डिप्टी कलेक्टर साहिबा ने जिस बेशर्मी से CAA के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं को लताड़ा, घसीटा और चांटे मारे, उसकी निंदा मैं शब्दों में नहीं कर सकता. क्या उन्हें प्रदर्शनकारियों को पीटने का आदेश मिला था?

असल में, प्रशासन सीएए के समर्थक प्रदर्शनकारियों को रोकने की कोशिश कर रहा था और बीचे रास्ते में प्रदर्शन कर रहे लोगों को वहां से हटा रहा था. इसी दौरान डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा एक प्रदर्शनकारी को थप्पड़ मारने लगीं. तभी किसी प्रदर्शनकारी ने डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा के बाल खींच दिए.

संसद में पारित किए गए नागरिकता संशोधन कानून को लेकर मध्य प्रदेश में तकरार बढ़ती ही जा रही है. इस कानून के विरोध और समर्थन का दौर जारी है. पिछले दिनों इस कानून के विरोध में लगातार राजधानी के इकबाल मैदान में लोगों ने जमा होकर गुस्से का इजहार किया. इस आयोजन में कांग्रेस के नेताओं ने भी हिस्सा लिया. सीएए के समर्थन में भी रैलियां निकाली गईं. रविवार को राजगढ़ में एक ऐसी ही रैली आयोजित की गई थी जिसमें एक प्रदर्शनकारी को मारने की घटना सामने आई.

मंडला के कलेक्टर पर विवाद

अभी हाल में मंडला जिले के कलेक्टर जगदीश प्रसाद जटिया की ओर से सीएए के खिलाफ ककी गई टिप्पणी विवादों में आ गई थी. बीजेपी ने जटिया पर सेवा शर्तों के उल्लंघन का आरोप लगाया. वहीं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्यपाल लालजी टंडन से शिकायत की. मंडला के कलेक्टर जड़िया ने फेसबुक पर सीएए केा लेकर टिप्पणी की थी. इस पर बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, सांसद वी.डी. शर्मा ने इस टिप्पणी पर आति दर्ज कराई. साथ ही कहा कि कलेक्टर जटिया ने सेवा शर्तों का उल्लंघन किया. जो कानून बन चुका है, उसका कलेक्टर की ओर से विरोध किया जाना गलत है.

क्यों वायरल हो रहा है मध्य प्रदेश की डिप्टी कलेक्टर का वीडियो

एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. गुलाबी रंग का कोट पहने एक महिला इस वीडियो में कुछ प्रदर्शनकारियों को धकेलती नज़र आ रही हैं.

वीडियो में दिखता है कि कुछ देर बाद यही महिला एक प्रदर्शनकारी को पकड़ती हैं और फिर थप्पड़ मारती हैं. यह महिला दरअसल मध्य प्रदेश के राजगढ़ की डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा हैं.

राजगढ़ में धारा 144 लागू है, बावजूद इसके बीजेपी के कुछ कार्यकर्ताओं ने बरौरा क़स्बे में नागरिकता संशोधन क़ानून के समर्थन में रैली निकाली थी. इसके बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो गई. ये वीडियो उसी झड़प के दौरान का है.

इस वीडियो को समाचार एजेंसी एनएनआई ने भी जारी किया है जिसमें एक जगह पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हाथापाई हो रही है. प्रिया वर्मा भी वहीं मौजूद थीं और इसी बीच किसी ने उनके बाल खींच दिए.21 साल की उम्र में डीएसपी बनीं प्रिया वर्मा इंदौर के पास के एक गांव मांगलिया की रहने वाली हैं.

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- ‘कांग्रेस न सदन चलने देती है और न चर्चा होने देती’

नई दिल्ली 27 जुलाई 2021 । संसद शुरू होने से पहले भाजपा संसदीय दल की …