मुख्य पृष्ठ >> खास खबरें >> गोडसे की अस्थियां आज भी एक रियल एस्टेट कंपनी के पास क्यों रखी हुई हैं

गोडसे की अस्थियां आज भी एक रियल एस्टेट कंपनी के पास क्यों रखी हुई हैं

नई दिल्ली 3 फरवरी 2019 । 30 जनवरी 1948 को गांधी जी को गोली मारने के बाद नाथूराम को आरेस्‍ट कर लिया गया था, उसके साथ ही उनके 5 साथियों को भी आरेस्‍ट किया गया था।

गोडसे ने अदालत में अपने बयान दर्ज करवाये। गांधी जी को मारने का मुख्‍य कारण भारत पाकिस्‍तान के विभाजन से वह खुश नही थे। एक साल तक चली सुनवाई के बाद उन्‍हें फांसी की सजा सुनाई गयी।

गोडसे की भतीजी हिमानी सावरकर कहती हैं कि हमें तब बहुत बुरा लगता है जब लोग गोडसे को इतिहास की किताबों में उन्‍हें सिरफिरा कहते है जबकि उन्‍होंने गांधी जी की हत्‍या पूरें होश हवास में की थी। गोडसे उस समय ‘’दैनिक अग्रणी’’ पत्र के संपादक थे जो बाद में ‘’हिंदू राष्‍ट्र’’ के नाम से जाना जाने लगा था।

अस्थियां न विसर्जित करने का कारण-

गोडसे परिवार ने उनकी अंतिम इच्छा का सम्मान करते हुए उनकी अस्थियों को अभी तक चाँदी के एक कलश में सुरक्षित रखा गया है. हिमानी कहती हैं, ”उन्होंने लिखकर दिया था कि मेरे शरीर के कुछ हिस्से को संभाल कर रखो और जब सिंधु नदी स्वतंत्र भारत में फिर से समाहित हो जाए और फिर से अखंड भारत का निर्माण हो जाए, तब मेरी अस्थियां उसमें प्रवाहित कीजिए. इसमें दो-चार पीढ़ियाँ भी लग जाएं तो कोई बात नहीं.”

दोस्‍तों नाथूराम की अंमिम इच्‍छा पढ़कर आप उनके बारे में क्‍या कहेंगे, इस पर अपनी राय कमेंट बॉक्‍स में जरूर बताए। ऐसी जानकारी के लिए हमारे चैनल को फॉलो करें।

शेयर करें :

इसे भी पढ़ें...

कोरोना महामारी के चलते सादे समारोह में ममता बनर्जी ने ली शपथ

नई दिल्ली 05 मई 2021 । तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की सुप्रीमो ममता बनर्जी ने राजभवन …